सारे कयासों पर विराम लगाते हुए महागठबंधन ने अपने उमिद्वारो पर अपना अंतिम फैसला सुना दिया है , बिहार में सत्तासीन महागठबंधन के चारों उम्मीदवारों को राज्यसभा में एंट्री मिल गई है. राज्य में जेडीयू कोटे से शरद यादव, आरसीपी सिंह, जबकि आरजेडी कोटे से लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा भारती और वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी निर्विरोध राज्यसभा के लिए चुन लिए गए हैं. इसके साथ ही बीजेपी से गोपाल नारायण सिंह को भी निर्विरोध राज्यसभा के लिए चुन लिया गया है.

बिहार में विधान परिषद् के 7 सदस्य भी निर्विरोध चुने गए हैं. महागठबंधन के चारों उम्मीदवारों ने सोमवार को राज्यसभा के लिए अपना-अपना पर्चा भरा था. महागठबंधन की तरफ से विधान परिषद के लिए पांच उम्मीदवारों, जबकि बीजेपी के दो उम्मीदवारों ने नामांकन किया था.

चर्चा में था राबड़ी देवी का नाम
दिलचस्प बात यह है कि आरजेडी कोटे से राज्यसभा के लिए पूर्व मुख्यमंत्री और लालू यादव की पत्नी राबड़ी देवी के नाम की भी चर्चा थी, लेकिन अंतिम समय में राबड़ी देवी की बजाय उनकी बेटी मीसा का नाम आगे आया. राबड़ी के नाम पर मुहर नहीं लगने की स्थि‍ति में लालू ने कहा, ‘वह चुनाव नहीं लड़ना चाहती हैं. बेटी मीसा डॉक्टर हैं और राज्यसभा के लिए योग्य उम्मीदवार हैं.’

बता दें कि मीसा भारती राजनीति में नई नहीं हैं. उन्होंने 2014 में पाटलिपुत्र से लोकसभा का चुनाव लड़ा, जिसमें उन्हें 3 लाख 40 हजार वोट मिले थे. हालांकि वह जीत दर्ज नहीं कर पाई थीं.

लालू ने की राम जेठमलानी की तारीफ
लालू ने सीनियर एडवोकेट राम जेठमनाली की तारीफ की है. आरजेडी प्रमुख ने कहा, ‘उनके जैसे योग्य लोग देश में कम ही हैं.’ जेठमलानी ने भी लालू को अपना मित्र बताया और कहा कि मोदी से उन्हें बहुत उम्मीद थी, लेकिन वो उम्मीद पर खरे नहीं उतरे.

misa_650_060316051846

LEAVE A REPLY