पर

बिलासपुर । मां महामाया मंदिर रतनपुर में इस बार 31 हजार मनोकामना ज्योत प्रज्जवलित किए जाएंगे। पिछले साल की तुलना में इस वर्ष एक हजार अधिक मनोकामना ज्योत जलाए जाएंगे। प्रदेश में बमलेश्वरी, दंतेश्वरी, मडवारानी जैसे मंदिरों में सबसे अthधिक महामाया मंदिर में ही ज्योत जलाए जाते है। यहां सिर्फ प्रदेश के ही नही देश-विदेश के श्रद्धालुओं की आस्था है जिसके चलते समय के साथ ज्योति कलश की संख्या हर साल बढ़ती जा रही है।

 

मां महामाया मंदिर ट्रस्ट रतनपुर की ओर से इस वर्ष 31 हजार ज्योत प्रज्जवलित करने का लक्ष्य है। अभी तक 30 हजार से अधिक ज्योत-कलश की रसीद काटी जा चुकी है। मंदिर समिति के ट्रस्टी सुनील सोंथलिया ने बताया कि शारदीय नवरात्रि में ज्योत अधिक प्रज्जवलित की जाती है। पिछले साल इसकी संख्या 30 हजार थी हर साल संख्या बढ़ रही है इसलिए इस वर्ष 31 हजार ज्योत जलाने का लक्ष्य है। नवरात्रि के एक दिन पूर्व रात तक बुकिंग होगी। जिस गति से बुकिंग हो रही है एेसा लग रहा है कि लक्ष्य पूरा हो जाएगा।0 बड़े शहरों व विदेशों से कर रहे ऑन लाइन बुकिंगमां महामाया मंदिर के प्रति देश के अलावा विदेशों के श्रद्धालुओं की आस्था जुड़ी हुई है। अमेरिका, दिल्ली, राजस्थान, महाराष्ट्र जैसे जगहों से भी श्रद्धालु ज्योत जलावाते हैं। हर साल 500 से 700 लोग ज्योत के लिए ऑन लाइन बुकिंग करते हैं। इस वर्ष भी 500 लोगों ने ऑन लाइन बुकिंग की है। इसमें दो श्रद्धालु अमेरिका से भी है।0 दस दिनों तक प्रज्जवलित होगा ज्योत मंदिर समिति के वरिष्ठ उपाध्यक्ष सतीश शर्मा ने बताया कि इस वर्ष नवरात्रि दस दिन है इसलिए ज्योत दस दिनों तक प्रज्जवलित होगी। मंदिर में पूरी तरह से तैयारी हो चुकी है। प्रथम दिन घट स्थापना के साथ माता की पूजा शुरू होगी जो दशमी तक मनेगी। नवमीं को माता का विशेष शृंगार कर माता के राजसी रूप के दर्शन भक्त करेंगे।

 

नवरात्रि के लिए सज रहा माता का दरबार

बिलासपुर.शारदीय नवरात्रि के लिए शहर व आसपास के देवी मंदिरों में तैयारी जोर-शोर से की जा रही है। मंदिरों में साफ-सफाई व रंग-रोगन का कार्य चल रहा है। साथ ही रंग-बिरंगी झालरों से माता के मंदिर को सजाया जा रहा है। मां दुर्गा मंदिर जरहाभाठा, मां काली मंदिर तिफरा, मां दुर्गा मंदिर दयालबंद, राजराजेश्वरी त्रिपुर सुंदरी मंदिर, सतबहनिया मंदिर सरकण्डा सहित शहर के प्रमुख मंदिरों में तैयारी चल रही है। शारदीय नवरात्रि में मां दुर्गा की स्थापना कर माता के नौ स्वरूपों की पूजा-अर्चना की जाएगी। दुर्गा मंदिर के पुजारी पंडित ईश्वर प्रसाद पांडे ने बताया कि शारदीय नवरात्रि खास मानी जाती है। इसलिए मंदिर में खास तरह से सजावट व तैयारी हो रही है। मंदिर में रंगाई का कार्य किया जा रहा है। इसके साथ ही ज्योति कलश कक्षो को भी तैयार किया जा रहा है। सतबहनिया मंदिर के पुजारी पंडित एके जोशी ने बताया कि तीन दिन बाद नवरात्रि का पर्व शुरू हो जाएगा। इस वजह से जोर-शोर से कार्य किया जा रहा है।

 

फूलों से सजेगा मंदिर

राज राजेश्वर मां त्रिपुर सुंदरी माता के मंदिर में भी खास तरह की तैयारी हो रही है। मंदिर में पेंट का कार्य हो चुका है। अब रंगीन झालर व फूलों से सजावट का कार्य किया जाएगा। नवरात्रि में माता के दरबार को खास तरह से सजाया जाएगा ताकि मंदिर में आने वाले भक्त माता के दरबार को देखकर आनंदित हो जाए।

 

लाइटों से सजेगा दरबार

तिफरा स्थित मां काली मंदिर में भी शारदीय नवरात्रि की तैयारी की जा रही है। मंदिर के महंत बाबा भवानी दास ने बताया कि मंदिर के सभी मूर्तियों को सजाया जा रहा है। हर कोने में रंग-बिरंगी झालर लगाए जाएंगे। खास तौर पर मंदिर के चारों ओर एलईडी बल्बों से जगमगाएगा। नवरात्रि के एक दिन पूर्व लाइट जलना शुरू होगा।

LEAVE A REPLY