पटना.नीतीश कुमार ने कहा कि उनकी राजनीतिक हत्या की साजिश की जा रही है। न मैं भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने मिला और न ही पीएम नरेंद्र मोदी से काेई बात हुई। फिर भी चंद स्वार्थी तत्वों ने ऐसी खबरें फैलाई। एक बात मैं साफ कर दूं कि हम नोटबंदी के फैसले के साथ हैं, भाजपा के नहीं। केंद्र की भाजपा सरकार की उन्मादी राजनीति, समाज को बांटने की प्रवृति, संघीय ढांचे पर प्रहार और असहिष्णुता के खिलाफ जदयू का संघर्ष देश को भाजपामुक्त बनाने तक जारी रहेगा।
सोमवार को जदयू विधानमंडल दल की बैठक में सीएम ने कहा कि यूपीए सरकार के समय भाजपाशासित राज्य जीएसटी का विरोध कर रहे थे, उस समय भी उन्होंने राष्ट्रीय हित में इसका समर्थन किया था। दौर बदला है। जीएसटी के विरोधी आज इसका श्रेय लेना चाहते हैं। राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े मुद्दे, कालाधन पर कार्रवाई और जीएसटी जैसे राष्ट्रीय हित के मुद्दे जैसी हर अच्छी बात का उन्होंने समर्थन किया है। आज कल राजनीतिक सवालों पर उनकी राय जाहिर होने के बाद उसकी अनर्गल राजनीतिक व्याख्या की जाने लगती है। लेकिन, वे इसकी चिंता नहीं करते हैं।
 उन्होंने कहा कि नोटबंदी का फैसला पर्याप्त कदम नहीं है। जबतक सभी तरह की बेनामी संपत्ति पर प्रहार नहीं होगा, कालाधन उजागर नहीं हो सकता है। नोटबंदी और बेनामी संपत्ति पर प्रहार के साथ-साथ शराब के अनैतिक व्यापार पर अंकुश लगाकर ही देश और समाज का निर्माण हो सकता है। यही समय है नोटबंदी पर चोट का। अगर केंद्र ने तुरंत कदम नहीं उठाया तो पीएम की नीयत पर सवाल उठने लगेंगे।
1_1480373579
मुख्यमंत्री ने कहा कि जो मामले राज्य से जुड़े हुए नहीं हैं, वैसे मामले को सदन में उठाकर महागठबंधन पर प्रहार करने की विपक्ष की कार्यप्रणाली न केवल अनैतिक है, बल्कि राजनीतिक मर्यादा के विपरीत है। एक तरफ लोग राजनीति में वोट के लिए झूठे वादे करते हैं और दूसरी ओर उन्होंने सात निश्चय के आधार पर जनादेश लिया तो एक वर्ष के अंदर क्रियान्वयन शुरू कर दिया। सात निश्चय का कार्यक्रम आम लोगों के जीवन से जुड़ा है। इसका जनजीवन पर गहरा असर पड़ेगा। बैठक को संसदीय कार्यमंत्री श्रवण कुमार और विधानसभा में जदयू विधायक दल के उपनेता श्याम रजक ने भी सं‍बोधित किया।
नोटबंदी के साथ बेनामी संपत्ति पर भी हो प्रहार
मुख्यमंत्री ने कहा कि कालाधन पर कार्रवाई के साथ बेनामी संपत्ति, सोना और हीरा जमा करने वाले पर भी कार्रवाई करने का उचित समय है। केंद्र की नोटबंदी की कार्रवाई का स्वागत है, लेकिन पूरी तैयारी नहीं होने से जनता को हो रही परेशानी को हमारी पार्टी संसद से लेकर विभिन्न फोरम पर गंभीरता से उठा रही है।
पैसा रखकर क्या करेंगे, कफन में जेब नहीं होती
विधानसभा के कार्यालय कक्ष में बातचीत में सीएम ने कहा कि पैसा जमा कर लोग क्या करेंगे। ऊपर तो अकेले जाना है, कोई साथ नहीं जाता और कफन में जेब भी नहीं होती है। कहा कि हमारी यह भावना रही है कि भारत से चीन को पछाड़ना है। चीन से आगे निकलना है तो केंद्र को शराबबंदी का फैसला साथ करना होगा।

LEAVE A REPLY