हिमाचल प्रदेश: सुधीर शर्मा ने किया कला एवं हस्तशिल्प मेले का शुभारंभ
हिमाचल प्रदेश: सुधीर शर्मा ने किया कला एवं हस्तशिल्प मेले का शुभारंभ


धर्मशाला, 20 सितम्बरः शहरी विकास, आवास एवं नगर नियोजन मंत्री सुधीर शर्मा ने कहा कि कांगड़ा घाटी की परंपरागत हस्तशिल्प कला, कांगड़ा पेंटिंग सहित संपूर्ण सांस्कृतिक विरासत को पुनः विश्व के सांस्कृतिक मानचित्र पर प्राचीन वैभव के साथ स्थापित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार मुख्यमंत्री आदर्श विद्यालयों में संगीत, कला एवं संस्कृति जैसे विषयों को बढ़ावा देने के लिए योजना बनाने पर विचार करेगी।
वे आज भाषा एवं संस्कृति विभाग, हिमाचल प्रदेश के तत्वावधान् में हिमाचल राज्य संग्रहालय, शिमला व कांगड़ा कला संग्रहालय, धर्मशाला द्वारा आयेजित कला एवं हस्तशिल्प मेले के शुभारंभ अवसर पर बोल रहे थे।
सुधीर शर्मा ने कहा कि प्रदेश सरकार सभी कलाकारों के कल्याण एवं उन्हें समुचित सहायता और प्रोत्साहन प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में अच्छी आर्ट गैलरियां बनाये जाने के प्रयास किए जाएंगे, ताकि वहां पर इस कार्य से जुड़े कलाकार अपनी बनाई हुई पेंटिग्स, अन्य कलाकृतियां एवं सामग्री को प्रदर्शित कर सकें।
शहरी विकास मंत्री ने कहा कि धर्मशाला स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत यहां कला एवं संस्कृति केंद्र बनाया जाएगा। इस केंद्र के माध्यम से क्षेत्रीय सांस्कृतिक विरासत के संवर्धन एवं प्रचार-प्रसार के साथ ही कलाकारों को प्रतिभा प्रदर्शन के लिए उत्तम अवसर और राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय एक्सपोजर उपलब्ध होगा।
उन्होंने कहा कि हमारी समृद्ध सांस्कृतिक धरोहर के संरक्षण एवं संवर्धन के लिए इस तरह के आयोजन अत्यधिक महत्वपूर्ण हैं। उन्होंने कला एवं संस्कृति की विरासत को एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी को हस्तांतरित करने और युवाओं को इसके बारे में अवगत करवाने की आवश्यकता पर बल दिया।
इस दौरान शहरी विकास मंत्री ने विभिन्न स्टालों में प्रदशनी एवं बिक्री के लिए रखे उत्पादों और कलाकृतियों का अवलोकन भी किया।
इस अवसर पर महापौर रजनी व्यास, उप-महापौर देवेन्द्र जग्गी, उपमण्डलाधिकारी श्रवण मांटा, संग्रहालय क्यूरेटर डॉ. रितू मनकोटिया, सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी तथा बड़ी संख्या में शहरवासी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY