छमाहण स्कूल की घटना गुरू शिष्य परंपरा पर ठेस-
छमाहण स्कूल की घटना गुरू शिष्य परंपरा पर ठेस-
जिला कुल्लू अध्यापक संघ ने की छमाहण मामले की गहनता से छानबीन की मांग-
सुनामी ब्यूरो कुल्लू(राजीव)-
मणीकर्ण घाटी के छमाहण स्कूल के अध्यापक पर छोटी बच्ची को छेडने की खबर से समस्त जेबीटी अध्यापक आहत हैं। अध्यापक छोटे-छोटे बच्चों को पढ़ाकर बड़े होकर अच्छे नागरिक बनाने का प्रयास करते हैं। अध्यापक को राष्ट्र निर्माता का दर्जा हासिल है। छमाहण स्कूल में पहले भी कई बार अध्यापकों पर आरोप लगाकर लोगों ने मारपीट की है। यह बात पीटीएफ जिला कुल्लू के प्रधान कुलदीप ठाकुर ने कही। उन्होंने कहा कि अध्यापक वर्ग इस घटना को किसी अन्य शडयंत्र का हिस्सा मानते हैं और न्यायपालिका का स मान करते हैं। हमें पूरा भरोसा है कि उक्त अध्यापक को उचित न्याय मिलेगा। उन्होंने कहा कि पुलिस को भी इस मामले की गहनता से जांच करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि यह मामला पूरी तरह से अलग तरह का है। किसी भी अध्यापक की गले से यह आरोप नहीं उतर रहे हैं और इस तरह की घटनाओं से शिक्षकों को छात्रों के लिए शिक्षा प्रदान करना खतरे से खाली नहीं है। आज शिक्षक प्रदेश के दुर्गम क्षेत्रों में अपनी सेवाएं दे रहे हैं यदि इस तरह के आरोप शिक्षकों पर लगते रहे तो भविष्य में शिक्षा में सुधार लाने में कठिनाईयों का सामना करना पड़ सकता है। उन्होंने कहा कि यह मामला इसलिए संवेदनशील हैं कि इससे पहले भी इस स्कूल में अध्यापकों के साथ मारपीट की घटनाएं घट चुकी हैं और हाल ही में पीटीए के  कुछ सदस्यों को बर्खास्त किया गया है। इसलिए इस मामले की गहनता से छानबीन होनी चाहिए कि यह मामला कहीं रंजिस का तो नहीं है। गौर रहे कि हाल ही में छमाहण स्कूल के हैडमास्टर पर 9 वर्ष की छात्रा से छेड़छाड़ का आरोप लगा है और अध्यापक गिर तार किया गया है। इस मामले को लेकर जिला कुल्लू की पीटीएफ अध्यापक संघ ने गहनता से जांच की मांग की है।  अध्यापक संघ का कहना है कि यदि उनका अध्यापक दोषी है तो निश्चित तौर पर सजा मिलनी चाहिए। यदि निर्दोश है तो इस तरह के आरोप गुरू शिष्य के गहन रिश्ते पर काला दाग है।

LEAVE A REPLY