बस से उतर कर सड़क के बिचों-वीच घंटों बैठे रहे लोग-
बलौदाबाजार। करोड़ों खर्च कर सरकार
बना रही है जंगल सफारी ,कुदरती करोड़ों के जंगल की कर नही पा रही रखवारी  ।
बलौदाबाजार। करोड़ों खर्च कर सरकार
बना रही है जंगल सफारी ,कुदरती करोड़ों के जंगल की कर नही पा रही रखवारी  ।
बलौदाबाजार। करोड़ों खर्च कर सरकार
बना रही है जंगल सफारी ,कुदरती करोड़ों के जंगल की कर नही पा रही रखवारी  ।
               बार अभ्यारण्य में विगत दिनों लगभग  100 एकड़ क्षेत्र में अतिक्रमण हेतु की गयी अवैध कटाई को वैध ठहराने अब ग्रामीण मंत्रियो से उच्च स्तर के अधिकारियो के चक्कर लगाने लगे है।इसमें एक पत्रकार को कटाई के समाचार खंडन करने की धमकी भी दिए जाने की खबर है।
    मिली जानकारी के अनुसार विगत दिनों बार क्षेत्र में वन भूमि अधिकार पत्र पाने की लालच में ग्राम ढेबा एवं ढ़ेबी के ग्रामीणों ने प्रतिबंधित क्षेत्र में भी हजारो बड़े छोटे पेड़ो को काट कर वाहां कब्जा कर लिया था।इसकी ग्राउंड रिपोर्ट नवभारत में प्रकाशन के बाद वन विभाग में मची हड़कम्प के बाद विभाग के उच्च अधिकारी घटनास्थल पहुच कर अतिक्रमण हटा कर कोई 150 ग्रामीणों के विरुद्ध वन अधिनियम 1927 की धारा 26 के तहत कार्यवाही की गयी है।कार्यवाही पूर्ण नही हो पाने के कारण अब तक ग्रामीणों को न्यायालय में पेश नही किया जा सका है।ज्ञात हो की उक्त मामले में जिले के एक अधिकारी को हटाया भी जा चूका है।
   दूसरी और ग्राम ढेबा और ढ़ेबी के ग्रामीण अब अपने असंवैधानिक कार्यो को उजागर करने वाले पत्रकारों को ही दोसी बता रहे है।ग्रामीण इसके लिए बाकायदा उच्च अधिकारियों सहित मंत्रियो के पास पहुच कर स्वयं द्वारा अवैध कटाई को सही बताने का प्रयाश कर रहे है।सूत्रों के अनुसार वन विभाग के कुछ बड़े अफसर ग्रामीणों को पत्रकारों तक भेज कर अवैध कटाई का खंडन करने दबाव बना रहे है।ज्ञात हो विगत वर्ष भी देवगांव क्षेत्र में एक बायसन की वीभत्स हत्या में उक्त अधिकारी के करीबियों के नाम चर्चा में थे।बहरहाल प्रतिबंधित क्षेत्र में अवैध कटाई के बाद कार्यवाही के बीच ग्रामीणों को विभगिय अधिकारियो के सहयोग से अब वनों की सुरक्षा भगवान भरोसे हो गयी है।

LEAVE A REPLY