जैव विविधता बोर्ड ने कुल्लू में किया एक दिवसीय प्रशिक्षण शिविर-
देवसदन में हितधारकों को जैव विविधता अधिनियम 2002 से करवाया अवगत-
राजीव कुल्लू ब्यूरो-
हिमाचल प्रदेश जैव विविधता बोर्ड ने कुल्लू जिला के जैव विवधता हितधारको यानि जिला परिषद, पंचायत परिषद सदस्यो, समस्त ग्राम पंचायत प्रधानों तथा वन, मत्स्य, वानकी, कृषि, पशुपालन विभागो के अधिकारियो को एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला जैव विविधता अधिनियम और नियमों का इसकी अभिगम्यता और हितलाभ सहभाजन प्रावधानों पर संकेद्रित सहित कार्यन्वयन को सुदृढ करने के बारे में एक दिवसीय प्रशिक्षण शिक्षा का आयोजन देव सदन कुल्लू मे किया। लगभग 300 प्रतिभागियो ने जैव विविधता अधिनियम 2002 तथा जैव विविधता नियम वारे प्रशिक्षण लिया। हंस राज चैहान माननीय जिलाधीष कुल्लू एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला के मुख्य अतिथि रहे। कुनाल सत्यार्थी संयुक्त सदस्य सचिव हिमाचल प्रदेश जैव विविधता वोर्ड ने मुख्य अतिथि तथा सभी प्रतिभागियो का स्वागत किया तथा हितधारक प्रतिभागियो का कार्यशाला के उद्देश्य वारे तथा अन्तरराष्ट्रीय जैव विविधता दिवस के महत्व के वारे मे अवगत करवाया तथा जैव विविधता अधिनियम 2002 और नियम पंचायती राज के प्रतिनिधयों के प्रशिक्षण आवश्यकता वारे जानकारी दी। अजय कुमार लाल निर्देशक पर्यावारण विज्ञान एवं प्रौधोगिकी एवं सदस्य सचिव हिमाचल प्रदेश जैव विविधता बोर्ड ने अन्तरराष्ट्रीय जैव विवधता के महत्व के वारे मे विस्तृत जानकारी प्रदान की तथा हिमाचल प्रदेश राज्य जैव विविधता बोर्ड द्वारा प्रदेश मे जैव विविधता अधिनियम 2002 कार्यन्वयन हेतु की जा रही गतिविधयों की जानकारी प्रतिभागियो को प्रदान की। वी0एल0 नेगी अरण्यपाल कुल्लू ने विशेष भाषण दिया। उन्होने प्रतिभागियो को कुल्लू जिले के जैविक संसाधनो के संरक्षण व सतत उपयोग हेतु स्थानिय ईकाई स्तर पर विकास विभागो विशेष कर वन विभाग के साथ मिल जुल कर कार्या करने का आवाहन किया जिससे कुल्लू जिले की सुख समृधी व भविष्य उज्जवल रहे। मुख्य अतिथि जिलाधीष कुल्लू ने अपने सम्बोधन में हिमाचल प्रदेश जैव विविधता बोर्ड द्वारा किये जा रहे क्रियाकलापो तथा कुल्लू जिले को अन्तरराष्ट्रीय जैव विविधता दिवस आयोजन तथा  जैव विविधता अधिनियम 2002 कार्यन्वयन को मार्गदर्शन के तौर पर चयन करने के लिये सराहना की। हंस राज चैहान जिलाधीष कुल्लू ने अपने संवोधन मे जैविक विविधता अधिनिम कार्यन्वयन की आवश्यकता जैविक संसाधनो के संरक्षण, सततउपयोग तथा जैविक संसाधनो के उपयोग व जैविक संसाधनो पर अधारित पारम्परिक ज्ञान से होने वाले लाभ आवंटन स्थानिय ईकाई स्तर पर जैव विविधता अधिनियम एवं नियम के अनुरुप प्रदेश की खुशहाली एवं भविष्य स्वावलम्बन के लिए की जा सके। निरज कुमार वन मण्डल अधिकारी कुल्लू ने धन्यवाद भाषण दिया जिसमे उन्होने मुख्य अतिथि महोदय श्री हंस राज चैहान जिलाधीष कुल्लू  और श्रीमति रोहणी देवी अधयक्ष जिला परिषद को अपना किमती समय प्रदान कर जिले के पंचायती राज संस्थाओ के विभिन्न स्तर के प्रतिनिधी सदस्यो व पंचायत प्रधानो की होंसला अफजाही की। उद्घाटन स्तर के पश्चात दो तकनिकी स्तर पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधियो के प्रशिक्षण हेतु आयोजन किया गया। श्री अजय कुमार लाल सदस्य सचिव  हिमाचल प्रदेश जैव विविधता बोर्ड ने प्रतिभागियो को जैव विविधता, जैव विविधता का महत्वपुर्ण मुद्दो स्तत उपयोग वारे जानकारी प्रदान की। श्री कुनाल सत्यार्थी संयुक्त सदस्य सचिव जैव विविधता बोर्ड ने प्रतिभागियो का जैव विविधता अधिनियम 2002 तथा जैव विविधता नियम 2004 तथा इसके कार्यन्वयन से जैविक संसाधनो का संरक्षण स्तत उपयोग व इस पर अधारित विभिन्न पारंम्परिक ज्ञान स्थानिय स्तर पर लाभ आवंटन हेतु कैसे किया जा सकता है वारे भाषण दिया। डा0 डी0 आर0 नारा पुर्व प्रमुख हर्वल गार्डन जोगिन्द्रगर ने ओषधीय पौधों के वारे जानकारी प्रदान की। डा0 पंकज शर्मा और डा0 दश्यन्त शर्मा, सायनटिफिक हिमाचल प्रदेश जैव विविधता बोर्ड द्वारा प्रतिभागियो को जैव विविधता प्रवन्धन समितियो के गठन बारे तथा जैविक दस्तावेत स्थानिय ईकाई स्तर पर तैयार करने वारे जानकारी प्रदान की। जैव विविधता पर राजकीय उच्च विधालय वजौरा व कुल्लू द्वारा प्रतिभागियांे को प्रस्तुति प्रदान की गई विस्तृत चर्चा प्रतिभागियो के साथ की गई तथा हिमाचल प्रदेश जैव विविधता बोर्ड स्त्रोत व्यक्तियो द्वारा उचित जववा दिये गये। कुल्लू जिले के सभी पंचायत प्रधानो को अपनी अपनी पंचायत मे जैव विविधता प्रबन्धन समिति गठन के लिए श्री काम राज कायथ, प्रमुख वैज्ञानिक अधिकारी ने जैव विविध बोर्ड की ओर से आग्रह किया और सभी प्रतिभागियो का धन्यवाद किया।​

LEAVE A REPLY