बिलासपुर । गौरांग हत्याकांड का पुलिस ने किया खुलासा IMG-20160725-WA0005पुलिस ने इसे गैर इरादतन हत्या बताते हुए कहा कि गौरांग की मौत सीढिय़ों से गिरने की वजह से हुई। वह धक्का मुक्की में नीचे गिर गया गौरांग के दोस्त मदद करने की जगह वहां से फरार हो गए घटना को पुलिस से छिपाने का प्रयास किया पुलिस ने उसके दोस्त किंशुक अग्रवाल, करन कुशलानी, करन जायसवाल और अंकित मल्होत्रा सहित चार आरोपियों को धारा 304 व 201, 34 के तहत गिरफ्तार किया है।
एसपी मंयक श्रीवास्तव ने बताया कि अभी मामले की जांच चल रही है यह सिर्फ एक हादसा है इसे हत्या बताना महज एक अफवाह है प्रेस कांफ्रेंस के दौरान सवालों का जवाब देते हुए एसपी मयंक श्रीवास्तव खीजते रहे पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण लीवर फटने के सवाल पर उन्होने कहा कि ऊंचाई से गिरने के कारण भी लीवर फट जाता है।

पुलिस को मॉल की लिफ्ट के कर्मचारी के बयान से सुराग हाथ लगा मामले का खुलासा करने के लिए पुलिस ने मॉल में लगे 102 सीसीटीवी कैमरे की 5 घंटे की फुटेज देखी। पुलिस के मुताबिक जिस पार्टी के बाद गौरांग मृत पाया गया उस पार्टी में गौरांग समेत दस लोग शामिल हुए थे। पार्टी में मौजूद 5 लड़के पार्टी खत्म होने के आधे घंटे पहले ही जा चुके थे। गौरांग समेत बाकी चार युवक किशुंक अग्रवाल, करन जायसवाल और अंकित मल्होत्रा गौरांग के साथ ही पार्टी से बाहर निकले। 3 युवक गौरांग से आगे चल रहे थे और 1 गैरांग के साथ ही चल रहा था।
पुलिस के मुताबिक किंशुक अपनी कार की चाबी बार में ही भूल आया था जिसको लेने के लिए वह वापिस बार की तरफ लौटा। अंकित भी किंशुक के साथ चल दिया। इस दौरान गौरांग, करन जायसवाल और करन कुशलानी लिफ्ट के पास खड़े थे। उन्होने किंशुक से वापिस आने का कारण पूछा और फिर किंशुक व अंकित के साथ टीडीएस बार की तरफ चल दिए और चाबी लेकर वापिस लौटे। पुलिस के मुताबिक मॉल के लिफ्टमैन पुष्पेन्द्र ने बताया कि जब वे पांचों नीचे जाने के लिए लिफ्ट के पास पहुंचे तो उसने लिफ्ट रोकने का प्रयास किया लेकिन लिफ्ट नीचे की तरफ चल दी। जिस कारण सभी दोस्त सीढिय़ों के रास्ते से ही नीचे उतरने लगे।
लिफ्टमैन पुष्पेन्द्र ने बताया कि जिस दौरान मै दो लोगो को छोडऩे के बाद बेसमेंट की ओर जा रहा था उसी दौरान मैने कुछ गिरने की जोरदार आवाज सुनी। जब मै माइनस टू के पास उस स्थान पर पहुंचा तो मैने देखा कि गौरांग वहां खून से लथपथ पड़ा था, उस वक्त उसका कोई साथी वहां मौजूद नहीं था। पुष्पेन्द्र के मुताबिक गार्ड सुपरवाइजर गेंदपाल आर्य और मॉल के अन्य स्टॉफ की मदद से गौरांग को अस्पताल पहुंचाया गया। जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।
सुनामी ब्यूरो बिलासपुर छत्तीसगढ़ ।

LEAVE A REPLY