(शैलेश कुमार पाण्डेय )
गोपालगंज / कुचायकोट : 08-gopalganj-19 08-gopalganj-20
-जल सत्याग्रहियों के साथ चार सौ महिला पुरूष उपवास पर बैठे
– आज से आमरण अनशन करेंगे जल सत्याग्रही व ग्रामीण
– बाढ नियंत्रण विभाग के खिलाफ इलाके के लोगों में जनाक्रोश-
– सत्याग्रहियों के समर्थन में उपवास पर बैठी महिलाएं
नारायणी नदी की त्रासदी से इलाको को बचाने के लिए  इलाके के लोग भागीरथ तपस्या जल सत्याग्रह के जरिये कर रहे. नौ मार्च से सत्याग्रहियों ने आमरण अनशन का निर्णय लिया है.
संवाददाता, कालामटिहनिया
कुचायकोट प्रखंड के कालामटिहनिया में गंडक दियारा संघर्ष समिति का जल समाधि सत्याग्रह आंदोलन के 20 वें दिन इलाके के चार सौ महिला और पुरूष सत्याग्रहियों के साथ उपवास आंदोलन पर बैठ गये. महिला और पुरूष अलग अलग उपवास पर बैठे. जबकि सैकड़ों की संख्या में महिलाएं सत्याग्रहियों के साथ नदी में सत्याग्रह की शुरूआत की. महिलाओ के सात्याग्रह शुरू किये जाने से इलाके के लोगों में सरकार के खिलाफ आक्रोश बढता जा रहा है. उधर, बुधवार को प्रशासन या कोई भी जन प्रतिनिधि सत्याग्रहियों की स्थिति जानने तक नहीं पहुंचे. उधर सत्याग्रहियों ने स्पष्ट किया कि जब तक निर्माण कार्य शुरू नहीं होगा तब तक गुरूवार से आमरण अनशन की शुरूआत की जायेगी. जबकि लोगों ने स्पष्ट किया कि आमरण अनशन के साथ ही चक्का जाम आंदोलन भी किया जायेगा.
सत्याग्रह के समर्थन में  बुधवार को तीसरे दिन  उपवास में मुख्य रूप से दुर्गावती देवी, ज्ञांति देवी, राधा देवी,लालमति देवी, रूमाली देवी, खैरून नेशा, कलावती देवी, गीता देवी, मंसुरियां देवी, सरली देवी, पूनम देवी, रामावती देवी के नेतृत्व में जिला पार्षद पन्ना देवी, मुखिया शायरा खातून, सरपंच मीरा देवी, सामाजिक कार्यकर्ता शैलेश पांडेय, बीडीसी प्रमीला देवी, अमीर पटेल, वार्ड सदस्य मुन्नी देवी, रामाकांत सिंह, शंभु राय, सिपाही बैठा, दिनेश शाह के अलावे महिलाएं उपवास  पर रही. जबकि समन्वयक राजेश देहाती,  रौशन साह, मिथिलेश राय, कृष्णा यादव, अवधेश सिंह, राजद नेता अरूण सिंह, अजय कुशवाहा, मुमताज अली, सचिन स्नेही, नंद किशोर, बिटटू, नाजीर अली, दिनेश शर्मा, विजय मांझी, जगरनाथ सिंह, मुन्ना पंडित, उमेश यादव, भीम यादव, प्रदीप मांझी, रवि कुमार, राजेश, छट‍ठु , सुनील, गुड्डू, अर्जुन, रामनारायण, अशोक मानिकपुर के पैक्स अध्यक्ष रामकिशुन यादव, जगीरीटोला के पैक्स अध्यक्ष विरेंद्र सिंह, चंद्रगुप्त सहित सैकडों की संख्या में दियरावासी, विस्थापित, महिलाएं व अन्य ग्रामीण शामिल हुए.
डॉक्टरों की टीम ने किया सत्याग्रहियों की जांच
 बुधवार को कुचायकोट अस्पताल से डॉ बीके सिंह की टीम ने स्वास्थ्य जांच किया. डॉक्टरों ने स्थिति को बेहतर नहीं माना है.पैर में इन्फेक्शन  के कारण दिनों दिन स्थिति बिगड़ रही है. सत्याग्री दियारा संघर्ष समित के संयोजक अनिल मांझी, असगर अली,तथा राजबल्लम के अलावे एक दर्जन लोगों की स्वास्थ्य की जांच किया गया. कई लोगों में रक्तचाप गिरने की शिकायत मिली. सामुहिक उपवास में बैठे कई लोगों की बीपी लो पायी गयी. वही सत्याग्रहियों की स्वास्थ्य पर लगातार नजर रखी जा रही है.
कागजी प्रक्रिया में उलझा है विभाग
बाढ नियंत्रण विभाग कालामटिहनिया में गाइड बांध निर्माण, पायलट चैनल बनाये जाने एवं बचाव कार्य के लिए बोल्डर पिचिंग कराने की कागजी प्रक्रिया में उलझी हुई है. विभाग के उलझे होने के कारण यहां निर्माण कार्य शुरू होने में लगातार विलंब होते जा रहा है. जिला प्रशासन का पहल भी विभाग के कानूनी अड़चन को नहीं मिटा पा रहा है. इधर एक एक दिन होते विलंब के कारण अब दियारा के लोगों का धैर्य टूटने लगा है.

LEAVE A REPLY