चन्द्रहाश कुमार शर्मा- सुनामी ब्यूरो

पंचदेवरी/गोपालगंज. देश में विश्वकर्मा समाज के लोगों की संख्या पूरी जनसंख्या के अनुपात में लगभग पांच फीसदी है। विडम्बना यह है की राजनीति में हम विश्वकर्मा बन्धुओं की भागीदारी शुन्य के बराबर है। उक्त बातें पंचदेवरी में आयोजित अखिल भारतीय विश्वकर्मा महासभा के दूसरे प्रखंड सम्मेलन में महासभा के राष्ट्रीय सहायक महामंत्री अशोक कुमार शर्मा ने कहीं। श्री शर्मा ने अपने आधे घंटे के भाषणकाल में विश्वकर्मा समाज के लोगों को संबोधित करते हुये कहा कि अब लोहार, सोनार, बढ़ई, शिल्पकार, ठठेरा एवं कसेरा जाति के लोग अपने बच्चे-बच्चीयों को पढ़ाई के बाद डाक्टर, इंजीनियर बनाने के अलावा राजनीति में जाने की सलाह दें। आज इस समाज को आवश्यकता है कुशल राजनैतिक नेतृत्व की, जिसे आप और हम नहीं बल्कि अब समाज के युवा नेता ही दे सकतें हैं। वहीं महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष छेदीलाल शर्मा विश्वकर्मा ने कहा कि मैं लगभग चार दशकों से विश्वकर्मा समाज के आर्थिक, सामाजिक, औधोगिक,भौतिक एवं बौद्धिक विकास हेतु पुरे भारत में विश्वकर्मा साथियों को प्रेरित करते आ रहा हूं और इसके लिए सम्पूर्ण जीवन काल तक संघर्ष करता रहूंगा। छेदीलाल शर्मा विश्वकर्मा की उम्र लगभग 85 बर्ष होंगे लेकिन उनमें जोश राजनैतिक जोश, ताजगी देखी गयी वह आज के युवाओं में शायद नहीं दिखती। उन्होनें लोहार जाति को केन्द्र सरकार द्वारा अनुसूचित जनजाति की श्रेणी में शामिल करने हेतु केन्द्र की भाजपा सरकार को धन्यवाद देते हुये बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आभार भी प्रकट किया। उन्होंने बताया की लोहार जाति को एसटी में शामिल करने हेतु हमारे नेता सत्तर के दशक से मांग करते आ रहे थे जिसको अगर पुरा करने का प्रयास किया तो वह बिहार के सीएम नीतीश कुमार ही हैं।सभा की अध्यक्षता प्रधानाध्यापक सुनील कुमार शर्मा एवं संचालन विनोद शर्मा ने की। सभा को मुख्य रूप से संबोधित करने वालों में बिहार प्रदेश के महासचिव विश्वकर्मा शर्मा, पंचदेवरी के प्रखंड अध्यक्ष प्रेमजी शर्मा,कटेया के प्रखंड अध्यक्ष कृष्णा शर्मा, कटेया नगर के अध्यक्ष उमेश शर्मा, मिथुन कुमार शर्मा आदि थे।IMG-20160815-WA0014

LEAVE A REPLY