(शैलेश कुमार पाण्डेय )
नई दिल्ली. राहुल गांधी शुक्रवार को पीएम से मिलने पहुंचे। पीएम के संसद ऑफिस में उनके साथ कांग्रेस नेताओं का एक डेलिगेशन भी शामिल था। इस दौरान राहुल ने मोदी के सामने किसानों के कर्ज माफी की मांग की। मोदी से मीटिंग के बाद राहुल ने कहा, ”हमने प्रधानमंत्री जी से कहा वो rahul-modi-meet_148186822। पीएम ने माना कि किसानों की समस्या गंभीर है। कर्ज माफ करने की बात पर उन्होंने कुछ नहीं कहा, सिर्फ सुना।” मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मोदी ने राहुल से कहा- ”ऐसे ही मिलते रहिए।” कांग्रेस नेताओं के साथ मोदी दस मिनट तक मिले। बता दें कि दो दिन पहले राहुल ने मोदी पर पर्सनल करप्शन के आरोप लगाए थे।
राहुल बोले- जैसे एक लाख 40 हजार करोड़ माफ किया, वैसे किसानों का कर्ज माफ करें…
 – राहुल गांधी ने मुलाकात के बाद कहा, “पूरे देश में किसान खुदकुशी कर रहे हैं। सरकार ने गेंहू पर से इम्पोर्ट ड्यूटी हटा ली है ये नुकसान पहुंचाने वाला कदम है।”
– “जिस तरह से सरकार ने एक लाख 40 हजार करोड़ रुपए माफ किए। उसी प्रकार किसानों के लिए वो कर्जा माफ करें। कर्नाटक, महाराष्ट्र, यूपी, पंजाब की बात उठाई गई।”
– “पंजाब में हर रोज एक किसान आत्महत्या कर रहा है। हमने कहा है कि जल्दी से जल्दी वो हिंदुस्तान के किसानों को राहत दें।”
– कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने कहा, ”हमने पीएम से मिलकर किसानों की समस्याओं को उठाया। हमारे पास 2 करोड़ किसानों के मांगपत्र थे। इसे हमने पीएम के सामने रखा। इसमें पंजाब के 50 लाख किसानों की मांग शामिल है।”
– पंजाब के कांग्रेस नेता कैप्टन अमरिंदर सिंह भी इस डेलिगेशन में शामिल थे।
– उन्होंने कहा, ”किसानों के कर्ज, सुसाइड और एमएसपी मुद्दे पर हम पीएम से मिले। उन्होंने मामला सुलझाने का वादा किया।”
राहुल बोले थे- मोदी के खिलाफ पर्सनल करप्शन के सबूत
– बता दें कि राहुल गांधी ने कहा था कि मोदी के खिलाफ मेरे पास पर्नसल करप्शन के सबूत हैं।
– बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा, ”राहुल गांधी भ्रष्टाचार से जुड़ी सूचना पुलिस या कोर्ट को नहीं देते हैं तो उन्हें तीन साल तक की कैद हो सकती है।”
– गुरुवार को संसदीय कार्य राज्यमंत्री ने कहा था, ”सरकार आज अगस्ता वेस्टलैंड मामले पर भी चर्चा कराना चाहेगी।”
– राज्यसभा सदस्य मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा था, ”करप्शन के कुएं से कांग्रेस के करप्शन के कंकाल निकल रहे हैं। अफसोस यह है कि कांग्रेस के युवराज खुद कांग्रेस मुक्त भारत की कहानी लिख रहे हैं।”
– ”कांग्रेस और उसके पॉलिटिकल पाखंड के पार्टनर इस बात को नहीं समझ पा रहे हैं कि जमीनी हकीकत और सच्चाई क्या है।”
– ”दो साल पहले ठीक इसी तरह राहुल ने अपनी बांहें समेट कर कहा था कि ललित मुद्दे पर बोलूंगा तो तूफान आ जाएगा। भूचाल तो आया पर वो कांग्रेस में आया। विधानसभा, पंचायत, नगरपालिका जैसे चुनावों में कांग्रेस का सूपड़ा साफ हो गया।”

LEAVE A REPLY