कुल्लू के हाइ-प्रोफाइल स्कूल में नन्हीं छात्रा का -शारीरिक उत्पीड़न,
छात्रा ने किया स्कूल जाने से मना, अभिभावक परेशान, खटखटाएंगे कोर्ट का दरवाजा
कुल्लू, ना पर पूर्ण पावंदी के बावजूद चोरी-छुपे आज भी अधिकांश स्कूलों में यह क्रम जारी है। छात्रों के साथ हो रही इस बद्स्कूली की संख्या सरकारी स्कूलों के बजाए निजी स्कूलों में अधिक पाई गई है। इस मानसिक-शारीरिक पताड़ना को लेकर कुछ बच्चे तो अपने अभिभावकों के साथ बात साझा करते हैं, लेकिन अधिकांश ऐसा नहीं कर पाता, जिस कारण वे गलत कदम उठाने को विवश हो जाते
हैं। लेकिन जो बच्चे अपने माता-पिता या सगे संबंधियों से इस बारे चर्चा करें तो इसके समाधान हो सकते हैं। इसी तरह का एक मामला कुल्लू के हाइ-प्रोफाइल स्कूल का प्रकाश में आया है, जहां पांच वर्ष की एक नन्हीं केजी कक्षा की छात्रा को उसकी टीचर पांच माह तक मानसिक व शारीरिक तौर पर प्रताड़ित करती रही। परिणामस्वरूप इस नन्हीं बालिका ने अंत में इसकी शिकायत अपने माता-पिता से तो की, लेकिन साथ ही स्कूल जाने से मना कर दिया। आज एक सप्ताह बीत जाने के बाद भी यह छात्रों स्कूल नहीं गयी है।
स्कूल प्रबंधन से बातचीत से भी मसला हल होता नज़र नहीं आ रहा है।
प्रताड़ित छात्रा का नाम गार्गी रैना है तथा इसकी माता का नाम भारती रैना
तथा पिता का नाम अमित रैना है। छात्रा के माता-पिता का कहना है कि इस
मामले को लेकर वे सर्वप्रथम संबंधित ओएलएस स्कूल के प्रधानाचार्य डेविस
से मिले तथा उन्हें विस्तार से बताने की कोशिश की लेकिन वह स्कूल की अध्यापिका व स्कूल के अनुशासन का ही आलाप करते रहे। भारती रैना ने कहा कि वे एक नहीं बल्कि दो-तीन बार स्कूल प्रशासन से मिले तथा इस समस्या के समाधान बारे निवेदन करते रहे, लेकिन स्कूल प्रशासन ने उन्हें कोई सकारात्क उत्तर नहीं दिया। आखिर रैना दंपति ने सोमवार को एसडीएम रोहित राठौर से मामले को लेकर चर्चा की, साथ ही प्रेस के समक्ष भी अपनी बात रखी। भारती का कहना है कि उनकी बेटी क्लास टीचर के नाम से ही कांप रही है
तथा स्कूल जाने से मना कर रही है। उन्होंने बताया कि गार्गी 16 अगस्त से स्कूल नहीं गई है। जब गार्गी से बातचीत की गई तो गार्गी ने भी यह सवाल किया कि कहीं मैम तो नहीं आ रही है। इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि उक्त छात्रों को किस हद तक प्रताड़ित किया होगा।
स्कूल के प्रधानाचार्य डेविस का कहना है कि उन्होंने इस बारे छात्रा के माता-पिता से बात की है तथा उन्हें हर संभव सहायता प्रदान की जाएगी।
उन्होंने कहा कि उनका स्कूल हमेशा सच्चाई एवं अनुशासन की पालना करता है।
कहा कि वे व्यक्तिगत तौर पर मामले की छानबीन कर रहे हैं।
उधर, एसडीएम कुल्लू रोहित राठौर ने कहा कि उन्होंने पीड़ित छात्रा के माता-पिता की शिकायत स्वीकार की है तथा नियम के अनुसार ही मामले की छानबीन की जाएगी तथा दोषियों को कड़ी सजा की सिफारिश की जाएगी।

LEAVE A REPLY