एम्बुलेंस में मरीज के जगह ढुलवाया जा रहा है खपड़ा
———————
गाड़ी खाली थी इसलिए ढुलवां रही थी खपड़ा (बी.एम.ओ.)

पंकज यादव  मीडिया

:- शासन द्वारा जIMG-20160904-WA0000हां मरीजों की सुविधा के लिए एम्बुलेंस मुहईया कराया गया. वहीं दूसरी ओर रामानुजगंज में स्थ्ति सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में पदस्थ बी.एम.ओ द्वारा केन्द्र में संचालित एकलौते एम्बुलेंस में मरीजों की जगह खपड़ा ढुलवाया जा रहा है, अधिकारी की यह लापरवाही मरीजों पर भारी पड़ रही है। अधिकारियों द्वारा शासकिय वाहनों का कैसे दुरूपयोग किया जाता है ,इसका जीता जागता उदाहरण बलरामपुर जिला के रामानुजगंज सामुदायिक स्वास्थ्य केंन्द्र में देखा जा सकता है केन्द्र में संचालित एक मात्र एम्बुलेंस में जहॉ मरीजों का साधन होना चाहीए,वहॉ केंन्द्र में पदस्त बी.एम.ओं डॉ.स्नेह लता तिर्कि के द्वारा धड़ल्ले से मरीजों के जगह एम्बलेंस में खपड़ा ढुलवाया जा रहा है। बी.एम.ओं को अपने इस कारनामे पर कोई पछतावा भी नहीं है, पुछे जाने पर उनके द्वारा दिए गए जवाब से ऐसा प्रतित होता है, कि इस अधिकारी में प्रशासन का खौफ भी समाप्त हो गया हो। हाल ही में बहुचर्चीत खबर ओडिसा के कालाहाड़ी जिले में सुनने को मिला जहॉ एक व्यक्ति को एबुलेंस के आभाव में अपनी पत्नी के शव कों अपनी 14 वर्ष की बेटी के साथ कंधे पर रख 12 किलो मीटर का सफर पैदल ही करना पड़ा। यह खबर पुरे देश को झकझोर के रख दी। लेकिन इस खबर से सीख लेने के बजाए, एक लापरवाह अधिकारी द्वारा एबुलेंस का सदउपयोग करने के बजाए दुरूपयोग किया जा रहा है । जिसका उस अधिकारी को तनिक भी पछतावा नही है । यह खबर प्राप्त जानकारी के आधार पर नहीं बल्की आखों देखी है, जब सरगुजा समय समाचार पत्र की टीम बलरामपुर जिले के रामानुजगंज में थी तब पी.डब्लयू. डी. विभाग द्वारा निर्मित एक पुरानें भवन का निर्माण कार्य कराया जा रहा था, जहां पर रामानुजगंज स्वास्थ्य केन्द्र का एक एम्बुलेंस दिखा, जब सरगुजा समय समाचार पत्र की टीम निर्माणाधीन भवन के समीप खडे एम्बुलेस के पास पहुंची तो वहां का नजारा देखतें ही बनता था। ऐसी हैरान कर देने वाली तस्वीरे सामने आई की खुद के आखों पर तुरंन्त यकीन नही नही हो रहा था । हम आपको बता दे की उक्त सामुदायिक स्वास्थ्य केंन्द्र में मरीजों के सुविधा के लिए एक मात्र एम्बुलेंस है. इस एम्बुलेंस में उस निर्माणाधीन भवन से खचाखच खपड़ा लोड़ किया जा रहा था हमारें आखों के सामने ही एम्बुलेंस में खपड़ा लोड़ कर धड़ल्ले से लेेेे भी जाया गया । बी.एम.ओं डॉ.स्नेह लता तिर्कि से पुछेे जानें पर उनके द्वारा दिये गये जवाब से यही अंदाजा लगाया जा सकता है, कि बी.एम.ओं डॉ.स्नेह लता तिर्कि को प्रशासन का तनीक भी खौफ नहीं है। अधिकारियों कि यही लापरवाही मरीजों पर भारी पड़ती है,
———————

अस्पताल का मेस चू रहा था, इसलिए मै एम्बुलेंस से पी.डब्ल्यू. डी. के एस.डी.ओ झरबडे साहब से पुछ कर खपड़ा ढुलवा रही थी। मेरे अधिकारि भी इस बात को जानते है और मुझे भी पता है ! मेरा पहले से ही ट्रांसफर हो गया है अब मेरा और कुछ नही होगा आप खबर लगा दो।
( डा. स्नेह लता तिर्कि )
बी.एम.ओं
रामानुजगंज सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र
———————
30 बिस्तरों वालें अस्पताल में एक एम्बुलेंस है, आश्चर्य है कि एक बी.एम.ओ ऐसा कर रही है,अगर ऐसी घटना हुई है, तो जॉच कराकर गंभीरता पूर्वक कार्यवाही करूंगा।
(डा. जगदिश मेश्राम )
सी.एच.एम.ओं बलरामपुर

LEAVE A REPLY