हिमाचल प्रदेश:सोंगटोंग विवाद को लेकर सीटू हुई लाल ……मॉल रोड में धारा 144 तोडकर दी गिरफ्तारियां……

किनौर में सोंगटोंग विधुत परियोजना को लेकर चल रहा गतिरोध कम होने के बजाय बढता जा रहा है. सोंगटोंग में पिछले 114 दिन से मजदूर हड़ताल पर है और शिमला में भी सीटू पिछले दो जुलाई से सोंगटोंग के मजदूरों के समर्थन में सचिवालय के बाहर अनिश्चित अनशन पर बैठी थी जिसको आज पुलिस ने वहां से उठा दिया. विरोधस्वरूप सीटू ने शिमला के माल रोड में पहुंचकर धारा 144 तोड़कर दर्जनों की संख्या में गिरफ्तारियां दी और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की.
सीटू का कहना है की शोंगटोंग को लेकर जो सवाल वह खड़ा करते रहे है उनको उच्च न्यायालय में हिमाचल श्रम आयुक्त एवं EPF आयुक्त ने भी पुख्ता किया है फिर भी सरकार कुंभकर्ण की नींद सोई हुई है और सीटू की चेतावनी के बाबजूद कोर्ट के कहने पर भी अभी तक मामले को सुलझाया नही जा सका है . पटेल कंपनी व उसके ठेकेदारों ने मजदूरों को तीन माह का वेतन नही दिया गया और श्रम कानूनों की अवहेलना कंपनी करती रही. इसके आलावा मजदूरों से बधुआ मजदूरों की तरह काम करवाया गया लेकिन बदले में जो सुविधायें मजदूरों को मिलनी चाहिए वह भी नही दी जा रही है. सीटू ने चेतावनी दी है की सरकार का इसी तरह का रवैया रहा तो सीटू मजदूरों के आन्दोलन को और अधिक तेज करेगी .
उधर asp शिमला भजन देव नेगी ने बताया की सीटू के कार्यकर्ता गैरकानूनी तरीके से सचिवालय के बाहर धरने पर बैठे हुए थे जिनको वहां से हटा दिया गया विरोध में सीटू कार्यकर्ताओं से माल रोड में धारा 144 तोड़ी है जिसके चलते उन्हें गिरफ्तार कर लिया है और उनपर मामले दर्ज कर लिए गए है .
दरअसल सोंगटोंग में बैठे मजदूरों के समर्थन में सीटू कार्यकर्ता पिछले दो जुलाई से सचिवालय के बाहर पर अनिश्चित अनशन में बैठे हुए थे जिनको पुलिस द्वारा वहा से जबरन हटा दिया गया. जिसको लेकर अब सीटू लाल हो गई विरोध स्वरुप माल रोड पर दर्जनों सीटू कार्यकर्ताओं ने धारा 144 तोड़कर गिरफ्तारियां दी. हिमाचल में बन रही विद्युत परियोजनाओं में इस तरह का विवाद ये पहला नही है इससे पहले भी मजदूरों के शोषण को लेकर आन्दोलन होते रहे है . शोंगटोंग परियोजना का विवाद भी ऐसा ही है जहाँ मजदूर पिछले 114 दिन से भी ज्यादा समय से हड़ताल पर है . सीटू कह रही है की ये आन्दोलन jp कम्पनी के आन्दोलन से भी आगे बढ़ गया है लेकिन सरकार है की मजदूरों की समस्या को सुलझाने के मूढ़ में नही दिख रही है .

LEAVE A REPLY