हिमाचल प्रदेश: परिवहन मंत्री की एचआरटीसी कर्मियों से हड़ताल पर न जाने की अपील कहा… मान ली गई हैं कर्मचारियों की 90 प्रतिशत मांगें

धर्मशाला, 11 जून: परिवहन मंत्री जीएस बाली ने कहा कि एचआरटीसी कर्मचारी उनके लिए परिवार के सदस्यों की तरह हैं तथा वे उनके लिए हर समय उपलब्ध हैं एवं उनकी हर जायज मांग को पूरा करने के लिए हमेशा प्रयासरत रहे हैं। उन्होंने कर्मचारियों से प्रदेश एवं एचआरटीसी के हित को ध्यान में रखते हुए 14 एवं 15 जून को प्रस्तावित हड़ताल पर न जाने की अपील की है। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों की 90 प्रतिशत मांगे मान ली गई हैं और जीपीएफ एवं रोडवेज बनाने संबंधी दो मांगों को विचार के लिए प्रदेश सरकार को भेजने का निर्णय लिया है। बाली आज यहां आयोजित हिमाचल प्रदेश पथ परिवहन निगम के निदेशक मंडल की 135वीं बैठक के उपरांत पत्रकारवार्ता को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि विगत तीन वर्षों में निगम के कर्मचारियों को लगभग 500 करोड़ रूपये के लाभ प्रदान किए गए हैं। उन्होंने कहा कि अप्रैल माह तक सभी कर्मचारियों के पैंशन संबंधी भुगतान किए जा चुके हैं और मई एवं जून माह का पैंशन भुगतान भी इस माह के अंत तक कर दिया जाएगा। बाली ने कहा कि वे हमेशा कर्मचारियों से सीधे सम्पर्क में रहे हैं तथा उनके हित के लिए कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों के हित के मद्देनजर उन्होंने 2 विशेष इन्क्रीमेंट एरियर के लिए अविलंब 9.65 करोड़ रूपये की धनराशि जारी करने के निर्देश दिए हैं। इसके अतिरिक्त, वर्ष 2012 से 2014 की समयावधि के ओटीए एवं टीए के भुगतान के लिए 20 करोड़ रूपये जारी करने के भी निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों के वाशिंग भत्ते को वर्तमान के 30 रूपये से बढ़ाकर 60 रूपये करने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों एवं उनके परिजनों के हितों को ध्यान में रखते हुए कल्याण कोष के अंतर्गत मृतक कर्मचारी के परिजनों को मिलने वाली राशि को वर्तमान के एक लाख से बढ़ाकर 1.25 लाख रूपये करने तथा सेवानिवृत कर्मचारियों को मिलने वाली राशि को वर्तमान के 20 हजार से बढ़ाकर 25 हजार रूपये करने का निर्णय लिया गया है। परिवहन मंत्री ने कहा कि निदेशक मंडल ने लोगों विशेषकर महिलाओं, रोगियों, विद्यार्थियों एवं कर्मचारियों के हितों के दृष्टिगत कर्मचारियों की एचआरटीसी को रोडवेज बनाने के मांग तथा वर्ष 2008 से 2012 के मध्य की 150 करोड़ रूपये की राशि को जीपीएफ ट्रस्ट में जमा करवाने संबंधी मांग पर विचार करने के लिए प्रदेश सरकार को मुख्य सचिव के नेतृत्व में एक विशेष कमेटी के गठन के आग्रह का प्रस्ताव भेजने का निर्णय लिया है। निदेशक मंडल ने यह भी निर्णय लिया है कि कर्मचारियों की इन दोनों मांगों के संदर्भ में मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह से सहानुभूतिपूर्वक विचार करने एवं धन की उपलब्धता के अनुरूप मांगें पूरी करने का आग्रह किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जहां तक कर्मचारियों के आर एंड पी नियमों में संशोधन की बात हैै इस बारे में परिवहन विभाग के सचिव को विस्तृत अध्ययन करने एवं आवश्यक कदम उठाने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने 14 एवं 15 जनू, 2016 को प्रस्तावित हड़ताल के मद्देनजर एहतियातन इस अवधि के लिए एचआरटीसी बसों की बुकिंग करने वाले पर्यटकों एवं अन्य लोगों को अपनी बुकिंग रद्द करवाने और यात्रा के लिए वैकल्पिक व्यवस्था करने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा कि परिवहन विभाग इस उक्त अवधि में यातायात को सुचारू बनाए रखने के लिए सभी उपायों पर विचार कर रहा है तथा पड़ोसी राज्यों से भी वैकल्पिक व्यवस्था के लिए सम्पर्क किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हड़ताल के दौरान अपना काम ईमानदारी से करने वाले और यातायात व्यवस्था को सुचारू रखने में सहयोग करने वाले कर्मचारियों को पुरस्कृत किया जाएगा। हड़ताल के दौरान सभी बस अड्डों एवं डिपुओं पर वीडियोग्राफी की जाएगी तथा निगम उपद्रवियों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही करेगा। उन्होंने कहा कि कुछ व्यक्ति अपने स्वार्थ के चलते कर्मचारियों को बहकाने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे व्यक्ति जो खराब आचरण के चलते निगम प्रबंधन द्वारा सस्पेंड किए गए हैं, वे गेट मीटिंग एवं हड़ताल की धमकियों से दबाव बनाने और अपना स्थगन निरस्त करवाने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कर्मचारियों को ऐसे लोगों से सावधान रहने और गैर अनुशासनात्मक कार्यवाही में शामिल न होने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा कि वे सभी कर्मचारियों के हित के लिए हमेशा उनके साथ खड़े हैं, लेकिन दबाव की राजनीति कर उन्हें ब्लैकमेल नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि अनुशासनहीनता किसी भी सूरत में बर्दाशत नहीं की जाएगी। बाली ने कहा कि उन्होंने सभी कर्मचारियों से सीधे सम्पर्क के लिए उन्हें संबोधित करते हुए पत्र भी भेजा है। इस अवसर पर अतिरिक्त मुख्य सचिव परिवहन संजय गुप्ता, निदेशक मंडल के सरकारी एवं गैर सरकारी सदस्य उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY