दीपावली

दीपावली पे,

दीप की लग गई दरबार,,

चमक रही आज,

कही हर दिवार,,

खुशियां सजा रखी

आज हर परिवार,,

मन्नत,तमन्ना,चाहत,

की सबने की विचार,,

बहार भी बरस रहा,

आज हुई रोशनी विहार,,

दीपावली पे,

जब दीप रानी की लगी दरबार,,

खबरें छप गई कही,

आज हर अख़बार,,

अंधेरा पे दीप रानी,

आज बाँटने लगी खूब प्यार,,

दरबार ही क्या द्वार-द्वार पे,

सजी रानी आज हुई तैयार,,

उजाला पन,अपना पन पे,

श्रृंखला पे कही वो आज श्रृंगार,,

सतत सपने संयोजा बेठा,

मन्नत मांगता कही संसार,,

◆दीपावली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं◆

धन्यवाद

प्रांजल शुक्ला

कोरबा छत्तीसगढ़
img-20161029-wa0000

LEAVE A REPLY