हिमाचल प्रदेश: रेशम कीट पालन को व्यवसाय के रूप में अपनाएं किसानः- राजेश धर्माणी
डंगार पंचायत में रेशम कीट पालकों के लिए जागरूकता शिविर आयोजित
बिलासपुर, 06 जुलाई 2016-घुमारवीं विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पंचायत डंगार में रेशम कीट पालन को बढ़वा देने के लिए आज किसानों तथा रेशम कीट पालकों के लिए जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया जिसकी अध्यक्षता मुख्या संसदीय सचिव (वन) राजेश धर्माणी ने की। शिविर में परमवीर चक्र विजेता संजय कुमार विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। सीपीएस ने कहा कि सरकार द्वारा रेशम कीट पालन को बढ़ावा देने के लिए अनेकों योजनाएं चललाई गई हैं जिसका रेशम कीट पालकों को लाभ उठाना चाहिए।उन्होंने किसानों से अधिक से अधिक शहतूत के पौधे लगाकने का आहवान किया ताकि वे रेशम कीट पालन व्यवसाय को बढ़ाकर अपनी आर्थिकी को बेहततर बना सकें। उन्होंने कहा कि जिला की जलवायु , सामाजिक एवं भौतिक वातावरण रेशम कीट पालन के अनुकूल है जिस कारण रेशम कीट पालन की अपार संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि ग्राम पंचायत डंगार तथा लेहड़ी सरेल में तीन नए रेशम कलस्टर की स्थापना की गई है जिसमें प्रति कलस्टर 100 किसान जुड़े हैं।

सपीपीएस राजेश धर्माणी ने कहा कि इन तीनों कलस्टरों के साथ जुड़े किसानों को शहतूत पौध रोपण के अलावा कीट पालन हेतू आवश्यक प्रशिक्षण एवं उपकरण प्रदान किए जाएंगे ताकि रेशम कीट पालक इस व्यवसाय को अपनाकर अपनी आर्थिक स्थिति को बेहतर बना सकें। उन्होंने किसानों आग्रह किया कि वे अध्ेिाक से अधिक संख्या में रेशम कीट पालन से जुड़कर इसे व्यवसाय के रूप में अपनाएं। उन्होंने कहा कि क्षेत्रीय रेशम अनुसंधान केन्द्र घुमारवीं रेशम सम्बंधी प्रशिक्षण एवं वैज्ञानिक तकनीक की जानकारी समय-समय पर शिविरों का आयोजन कर रेशम कीट पालकों को उपलब्ध करवा रहा है ताकि स्वरोजगार को बढ़ावा मिल सके।

उप निदेशक उद्योग (रेशम) बलदेव चैहान ने ने मुख्यातिथि का स्वागत करते हुए विभाग द्वारा रेशम कीट पालकों के तिार्थ चलाई जा रही विभिन्न प्रकार की योजनाओं की जानकारी उपेस्थित किसानों को दी। उन्होंने कहा कि इस वर्ष जिला बिलासपुर में 62 हजार किलोग्राम कौंथा उत्पादन हुआ है जिससे किसानों को 135 लाख रूपए की राशि उपलब्ध करवाई गई है। शिविर में रेशम अधिकारी डा0 राजीव कुमार ढ़ींगरा ने किसानों को शहतूत पौध रोपण ेतथा रेशम कीट पालन से सम्बंधित अहम जानकारी भी उपलब्ध करवाई।

इस अवसर पर ग्राम पंचायत डंगार तथा लेहड़ी सरेल के पंचायत प्रतिनिधियों के अतिरिक्त पूनम शर्मा, लता देवी,कुलवंत , हरी देवी, शुभम शर्मा और सुनील कुमार सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी तथा लगभग दो सौ रेशम कीट पालक उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY