पूर्णियां। आज के युग में जहां कई मां लोक-लाज के कारण अपने ही नवजात बच्चों को लावारिश छोड़ ममता को शर्मशार करती हैं। वहीं एक मां ने बिना शादी के एक स्वस्थ्य बच्चे को जन्म देकर सभी मां के लिए एक मिसाल पेश की है और इस मां को उसकी मां का पूरा सहयोग मिल रहा है। जिले के धमदाहा थाना क्षेत्र की रहने वाली एक मां ने अपने बेटे को जन्म देकर मां की ममता का यह मिशाल पेश किया है। कुंआरी मां की मां ने बताया कि उसकी बेटी गांव के ही एक घर में काम करती थी। इसी दौरान घर के मालिक के बेटे से उसकी बेटी का संपर्क हो गया और धीरे-धीरे दोनों का प्यार परवान चढ़ने लगा। लड़के ने लड़की को शादी का झांसा देकर उसके घर भी आने-जाने लगा। लड़की और लड़के के संपर्क को देखते हुए उसके परिवार वालों ने लड़की को काम से निकाल दिया। लेकिन, लड़का इसके संपर्क में ही रहा और लड़की को शादी का झांसा देकर उसका यौन शोषण करता रहा।
इस बीच लड़की के घर वालों ने लड़की की शादी भी करवानी चाही लेकिन लड़के ने लड़की से खुद शादी करने की बात कह लड़की की शादी नहीं होने दी। जब लड़की गर्भवती हो गयी तो लड़का उससे शादी करने से इनकार कर दिया और लड़की को गर्भ गिराने की धमकी और लालच देने लगा। साथ ही लड़का दूसरी लड़की से शादी करने की कोशिश भी करने लगा। इसकी शिकायत लड़की ने जब पुलिस में की तो पुलिस ने कार्रवाई करते हुए लड़के को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। उसके बाद लड़की ने सामाजिक लोकलाज को त्याग कर अपने बच्चे को जन्म देने के फैसले पर अडिग रही। जिसमें उसकी मां का भी भरपूर सहयोग मिलता रहा।

धमदाहा थाना पुलिस की देखरेख में लड़की ने पूर्णियां सदर अस्पताल में एक स्वस्थ्य बेटे को जन्म देकर मां की ममता की मिशाल पेश की। लड़की की मां का कहना है कि लड़का उसकी परवरिश करें या न करें वह उसकी देख भाल कर रही है और करती रहेगी।

 201605290813569722_Unmarrid-mother-gave-birth-to-a-son-perceived-father-in_SECVPF

LEAVE A REPLY