सुनामी ब्यूरो छत्तीसगढ़ ।

मरवाही पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने आखिरकार बगावती तेवर अपनाते हुए नई पार्टी बनाने का ऐलान कर दिया है।बरसते पानी के बीच जोगी ने कहा कि यह इंद्रदेवता का आशीर्वाद है। वे अब आजाद हो गए हैं। अचानक हुई बारिश से कार्यक्रम स्थल पर अफरातफरी के हालात भी निर्मित हो गए। मंच से कोटमी घोषणा पत्र भी जारी किया गया। जोगी ने कहा कि उनकी पार्टी भूख, गरीबी और बेरोजगारी के खिलाफ संघर्ष कर छत्तीसगढ़ को करमुक्त राज्य बनाएगी।
उन्होंने कहा कि वे यहां के बुजुर्गो को अपना प्रेरणास्रोत मानते हैं और क्षेत्र की जनता का आशीर्वाद लेने आए हैं।उन्होंने खुद को मरवाही की मिट्टी का अंश बताते हुए मिट्टी को सिर से लगाया।
जोगी ने गले में कांग्रेस का गमछा डाला हुआ था। उन्हाेंने छत्तीसगढ़ी में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि उनके परिवार को झूठा बदनाम किया गया। उन्होंने अपने घोषणा पत्र का लोकार्पण करते हुए कहा कि राज्य की अस्मिता के लिए नई पार्टी की जरूरत है।
विधानसभा के पूर्व उप सभापति और विधायक धर्मजीत सिंह ने प्रस्ताव पढ़कर सुनाया जिसका यहां आयोजित कार्यक्रम में मौजूद बड़ी संख्या में नेताओं और कार्यकर्ताओं ने हाथ उठाकर स्वागत किया। आयोजन में अजीत जोगी के साथ उनकी विधायक पत्नी और विधायक बेटा भी मौजूद था। नेताओं ने कहा कि अब राज्य के फैसले दिल्ली में नहीं होंगे।
इस आयोजन को लेकर मरवाही विधानसभा क्षेत्र के कोटमीकला में आज राजनीतिक सरगर्मी तेज रही। अजीत जोगी की बहू रिचा जोगी के सभास्थल पहुंचने पर समर्थकों में गर्मजोशी से उनका स्वागत किया।कार्यकर्ताओं ने – मैं हूं जोगी लिखी टोपी पहन रखी थी।
नई पार्टी के नाम के लिए मांगे सुझाव
नई पार्टी के नाम को लेकर प्रोफार्मा जारी किया गया है। इसमें आम लोगों से 8 अलग-अलग नामों के विकल्प के साथ ही अपनी ओर से नाम सुझाने की अपील की गई है।
इन 8 नामों में छत्तीसगढ़ विकास कांग्रेस, छत्तीसगढ़ लोक पार्टी, छत्तीसगढ़ विकास पार्टी, छत्तीसगढ़ कांग्रेस, छत्तीसगढ़ जन कांग्रेस, छत्तीसगढ़ स्वराज पार्टी, छत्तीसगढ़ राष्ट्रीय समिति और छत्तीसगढ़ अपना दल शामिल है।
क्या हो चुनाव चिन्ह
प्रोफार्मा में नई पार्टी के चुनाव चिन्ह को लेकर भी सुझाव मांगे गए हैं। इसमें टार्च, नारियल, हांडी, स्टूल, सीटी और टीवी के विकल्प दिए गए हैं। इसके अतिरिक्त अपनी ओर से भी चुनाव चिन्ह सुझाए जा सकते हैं।

*
बघेल की प्रतिक्रिया
इस कार्यक्रम पर भूपेश बघेल का बयान था कि खोदा पहाड़ निकली चुहिया। 50 हज़ार की भीड़ भी नही जुटा पाये जोगी। उनके अनुसार कोटमी में मौजूद पूर्व व वर्तमान कांग्रेस विधायकों की मौजूदगी से आलाकमान को अवगत करा दिया गया है। जोगी के कांग्रेस छोड़ने के ऐलान के बाद रायपुर कांग्रेस भवन में आतिशबाजी की गई।

LEAVE A REPLY