औरंगाबाद। एक जहा भारत के प्रधान मंत्री जी बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का नारा दे रहे है , वही दूसरी तरफ बिहार के मुख्यमंत्री जी महिला सशक्तिकरण के बाते कर रहे है , लेकिन इन सारे प्रयासों के वावजूद महिलाए आज अपने को सुरक्षित महसूस नही कर प् रही है , जिसका उदाहरण बिहार में आए दिन महिलाओ और लड़कियों के साथ घट रही अपराधिक घटनाएँ है , बिहार में दो लड़कियों से रेप का मामला अभी ठंडा भी नहीं हुआ था कि औरंगाबाद मनचलों ने एक सनसनीखेज वारदात को अंजाम दिया है। नौवीं क्लास की छात्रा ने जब छेड़खानी का विरोध किया तो मनचलों ने उसके उपर एसिड फेंक दिया। इस घटना में लड़की व उसकी मां घायल हो गई है। लड़की को इलाज के लिए गया रेफर किया गया है।  घटना रफीगंज के राजानगर मोहल्ले की है। बताया जाता है कि राजानगर मोहल्ले निवासी और रफीगंज राजकीय कन्या उच्च विद्यालय की नौंवी कक्षा की छात्रा सोनिया (बदला हुआ नाम) गुरुवार की शाम अपने घर से ट्यूशन पढ़ने जा रही थी। इसी दौरान रास्ते में मोहल्ले के ही अजहर नाम के एक युवक ने उसके साथ छेड़खानी की।  ट्यूशन से वापस लौटकर छात्रा ने इसकी जानकारी अपने परिजनों को दी। इसके बाद परिजनों ने इसकी शिकायत अजहर के घर पर जाकर की। शिकायत सुनने के बाद अजहर के परिजन उसपर किसी तरह की कार्रवाई करने के बजाय सलमा के घर पर आ धमके और उनके द्वारा परिजनों से दुर्व्यवहार किया गया। इस मामले को लेकर दोनो परिवारों में तनाव बढ़ने पर मोहल्ले के लोगों ने पहल कर सुबह में पंचायती भी कराई और मामला भी शांत हो गया।
लड़की के पिता दोपहर में घर से बाहर निकलकर कहीं चले गये और घर में सिर्फ लड़की और उसकी मां रह गयी। इसी दौरान अजहर ने सोनिया के घर में घुसकर उसके चेहरे पर एसिड अटैक कर दिया और बीच-बचाव के दौरान लड़की की मां के शरीर पर भी एसिड के छीटे पड़ गये जिससे वह भी जख्मी हो गयी।
लड़की को रफीगंज प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में उपचार के बाद बेहतर ईलाज के लिए मगध मेडिकल कॉलेज अस्पताल गया रेफर किया गया है जबकि उसकी मां का रफीगंज में ही इलाज चल रहा है।

download

LEAVE A REPLY