दूसरी राजधानी का निर्णय संपूर्ण उत्तरी क्षेत्र के लिए बहुत बड़ी सौगात: केवल
img_20170303_114415_1
 धर्मशाला, 03 मार्च – धर्मशाला को दूसरी राजधानी बनाने के निर्णय से क्षेत्र के सभी लोग लाभान्वित होंगे और उनके जीवन में विकास के एक नया युग आरंभ होगा। मुख्यमंत्री श्री वीरभद्र सिंह का यह निर्णय संपूर्ण उत्तरी क्षेत्र के लोगों के लिए बहुत बड़ी सौगात है, जिसके लिए समस्त क्षेत्रवासी हमेशा उनके कृतज्ञ रहेंगे। उपाध्यक्ष वन निगम ने आज धर्मशाला में प्रेस वार्ता को सम्बोधित करते हुये यह विचार प्रकट किए। 
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की इस घोषणा में संपूर्ण क्षेत्र के लोगों के लिए उनके दिल में व्याप्त स्नेह की भावना निहित है। उन्होंने कहा कि धर्मशाला कांगड़ा जिला का मुख्यालय होने के साथ-साथ लगते चंबा, हमीरपुर और ऊना जिला के लोगों के लिए केंद्रीय स्थल भी है। इसलिए धर्मशाला के राजधानी बनने से इन जिलों के सभी लोगों को सीधा लाभ होगा तथा क्षेत्र के लोगों को घर द्वार पर अपनी समस्याओं के समाधान के अवसर प्राप्त होंगे। 
केवल पठानिया ने कहा कि इस क्षेत्र के लोगों की सुविधा के लिए पूर्व में कांग्रेस सरकार ने ही हिमाचल स्कूल शिक्षा बोर्ड धर्मशाला में खोला। लोक निर्माण एवं सिंचाई तथा जनस्वास्थ्य विभाग एवं विद्युत विभाग के मुख्य अभियंता कार्यालय खोल कर लोगों को सुविधा प्रदान की गई। इस क्षेत्र के तहत ऊना में आईआईआईटी, हमीरपुर और चंबा में मेडिकल कॉलेज, नगरोटा बगवां में राजीव गांधी इंजीनियरिंग कॉलेज और राजेन्द्र प्रसाद मेडिकल कॉलेज और फार्मेसी कॉलेज खोलने के साथ साथ  लोगों की सुविधा के लिए अनेक डिग्री कालेज एवं स्कूल खोले गए हैं। 
उन्होंने कहा कि हाल के अपने प्रवास के दौरान मुख्यमंत्री ने इस पूरे क्षेत्र के में करोड़ों रुपये की विकास परियोजनाएं लोगांे को समर्पित की हैं। लोगांे की सुविधा के लिए जहां नए एसडीएम कार्यालय खोले गये हैं, वहीं विभिन्न स्थानों पर शैक्षणिक, स्वास्थ्य व अन्य संस्थान खोलने की घोषणा की है जो इस बात का प्रमाण है कि श्री वीरभद्र सिंह समूचे प्रदेश के संतुलित विकास में विश्वास रखते हैं।
इस अवसर पर वरिष्ठ कांग्रेस नेता देव दत्त शर्मा, विनय कुमार भी उपस्थित रहे। 

LEAVE A REPLY