(शैलेश कुमार पाण्डेय )buxar-jail1_1483171513
पटना.वे जेल की काल कोठरी में बंद रहें और बाहर पूरी दुनिया नए साल का जश्न मनाए यह बिहार के बक्सर के सेंट्रल जेल में बंद पांच कैदियों को मंजूर न था। फांसी और उम्रकैद की सजा पाए इन कैदियों ने जेल से भागने का प्लान बनाया और उसपर अमल कर शनिवार सुबह करीब तीन बजे फरार हो गए।
शौचालय की खिड़की तोड़ हुए फरार…
 जेल से भागने के लिए कैदियों ने अस्पताल वार्डन के शौचालय की खिड़की का इस्तेमाल किया। पहले सभी ने मिलकर खिड़की तो तोड़ दिया फिर उसी रास्ते जेल से बाहर निकल गए। कैदियों के भागने की खबर मिलते ही जेल में हड़कंप मच गया।
 संगीन मामलों में पांचों को मिली थी सजा
 कैदी नं. 1- प्रदीप सिंह
प्रदीप सिंह मोतिहारी जिले का रहने वाला है। हत्या के मामले में उसे फांसी की सजा मिली थी।
 कैदी नं. 2- देवधारी राय
छपरा जिले का देवधारी राय रेप के मामले में उम्रकैद की सजा काट रहा था।
 कैदी नं. 3- सोनू पांडेय
आरा जिले के सोनू पांडेय को हत्या के मामले में उम्रकैद की सजा मिली थी।
कैदी नं. 4- उपेंद्र साह
उपेंद्र भी आरा जिले का है और उसे भी हत्या के मामले में उम्रकैद की सजा मिली थी।
कैदी नं. 5- सोनू सिंह
सोनू बक्सर जिले का रहनेवाला है। अपहरण के केस में उसे 10 साल जेल की सजा मिली थी।
कैदियों को पकड़ने के लिए पुलिस मार रही है रेड
जेल से भागे कैदियों को पकड़ने के लिए तड़के सुबह से पुलिस छापेमारी कर रही है। पूरे जिले की पुलिस को हाई अलर्ट पर रखा गया है। कैदियों के संभावित ठिकानों पर पुलिस रेड मार रही है, लेकिन अभी तक उनका सुराग नहीं मिला है। कैदियों के तलाश के लिए बिहार और उत्तर प्रदेश की सीमा से लगे इलाके में तलाशी की जा रही है।
 तीन कक्षपाल निलंबित
कैदियों के फरार होने के संबंध में कारा महानिरीक्षण ने जांच का आदेश दिया है। उन्होंने जांच दल को 24 घंटे के अंदर रिपोर्ट देने का निर्देश दिया है। इस केस में जेल के मुख्य उच्च कक्षपाल कामेश्वर पासवान, कक्षपाल उपेंद्र दास और राजकुमार राम को निलंबित कर दिया गया है।
 सवालों के घेरे में जेल की सुरक्षा
कैदियों के फरार होने के बाद जेल की सुरक्षा सवालों के घेरे में है। प्रशासन को इस बात की सूचना मिली थी कि जेल में गड़बड़ होने वाला है। इस सूचना के आधार पर प्रशासन ने 24 घंटे पहले जेल की तलाशी ली थी। हर वार्ड को चेक किया गया था तब इन पांचों कैदियों की भी चेकिंग की गई थी, लेकिन कुछ नहीं मिला था। प्रशासन द्वारा तलाशी लिए के बाद भी कैदी जेल से भागने में कामयाब रहे। बक्सर के एसडीओ गौतम कुमार ने कहा कि पूरे मामले की जांच की जा रही है।

LEAVE A REPLY