एसएसबी प्रशिक्षण केंद्र में मनाया अंतरराष्ट्रीय योग दिवस-
राजीव कुल्लू ब्यूरो-
दूसरे अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य पर मंगलवार को सशस्त्र सीमा बल प्रशिक्षण केंद्र शमशी में भी सभी अधिकारियों, प्रशिक्षण स्टाफ, उनके परिजनों और प्रशिक्षु जवानों ने योगाभ्यास किया। कार्यकारी कमांडेंट अनिल पठानिया ने सुबह सवा छह बजे केंद्र के प्रांगण में इस योगाभ्यास कार्यक्रम का शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि योग में पूरे मानव समाज को एक साथ लाने की क्षमता है। यह ज्ञान, कर्म और भक्ति का बेहद सुंदर संगम है। योग मस्तिष्क और शरीर, विचारों और क्रिया, संयम तथा पूर्णता, मानव एवं प्रकृति के बीच सदभाव का समागम है। यह स्वास्थ्य और कल्याण के लिए समग्र पहल प्रदान करता है। इसलिए हमें अपनी दिनचर्या में योग को अवश्य शामिल करना चाहिए। पठानिया ने बताया कि नव आरक्षियों के प्रशिक्षण के अलावा सशस्त्र सीमा बल प्रशिक्षण केंद्र शमशी स्वच्छ भारत मिशन, सड़क सुरक्षा, नशा उन्मूलन, पल्स पोलियो अभियान और भारत सरकार के अन्य महत्वपूर्ण कार्यक्रमों के प्रति आम जनमानस को जागरूक करने में भी सक्रिय योगदान दे रहा है। भारत सरकार के इन कार्यक्रमों के तहत प्रशिक्षण केंद्र शमशी द्वारा समय-समय पर विशेष अभियान चलाए जाते हैं। पठानिया ने कहा कि जिला कुल्लू और इसके साथ लगते अन्य जिलों में आपात परिस्थितियों के दौरान राहत व बचाव कार्यों में भी एसएसबी के जवान सबसे आगे रहते हैं। इस मौके पर मोरारजी देसाई योग केंद्र नई दिल्ली के योग अनुदेशक मोहर सिंह ने सभी को योग कराया। इस कार्यक्रम में डिप्टी कमांडेंट (चिकित्सा) डा. राजीव रंजन, सहायक कमांडेंट शिव राम, अन्य अधिकारियों, कर्मचारियों, उनके परिजनों, प्रशिक्षुओं, कुल्लू वैली अस्पताल व हरिहर अस्पताल के चिकित्सकों और बड़ी संख्या में शमशी निवासियों ने भी योगाभ्यास किया।
अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर किया योगाभ्यास-
राजीव कुल्लू ब्यूरो-
द्वितीय अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य पर मंगलवार सुबह जिले भर में बड़ी संख्या में लोगों ने योगाभ्यास किया। ढालपुर के रथ मैदान में आयोजित जिला स्तरीय कार्यक्रम में उपायुक्त हंसराज चैहान, अन्य वरिष्ठ अधिकारियों और विभिन्न संस्थाओं के कार्यकर्ताओं सहित सैकड़ों लोगों व स्कूली बच्चों ने योगासन व प्राणायाम किया। जिला प्रशासन द्वारा नेहरू युवा केंद्र, आयुर्वेद विभाग, विभिन्न संस्थाओं आर्ट आॅफ लिविंग, पतंजलि योगपीठ व विश्व जागृति मिशन की स्थानीय इकाईयों के सहयोग से आयोजित इस कार्यक्रम में अन्य विभागों, संस्थाओं और शिक्षण संस्थानों ने भी अपनी भागीदारी सुनिश्चित की। इस मौके पर उपायुक्त ने कहा कि भारत के प्राचीन योग दर्शन को वैश्विक पहचान मिल चुकी है। योग अब विश्व के हर कोने में पहुंच चुका है और इसलिए संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी पिछले वर्ष 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाने की घोषणा करके इसे अपनी मान्यता दी है। उपायुक्त ने कहा कि योग विशुद्ध रूप से एक वैज्ञानिक क्रिया है और इसे लोग बड़े पैमाने पर अपनी दिनचर्या में शामिल कर रहे हैं। इस अवसर पर उपायुक्त ने उपस्थित लोगों को योग के माध्यम से अपने शरीर को स्वस्थ बनाने की शपथ भी दिलाई। इससे पहले आयुर्वेद विभाग की डाॅक्टर आशा किरण ने योग की महत्ता के बारे में बताया। नेहरू युवा केंद्र के जिला समन्वयक लाल सिंह ने उपायुक्त और सभी प्रतिभागियों का स्वागत किया। आर्ट आफ लिविंग की योग शिक्षक शगुन, कृष्णदेव और पतंजलि योगपीठ की बिंदिया सूद ने प्रतिभागियों को योगासन व प्राणायाम करवाया। आयुर्वेद चिकित्सक डाॅ. जगदेव ने सभी का आभार व्यक्त किया। कार सेवक मंडल कुल्लू के कार्यकर्ताओं ने प्रतिभागियों के लिए जलपान की व्यवस्था की। इस मौके पर कार्यकारी जिला आयुर्वेद अधिकारी डा. पलकी देवी, अन्य विभागों के वरिष्ठ अधिकारी, विभिन्न संस्थाओं व स्वयं सहायता समूहों के कार्यकर्ता, शिक्षण संस्थानों के शिक्षक और अन्य गणमान्य लोग भी उपस्थित थे। नेहरू युवा केंद्र के जिला समन्वयक लाल सिंह ने बताया कि जिले के अन्य भागों में भी नेहरू युवा केंद्र के माध्यम से युवा क्लबों ने योगाभ्यास कार्यक्रमों का आयोजन किया।

 

LEAVE A REPLY