“बेटियाँ अभिशाप नही वरदान है ” कथन हुआ चरितार्थ
कुचायकोट की पावन धरती पर हुआ सामुहिक विवाह का आयोजन
IMG-20160711-WA0000
बुद्धेश्वर कुमार शुक्ल – सुनामी मिडीया ग्रुप : कुचायकोट

आज 10 जुलाई 2016 को मध्य विद्यालय, कुचायकोट के प्रांगण मे उपस्थित क्षेत्र के सम्मानित मातायें , बहने , बडे बुजुर्ग और वहां उपस्थित जन समुदाय के मन से एक ही आवाज निकल रही थी कि कुचायकोट की पावन धरती आज धन्य हो गई ।मौका था मां कामख्या देवी सेवा संस्थान के द्वारा आयोजित सामूहिक विवाह समारोह का ।चारो तरफ मंत्रोच्चारण से माहौल खुशनुमा हो गया था ।आपको बताते चलें कि पिछले कुछ साल से मां कामख्या देवी सेवा संस्थान के तत्वावधान मे इस कुचायकोट की पावन धरती पर विभिन्न इलाकों के आर्थिक रूप से निःशक्त बेटियों को परिणय सुत्र मे बांध कर उनके नव दाम्पत्य जीवन की शुरूआत कराई जाती है । युवा नेता दीपक द्विवेदी और उनकी टीम के सभी सदस्यों ने पिछले महीने से जी तोड मेहनत की थी और वह अमुल्य समय निकाल कर किया गया मेहनत आयोजन मे चार चांद लगा रहा था ।इस मधुरिम मौके पर कई नव दम्पती जोडो ने अग्नि को साक्षी मानकर जिन्दगी भर साथ निभाने की कसमे खाते हुये अपने वैवाहिक जीवन मे प्रवेश किया ।इस शादी समारोह मे सभी नव दम्पतीयो को मां कामख्या देवी सेवा संस्थान के द्वारा उनके आवश्यकता अनुसार बर्तन ,गहने , कपडे, आभुषण आदि दान किये गये ।इस पावन अवसर पर गंगा महासभा के अध्यक्ष स्वामी जितेन्द्रानन्द सरस्वती जी महाराज, पुर्व सांसद मा0 काली प्रसाद पाण्डेय, विधान पार्षद मा0 आदित्य नारायण पाणडेय, दीपक द्विवेदी, चन्द्रमोहन पाण्डेय, मुकेश सिहं, सचिन सिंह, विवेक पाठक, चंदन तिवारी, अंकेश कुमार और बहुत सारे युवा साथी और क्षेत्र की महिलायें-बच्चे, बुजुर्ग उपस्थित थे ।

LEAVE A REPLY