मुख्यमंत्री ने परागपुर जलापूर्ति के संवर्द्धन की घोषणा की
ऽ        कस्बा-कोटला बनेगा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र
ऽ        परागपुर क्षेत्र में स्थापित होंगे 25 हैंडपम्प
ऽ        कलोहा हाई स्कूल को वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला का दर्जा
धर्मशाला, 28 मई – मुख्यमंत्री श्री वीरभद्र सिंह ने आज कांगड़ा जिला के जसवां परागपुर विधानसभा क्षेत्र के परागपुर में एक जनसभा को सम्बोधित करते हुए सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग सुनहेत मण्डल के अन्तर्गत क्षेत्र में आवश्यकतानुसार अथवा जो बस्तियां पानी की कमी से जुझ रही है में, 25 हैंडपम्प स्थापित करने की घोषणा की।
मुख्यमंत्री ने परागपुर गांव की पेयजल आपूर्ति योजना के संवर्द्धन की भी घोषणा की। इसके अतिरिक्त, उन्होंने राजकीय उच्च पाठशाला कलोहा को वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला में स्तरोन्नत करने तथा गरली व भाडोली-जादीद गांव की पेयजल योजना के संवर्द्धन करने की घोषणा की। उन्होंने सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को योजना के संवर्द्धन और जहां पर नई योजनाओं की आवश्यकता है, के बारे में सर्वेक्षण कर शीघ्र रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए।
इससे पूर्व, मुख्यमंत्री ने प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र कस्बा कोटला को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में स्तरोन्नत करने तथा राजकीय उच्च पाठशाला, तयामल को राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला में स्तरोन्न्त करने की घोषणा की। उन्होंने लोक निर्माण विभाग को नेहरन पुखर स्थित अम्बेदकर भवन में चार दीवारी, शौचालय व रसोई के निर्माण के निर्देश दिए तथा इस बारे आकलन तैयार करने को भी कहा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि चुनाव के दौरान अनेक लोग बिना किसी एजेंडे से अपना भाग्य अजमाने आते हैं, वे सत्ता में आने के लिए सरल उपाय अपनाते हैं और लोगों को जाति, धर्म व क्षेत्र के आधार पर बांटने का प्रयास करते हैं। हमें ऐसे विघटनकारी ताकतों से सचेत रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमें सभी धर्मों का आदर करना चाहिए तथा प्रत्येक व्यक्ति को अपनी इच्छानुसार अपने धर्म पर चलने का अधिकार है।
श्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि परागपुर गांव को धरोहर गांव घोषित किया गया है, जिसका अपना समृद्ध इतिहास है और इसे आगे बढ़ाया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार सभी क्षेत्रों के लोगों को आधारभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाने के प्रति वचनबद्ध है। उन्होंने कहा कि उन्हें यह जानकर प्रसन्नता हुई है कि हाल ही में हुए पंचायती चुनाव में पुरूषों की अपेक्षा अधिक महिला उम्मीदवार विजयी हुई है। उन्होंने उम्मीद जताई कि महिलाएं पुरूषों के मुकाबले बेहतर कार्य करेंगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि एनडीए सरकार अपने वायदे पूरा करने में विफल रही है, जिससे उसका लोगों में ग्राफ गिरा है। उन्होंने कहा कि हम विकास की बात करते है, तो विपक्ष हमेशा ही विकास न करने के लिए कांग्रेस को दोषी ठहराता है, जबकि वास्तविकता यह है कि बीते दिनों में प्रदेश में अभूतपूर्व विकास हुआ है। उन्होंने कहा कि कोई भी हिमाचल में हुए विकास पर उंगली नहीं उठा सकता। उन्होंने कहा कि राज्य के गठन के पहले दिन से ही प्रदेश विकास के पथ पर अग्रसर है और आज हम देश के पहाड़ी राज्यों में स्वास्थ्य, शिक्षा तथा सड़क जैसे विकास के विभिन्न क्षेत्रों में आदर्श बनकर उभरे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में हुए तीव्र विकास का श्रेय यहां के परिश्रमी लोगों तथा राज्य व केन्द्र की सत्तासीन रही कांग्रेस सरकारों को जाता है।
