सासाराम : बिहार के स्कूलों में शिक्षा व्यवस्था का रियलिटी चेक करने केंद्रीय मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री सासाराम पहु्चे. काराकट के सांसद उपेन्द्र कुशवाहा जब 22 जून को सासाराम के नोखा प्रखंड में सुबह 7 बजे श्रीखिंडा गांव के जलिमटोला उत्क्रमित प्राथमिक विद्यालय के औचक निरीक्षण को पहुंचे तो वहां की तस्वीर देख कर खुद भी दंग रह गए.स्कूल से शिक्षक नदारद मिले तो वहां उपस्थित बच्चों से केंद्रीय मंत्री ने समस्या पूछ ली. समस्या पूछते ही बच्चों ने कहा, मास्टर साहेब कभी आठ बजे तो कभी 9 बजे आते हैं जबकि स्कूल 6.30 बजे खुल जाता है. केन्द्रीय शिक्षा मंत्री कुशवाहा करीब 1 घण्टा यानि 8 बजे सुबह तक विद्यालय में रहे लेकिन कोई भी शिक्षक नहीं पंहुचा. तत्काल मंत्री कुशवाहा ने प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी से बात कर के इस मामले में कारवाई करने के लिये कहा. केंद्रीय मंत्री ने बिहार की शिक्षा वयवस्था पर रोष व्यक्त करते हुए कहा की राज्य में शिक्षा पूरी तरह से चौपट हो गई है. बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा की बात तो दूर उनको सामान्य शिक्षा भी नसीब नहीं है. गौरतलब है की केंद्रीय मंत्री अपने संसदीय क्षेत्र काराकट के ग्रामीण क्षत्रों के दौरे पर हैं. इससे पहले कुशवाहा ने रात्रि विश्राम श्रीखिंडा गांव के ही मध्य विद्यालय में किया. सुबह हुई तो ग्रमीणों से मिलने के क्रम में वहां पर चल रहे विद्यालयों की स्थिति जानने स्कूल जा पहुंचे. निरीक्षण के बाद स्कूल से लौटते वक़्त स्कूल से काफी दूर शिक्षक को देख ग्रामीणों ने मंत्री को पहचान कराया. इसके बाद मंत्री ने सीधे शिक्षको से स्कूल न आने का कारन पूछा तो उन्होंने क्या कि बारिश के कारण स्कुल समय पर नही पहुच पाया हू vlcsnap-2016-06-22-12h42m50s319

 

 

LEAVE A REPLY