नवीन कुमार /नई दिल्ली :- दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के महापौर श्री श्याम शर्मा ने आज जनकपुरी में आयोजित एक समारोह में दिव्यांगों को तिपहिया वाहन वितरित किए। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि जरूरतमंद लोगों की सेवा सचमुच पूजा के समान होती है। उन्होंने यह भी कहा कि दिव्यांगों की कठिनाइयों को समाप्त करना समाज और प्रशासन दोनों की जिम्मेदारी बनती है। निगम की ओर से दिव्यांगों को मुफ्त तिपहिया वाहन दिए जाते हैं ताकि उनके आवागमन में सुविधा हो और वे आसानी से अपने गंतव्य पर पहुँच कर रोजी-रोटी कमा सकें। श्री शर्मा ने कहा कि निगम इस दिशा में निरंतर काम कर रहा है। महापौर ने दिव्यांगों और समारोह में उपस्थित अन्य लोगों को औषधीय पौधे भी दिए। इन पौधों में ऐलोवीरा, गिलोय और अश्वगंधा के पौधे शामिल थे। श्री शर्मा ने कहा कि भारतीय आयुर्वेद पद्धति का अन्य देशों में प्रचलन बढ़ता जा रहा है क्योंकि आयुर्वेदिक औषधियों का स्वास्थ्य पर कोई विपरीत असर नहीं पड़ता और ये औषधीय दवाएं रामबाण की तरह काम करती हैं। इस अवसर पर श्री शर्मा ने जनकपुरी के बी-1 ब्लाॅक में एक मुख्य मार्ग का नामकरण किया। उन्होंने वहाँ शकुंतला अलावादी मार्ग की नामपट्टिका का अनावरण भी किया। उन्होंने कहा कि श्रीमती अलावादी ने समाज सेवा और गरीबों की मदद के काम में सदैव अग्रणी भूमिका निभायी। उनकी सादगी और सहृदयता के उदाहरण दिए जाते हैं। श्रीमती अलावादी ने विशेष रूप से समाज के आर्थिक रूप से कमजोर लोगों की शिक्षा और बालिकाओं को सशक्त बनाने के काम को आगे बढ़ाया। अपने धार्मिक कार्यों से भी उन्होंने लोगों में अच्छे संस्कार विकसित किए। इस मार्ग का नाम उनकी स्मृति में रखे जाने से नेक मार्ग पर चलने और उनके गुणों को अपनाने की शिक्षा मिलेगी।

LEAVE A REPLY