पटना। पटना से गया जा रही पैसेंजर ट्रेन में करंट आने से तीन लोगों की मौत हो गई है। दर्जन भर से अधिक यात्री घायल हो गए हैं। हादसे में अभी कुछ और शवों के मिलने की भी आंशका जतायी जा रही है। घटना मसौढ़ी स्टेशन के पास हुई है।
घटना गुरुवार देर रात की है। जानकारी के अनुसार दर्जनों यात्री पटना-गया पैसेंजर ट्रेन की छत पर बैठकर सफर कर रहे थे। इसी दौरान मसौढ़ी स्टेशन से पहले नीमा हाल्ट के पास हाईटेंशन तार टूटकर ट्रेन की छत पर गिर गया। तार की चपेट में आने से तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि दर्जन भर से अधिक यात्री गंभीर रूप से झुलस गए है। जिन्हें पास के अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।

ऐसे हुआ हादसा…
– मेमू ट्रेन (63255) गुरुवार की देर शाम 6.40 बजे पटना जंक्शन से गया के लिए खुली। पोठही हॉल्ट से खुलने के बाद पुल (मोरहर नदी) पार करके आगे बढ़ रही थी।
– मोड़ (टर्निंग) के बाद इंजन सीधा होते ही लोको पायलट (ड्राइवर) सी कुजुर की नजर ओवरहेड वायर से टूट कर लटकते रॉड पर पड़ी।
– उस समय ट्रेन की रफ्तार 50 किलोमीटर प्रति घंटे की थी.. खतरा सामने था। बचने के लिए लोको पायलट ने पेंटो गिराने की कोशिश की।
– लेकिन तेज रफ्तार के कारण रॉड पेंटो से टकरा गया। 7.15 बजे हिट होते ही जोरदार धमाका हुआ।
क्या बोले चश्मदीद…
– हादसे के चश्मदीद लोको पायलट सी कुजुर ने ‘दैनिक भास्कर’ से कहा- हिट होने के बाद पेंटो गिरा कर ट्रेन बंद कर दिया। उस समय ट्रेन ढलान पर थी।
– समतल में नीमा हॉल्ट पहुंचने पर ब्रेक लगा कर 7.20 बजे ट्रेन को रोका। इस दौरान करीब एक किलोमीटर तक ट्रेन पटरी पर सरकती रही।
– देर शाम करीब साढ़े सात बजे नीमा हॉल्ट पर मेमू ट्रेन रूकने के बाद यात्रियों की परेशानी बढ़ गई। ट्रेन के अंदर तो रोशनी थी पर बाहर अंधेरा था।
– रात 10 बजे तक रेलवे का कोई अफसर नहीं पहुंचा। आखिरकार रात साढ़े 10 बजे रेल एसपी जितेंद्र मिश्र पहुंचे।
– फिर गया से मंगाए गए इंजन के जरिए ट्रेन को रात साढ़े 11 बजे रवाना किया गया।
तार टूटते ही मची अफरातफरी
– धमाका होते ही धड़ाम-धड़ाम… जोरदार आवाज के बीच ट्रेन के ऊपर बैठे लोग नीचे गिरने लगे। अंदर पैसेंजरों के बीच अफरातफरी मच गई।
– तभी यात्रियों के बीच हल्ला हुआ कि तार टूट कर ट्रेन पर गिरा है। कई यात्री ट्रेन से कूदने लगे।
– अपने व्यवसायी पति के साथ गया जा रही पैसेंजर उषा देवी ने बताया कि लोग कह रहे थे कि खिड़की पर तार लटक रहा है। डर के कारण लोग भगवान को याद करने लगे। पै
– सेंजर विजय नारायण के मुताबिक पोठही से ट्रेन खुलने के दो-तीन मिनट बाद ही जोरदार आवाज के साथ ऊपर बैठे लोग गिरने लगे।
– शिक्षक उमेश कुमार सिंह ने बताया कि एक यात्री तो पायदान के पास झटका लगने से गिर गया।

lutanb_1468530916 (1)

LEAVE A REPLY