????????????????????????????????????

नवीन कुमार /नई दिल्ली :-द.दि.न.नि ने आज डेंगू, मलेरिया एवं चिकनगुनिया जैसी मच्छरजनित बीमारियों से बचाव व रोकथाम हेतु इंडिया हैबिटेट सेंटर, लोधी रोड, नई दिल्ली में एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में कीटजनित रोगों की रोकथाम एवं नियत्रंण पर गहन चर्चा की गई। इस अवसर पर महापौर श्री श्याम शर्मा, आयुक्त डॉ. पुनीत कुमार गोयल, अतिरिक्त आयुक्त मीता सिंह, निगम स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी. के. हजारिका सहित दिल्ली सरकार, विभिन्न एजेंसियों और विभिन्न अस्पतालों के अधिकारी व अन्य विशेषज्ञ भी उपस्थित थे।
इस अवसर पर आयुक्त डॉ. पुनीत गोयल ने कहा कि अगर सभी एजेंंसिया कारगर तरीके से मिल कर काम कर रही होती तो इस कार्यशाला के आयोजन की जरूरत महसूस नही की जाती। दिल्ली के निगम और अन्य एजेंसिया उस समय सक्रिय होती है जब जुलाई से सितम्बर के महीने के बीच हालात बिगडने लगते़ हैं। उन्होंने कहा कि हमें नालों की सही सफाई, डीबीसी कर्मचारियों से ईमानदारी से काम कराने और पूरी तरह सुपरविजन करने से इन बीमारियों के प्रसार पर रोक लगा सकते हैं।इसके अलावा इन बीमारियों का अध्ययन और अनुसंधान करने का काम विशेषज्ञों का है। उन्होंने यह भी कहा कि सूरत में नालों की सफाई की चुस्त दुरूस्त व्यवस्था है। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि वे सूरत में जाकर इसका अध्ययन करे। डॉ. गोयल ने नालों की सफाई के काम में दिल्ली जल बोर्ड के साथ तालमेल करने पर बल दिया। उन्होंने यह भी कहा कि अधिकारियों को यह भी पता लगाना चाहिए कि दिल्ली से बाहर से कितने रोगी राजधानी में आ रहे हैं। इस बारे में सही तस्वीर प्रस्तुत करने की आवश्यकता है। उन्होंने यह भी कहा कि इन बीमारियों में काबू पाने के लिए हिट अर्ली और हिट हार्ड का तरीका अपनाया जाना चाहिए। डेंगू और चिकनगुनिया जैसी बीमारियों का प्रकोप बढ़ने से पहले ही हमें नागरिकों को इन बीमारियों के बारे में पूरी जानकारी दे देनी चाहिए ताकि रोकथाम से ही इनका इलाज किया जा सके। उन्होंने कहा कि मच्छरों को पनपने से रोक कर ही हम इन जानलेवा बीमारियों को रोक सकते हैं।
महापौर श्री श्याम शर्मा ने बताया कि इस कार्यशाला का उदे्श्य कीटजनित बीमारियों से बचाव हेतु पहले से ही उपयुक्त तैयारी कर लेना है। उन्होंने बताया कि हमें अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए एक बेहतर एक्शन प्लान तैयार करना है और उसे अमल में भी लाना है। श्री शर्मा ने नागरिकों, अधिकारियों और सभी एजेंसियों से अपील की है कि वह पूर्ण सहयोग दे और अपने सतत् प्रयासों से इन बीमारियों की रोकथाम हेतु उपाए करे। उन्होंने कहा कि सभी के सहयोग से ही इन बीमारियों पर नियंत्रण पाया जा सकता है।
अतिरिक्त आयुक्त श्रीमती मीता सिंह ने कहा कि हर वर्ष यह कार्यशाला अप्रैल महीने में शुरू की जाती है लेकिन इस बार मार्च महीने मे की गई है। उन्होंने कहा कि हमें जागरूकता, बचाव और बीमारियों के उन्मूलन पर जोर देना है कि ताकि इन बीमारियों पर काबू पाया जा सके । उन्होंने विभिन्न एजेंसियों के बीच सही तालमेल बनाने और एक प्रभावी रणनीति बनाने को कहा। उन्होंने जनता से अपील की कि वे अपने यहां चैकिंग के लिए आने वाले फील्ड स्टाफ को अंदर आने की अनुमति दें। हम कई वर्षां से इस कार्यशाला का आयोजन कर रहे हैं और निगम नोडल एजेंसी होने के कारण निरंतर इन कीटजनित बीमारियों की रोकथाम हेतु भरपूर प्रयास कर रहा

LEAVE A REPLY