भागलपुर.यहां एक महिला को घर में घुसकर गोली मारने का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि गोली लगने के बाद महिला जिंदा थी और उसने अपने पति से हॉस्पिटल ले जाने की बात भी कही। लेकिन पति ने उसे हॉस्पिटल ले जाने के बजाए नहलाया और कपड़े बदलकर पलंग पर लिटा दिया। फिर मां काली का नाम लेकर जाप करने लगा।
क्या है पूरा मामला, कैसे लगी महिला को गोली…1_1477165364
  जिस महिला को गोली मारी गई उसका नाम शोम्पा घोष है। वह अपने हसबैंड वीरेश्वर घोष उर्फ वीरेष के साथ आदमपुर में रहती थी।
– जानकारी के मुताबिक, शनिवार शाम वीरेष और उसकी पत्नी पूजा घर में कुर्सी पर बैठे थे। इसी दौरान वहां 15 से 20 साल की उम्र के दो लड़के पहुंचे, उनका चेहरा कपड़े से ढंका था।
– वीरेष के मुताबिक, उनमें से एक लड़के ने जमीन पर गिरा दिया और मेरे सामने ही शोम्पा को गोली मार दी।
गोली लगने के बाद क्या हुआ ?
– लड़के गोली मारकर भाग गए। गोली लगने के बाद शोम्पा ने वीरेष से हॉस्पिटल ले जाने की बात कही।
– लेकिन वीरेष जख्मी शोम्पा को हॉस्पिटल ले जाने की बजाए बाथरूम ले गया और उसके खून लगे कपड़े (नाइटी) को खोलकर नहलाया।
– तब तक शोम्पा जिंदा थी और दर्द से कराह रही थी। फिर भी पति का दिल नहीं पसीजा। नहलाने के बाद वीरेष उसे बेडरूम ले गया।
– वहां उसे दूसरे कपड़े पहनाकर पलंग पर लिटा दिया। इसके बाद काली जी का प्रसाद लाकर खिलाया।
तड़पकर मर गई पत्नी नहीं मिला इलाज
– इस दौरान महिला का दर्द बढ़ता जा रहा था। उसकी बांह और गर्दन से लगातार खून निकल रहा था।
– वीरेष को लगा कि प्रसाद खिलाने से पत्नी ठीक नहीं हुई तो वे काली जी का नाम लेकर जाप करेगा।
– गोली लगने के करीब 15-20 मिनट तक यह सबकुछ चलता रहा और महिला जिंदा रही, लेकिन आखिरकार महिला ने वक्त पर इलाज न मिलने के चलते दम तोड़ दिया।
– करीब शाम पौने सात बजे न्यू ब्रिलियेंट चाइल्ड स्कूल, जबारीपुर की प्रिंसिपल वंदना घोष वीरेष के घर पहुंची तो घटना की जानकारी आसपास के लोगों को हुई।

LEAVE A REPLY