धर्मशाला स्मार्ट सिटी को 90ः10 में मिलेगी फंडिंग- सुधीर शर्मा

धर्मशाला स्मार्ट सिटी को 90ः10 में मिलेगी फंडिंग: सुधीर शर्मा
धर्मशाला स्मार्ट सिटी को 90ः10 में मिलेगी फंडिंग: सुधीर शर्मा

धर्मशाला, 03 सितम्बर- शहरी विकास, आवास एवं नगर नियोजन मंत्री सुधीर शर्मा ने कहा कि धर्मशाला स्मार्ट सिटी परियोजना के लिए फंडिंग 50ः50 की बजाए 90ः10 के अनुपात के आधार पर प्राप्त होगी। केन्द्र सरकार से इसके लिए मंजूरी दे दी है। उन्होंने कहा कि धर्मशाला स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत धर्मशाला को विभिन्न पहाड़ी राज्यों के सबसे सुंदर एवं आदर्श शहर के रूप में विकसित किया जाएगा तथा इस बात पर भी बल दिया जाएगा कि शहरवासी एक संगठित समाज की तरह विकास कार्यों में सहभागी बन कर आगे बढ़ें। उन्होंने कहा कि इसके लिए विशेष परियोजना वाहन (एसपीवी) के बनने से कार्यान्वयन को तेजी मिलेगी। वे आज स्मार्ट सिटी परियोजना के कार्यान्वयन के संदर्भ में विभिन्न विभागों के मध्य बेहतर समन्वय स्थापित करने के लिए रणनीति निर्माण पर विचार-विमर्श के लिए आयोजित बैठक के उपरांत पत्रकारवार्ता को संबोधित कर रहे थे। शहरी विकास मंत्री ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के माध्यम से स्मार्ट सिटी के तहत विभिन्न विकास प्रस्तावों के कार्यान्वयन को अंतर्राष्ट्रीय स्तर के विशेषज्ञों का एक दल देखेगा। उन्होंने कहा कि परियोजनाओं के बेहतर कार्यान्वयन के लिए पूर्व में स्मार्ट सिटी के विकास एवं समाधानों के सम्बन्ध में वृहद अनुभव रखने वाले विशेषज्ञों का सहयोग लिया जाएगा तथा परियोजना प्रबंधन सलाहकार (पीएमसी) के रूप में उनकी सेवाएं ली जाएंगी। पीएमसी सभी प्रमुख परियोजनाओं के लिए व्यवहारिकता अध्ययन करने के साथ-साथ विस्तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार करने का कार्य करेगी।

शहर में बनेंगे स्वीमिंग पूल एवं जिम्नेजीअम सुधीर शर्मा ने कहा कि परियोजना के अंतर्गत धर्मशाला के दाड़ी मेला मैदान के समीप उपलब्ध जल संसाधन का उपयोग कर 4 स्वीमिंग पूल बनाए जाएंगे। इनमें से 2 स्वीमिंग पूल पुरूषों के लिए और 2 महिलाओं के लिए होंगे। इसके अतिरिक्त, दाड़ी के पुराने पंचायत घर में अंतर्राष्ट्रीय मानकों का जिम्नेजीअम बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी मिशन के अंतर्गत बड़ी परियोजनाएं आरम्भ करने से पूर्व कार्य को आगे बढ़ाते हुए आरम्भ में छोटी परियोजनाएं कार्यान्वित की जाएंगी। इसके तहत शीघ्र ही धर्मशाला शहर में 6000 स्मार्ट स्ट्रीट लाईट लगाने का कार्य शुरू किया जाएगा। इसके साथ-साथ लोगों को चौबीसौं घंटे स्वच्छ पेयजल, विद्युत की आपूर्ति सुनिश्चित बनाने एवं सभी मार्गों के सुधारीकरण का कार्य आरम्भ कर दिया गया है। पेयजल योजनाओं के संदर्भ में जल स्त्रोतोें की स्वच्छता सुनिश्चित बनाई जाएगी, साथ ही जल भंडारण टैंकांे के बेहतर रख-रखाव, सुदृढ़ीकरण और निगरानी के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाने का कार्य किया जाएगा।

पंचायतें भी बनेंगी स्मार्ट शहरी विकास मंत्री ने कहा कि धर्मशाला विधानसभा क्षेत्र की ग्राम पंचायतों में भी स्मार्ट सुविधाएं विकसित करने पर बल दिया जा रहा है। शीघ्र ही सभी पंचायतों में एलईडी स्ट्रीट लाईट लगेगी। सभी पंचायतांे में फ्री वाईफाई इंटरनेट सुविधा भी उपलब्ध करवाई जाएगी। इसके अतिरिक्त, नगर निगम की सीमा से लगी सभी पंचायतों में जीपीएस प्रणाली आधारित सेंसरयुक्त भूमिगत डस्टबिन लगाए जाएंगे।

बनेंगे पार्क, प्राचीन वास्तुकला एवं शिल्प का भी रखा जाएगा ध्यान शहरी विकास मंत्री ने कहा कि धर्मशाला शहर में लोगों को मनोरंजन, आराम एवं टहलने की बेहतर सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए प्रत्येक वार्ड में पार्क विकसित किए जाएंगे। इन पार्कों में बच्चों के खेलने की सुविधा, बड़े एवं बुजुर्गों को टहलने एवं आराम की सुविधा और युवाओं के लिए ओपन एयर जिम स्थापित किए जाएंगे। इसके अतिरिक्त, विभिन्न जगहों पर बनने वाले भवनों, रेलिंग एवं दीवारों इत्यादि के निर्माण में कांगड़ा घाटी के प्राचीन वास्तुकला एवं शिल्प का ध्यान रखा जाएगा। इन निर्माणों में कांगड़ा पेंटिंग का भी प्रदर्शन किया जाएगा, ताकि पर्यटकों को हमारी सांस्कृतिक धरोहर को जानने का भी अवसर मिल सके एवं शहर की सुंदरता में भी बढ़ोतरी हो।

5 हजार से अधिक पार्किंग स्थल बनाए जाएंगे सुधीर शर्मा ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन गणतव्य होने के चलते यहां आने वाले पर्यटकों की सुविधा के लिए धर्मशाला शहर में विभिन्न स्थलों पर 5 हजार से अधिक छोटे-बड़े पार्किंग स्थल विकसित किए जाएंगे।

स्थानीय आर्थिकी के सुदृढ़ीकरण को देंगे बल उन्होंने कहा कि धर्मशाला शहर में ‘हाई एंड टूरिस्ट’ को आकर्षित करने के लिए विशेष बल दिया जाएगा, ताकि स्थानीय व्यवसायियों की आर्थिकी को बल मिल सके। इसके अतिरिक्त, पर्यटकों के लिए शटल सर्विस आरम्भ की जाएगी। शहर में स्मार्ट परिवहन सुविधा भी उपलब्ध करवाई जाएगी। उन्होंने कहा कि लोगों को स्मार्ट समाधान उपलब्ध करवाने के लिए नगरपालिका को ई-नगरपालिका के रूप में रूपातंरित किया जाएगा।

विभागों के साथ बैठक में आपसी समन्वय पर बल पत्रकारवार्ता से पूर्व शहरी विकास मंत्री ने स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत विभिन्न विकास कार्यों के कार्यान्वयन को लेकर विभागों के साथ बैठक की। उन्होंने सभी विभागों को अपनी योजनाएं बनाते समय स्मार्ट सिटी परियोजना के प्रस्तावों को ध्यान में रखने एवं आपसी समन्वय के साथ कार्य करते हुए परियोजना के प्रावधानों के अनुरूप ही अपनी योजनाएं बनाने के निर्देश दिए। उन्होंने बैठक में उपस्थित लोक निर्माण विभाग, सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग, विद्युत बोर्ड और बीएसएनएल के अधिकारियों को संबंधित विभागों की योजनाओं को नगर निगम परिधि में लागू करते समय स्मार्ट सिटी परियोजना के अनुरूप ही रूपरेखा तैयार करने के निर्देश दिए। इस दौरान नगर निगम धर्मशाला के आयुक्त एवं धर्मशाला स्मार्ट सिटी लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी कैप्टन जेएम पठानिया, उप-महापौर देवेन्द्र जग्गी सहित लोक निर्माण विभाग, सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग, विद्युतबोर्डएवंबीएसएनएलकेअधिकारीउपस्थितथे।

 

 

LEAVE A REPLY