biharmotiharirape_146681332096_650x425_062516053941(शैलेश कुमार पाण्डेय )

बिहार में लगतार महिलाओ के साथ बढ़ रही अपराधिक घटनाओ पर महिला आयोग ने अपना रुख बिहार सरकार के प्रति तल्ख कर दिया है , बिहार में दो बेटियों के साथ रेप की घटना के बाद पुलिस और प्रशासन की लापरवाही को देख राष्ट्रीय महिला आयोग की मुखिया ललिता कुमारमंगलम ने कहा है कि बिहार सरकार सुरक्षा नहीं दे सकती तो इस्तीफा दे. महिला आयोग ने अपनी सदस्य सुषमा साहू को मामले के तहकीकात के लिए भेजा है. ललिता कुमार मंगलम ने कहा कि बिहार में प्रशासन बिलकुल लचर है. घर के आगे से युवतियों और बच्चियों को हथियारों से धमका कर अगवा कर लेते हैं. रेप होता है और प्रशासन पीड़ित पर ही लांछन लगाता है. यह शर्मनाक है. मामले में महिला आयोग की रिपोर्ट सोमवार तक आएगी. फिर आयोग प्रधानमंत्री, गृहमंत्री और राष्ट्रपति से मिलकर मुल्जिमों और घटना के बाद गड़बड़ करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग रखेगा.

उन्होंने कहा कि बिहार में इन घटनाओं ने साबित कर दिया है कि वहां अपराधियों में प्रशासन से डर नहीं बल्कि गठजोड़ है. पीड़िता के साथ परिवारवालों के लिए भी यह सदमा है. पुलिस मुल्जिमों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर उन्हें फौरन गिरफ्तार करने की बजाय उल्टे पीड़िता के चरित्र पर लांछन लगा रही है. यह अमानवीय है. मानवाधिकार आयोग को भी सख्त एक्शन लेना चाहिए.

दोनों मामले मोतिहारी के
मोतिहारी में दो लड़कियों के साथ दरिंदों ने वैसी हरकत की जो एक जल्लाद भी नहीं कर सकता है. पहली पीड़िता को दरिंदों ने उसके धर से खींचकर बीच सड़क पर बिना किसी डर, भय के बेरहमी से पीटा, फिर उसके साथ एक-एक कर दुष्कर्म किया . इतने से भी जल्लादों का मन नहीं भरा तो उसके प्राइवेट पार्ट में हथियार डाल उसे बीच सड़क पर तड़पता छोड़कर चलता बना. इस पूरे मामले में पुलिस की भूमिका बेहद शर्मनाक रही। पुलिस ने घटना पर पर्दा डालने की कोशिश की. लेकिन बात जब मीडिया में आई तब पुलिस ने कार्रवाई शुरू की और मुख्य आरोपी समीउल्लाह को शुक्रवार को मोतिहारी के छतौनी बस स्टैंड से गिरफ्तार किया. वो कहीं भागने के फिराक में था.

दूसरी घटना भी मोतिहारी की ही है. जहां एक दस साल की लड़की को पास के ही गांव के तीन हवसियों ने अपने हवश का शिकार बनाया. बच्ची को सदर अस्पताल मोतिहारी में भर्ती कराया गया लेकिन उसकी नाजुक हालत को देख उसे पटना के पीएमसीएच रेफर कर दिया गया. पटना के सर्जिकल वार्ड में पीड़िता का ऑपरेशन किया गया जहां उसकी हालत नाजुक बतायी जा रही है. इस मामले में मोतिहारी के पिपरा थाना में प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है. पुलिस ने प्रमोद साहनी और कमल साहनी नाम के दो व्यक्तियों को इस मामले में गिरफ्तार किया है.

 

LEAVE A REPLY