इससे पूर्व, मुख्यमंत्री ने डाडासिबा में लगभग 8 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाले बाबा कांशी राम राजकीय डिग्री कालेज भवन की आधारशिला रखी जिसके लिए 4.75 करोड़ रुपये स्वीकृत किए गए हैं। उन्होंने राजकीय डिग्री कालेज धलियारा में 10 लाख रुपये की लागत से निर्मित होने वाले प्रशासनिक खण्ड की आधारशिला तथा लगभग 4.70 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित विज्ञान खण्ड का उद्घाटन किया। उन्होंने राजकीय डिग्री कालेज रक्कड़ के भवन की आधारशिला भी रखी, जिसके लिए प्रारम्भिक तौर पर 5 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है।
मुख्यमंत्री ने जसवां तहसील के सुभाषपुर तथा डाडासिबा के तियामल गांव के लिए 94 लाख रुपये की लागत से निर्मित उठाऊ पेयजल योजना का लोकार्पण किया, जिससे वर्ष 2024 तक लगभग 3600 की जनसंख्या लाभान्वित होगी।
इससे पूर्व, मुख्यमंत्री ने 21 लाख रुपये की लागत से चमुखा में निर्मित वन विभाग के विश्राम गृह तथा स्वास्थ्य विभाग के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पीरसलुही में 20 लाख रुपये की लागत से निर्मित आवासों का भी लोकार्पण किया। उन्होंने प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र रक्कड़ तथा पीरसलुही को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में स्तरोन्नत करने का भी औपचारिक रूप से शुभारम्भ किया।
कर्मचारी कल्याण बोर्ड के उपाध्यक्ष श्री सुरेन्द्र मनकोटिया ने मुख्यमंत्री का क्षेत्र के लिए विभिन्न विकासात्मक घोषणाएं करने तथा करोड़ों रुपये की विकास परियोजनाओं के लोकार्पण के लिए आभार व्यक्त किया। उन्होंने क्षेत्र में हुए विकास की जानकारी दी तथा परागपुर को तहसील घोषित करने का आग्रह किया। उन्होंने गरली के लिए अलग से पेयजल आपूर्ति योजना और भडोली-जदीद के लिए 25 हैंडपम्प के अतिरिक्त परागपुर के लिए पेयजल आपूर्ति योजना आरम्भ करने का भी आग्रह किया।
जसवां परागपुर ब्लॉक कांग्रेस समिति के अध्यक्ष श्री प्रदीप कुमार, परागपुर पंचायत के प्रधान श्री सुरेश शर्मा, युवा कांग्रेस परागपुर के अध्यक्ष श्री मनोज शर्मा व अन्यों ने भी इस अवसर पर मुख्यमंत्री का स्वागत किया।
मुख्य संसदीय सचिव श्री नीरज भारती, विधायक श्री संजय रत्न, पूर्व विधायक श्री निखिल राजौर तथा श्री योगराज, राज्य शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष श्री बलवीर तेगटा, केसीसीबी के अध्यक्ष श्री जगदीश सिपहिया, राज्य आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री राजेन्द्र राणा, जिला परिषद सदस्य सुश्री रितु पराशर, स्वतंत्रता सेनानी कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष पंडित सुशील रत्न, उपायुक्त श्री रितेश चौहान, पुलिस अधीक्षक श्री संजीव गांधी, मुख्य वास्तुकार श्री एन.के. नेगी, लोक निर्माण विभाग के मुख्य अभियन्ता श्री एस.के. गन्जू, सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग के मुख्य अभियन्ता श्री अनिल बाहरी व अन्य गणमान्य व्यक्ति इस अवसर पर उपस्थित थे।
000

LEAVE A REPLY