जिला कांगड़ा की सरकारी, निजी व स्कूल बसों में चाइल्डलाइन का हेल्पलाइन नंबर 1098 अंकित किया जाएगा। यह निर्णय परिवहन विभाग ने चाइल्डलाइन कांगड़ा की पहल पर लिया है। चाइल्डलाइन कांगड़ा ने परिवहन विभाग के आरटीओ धर्मशाला से जिला में चलने वाली सरकारी, निजी व स्कूल बसों में संस्था का हेल्पलाइन नंबर 1098 अंकित करना सुनिश्चित करने का आग्रह किया था, जिस पर आरटीओ ने स्वीकृति प्रदान करते हुए एमबीआई को इस बारे में दिशानिर्देश जारी कर दिए हैं। संस्था द्वारा सरकारी, निजी व स्कूल बसों में हेल्पलाइन नंबर अंकित करने का उद्देश्यय भीख मांगने वाले बच्चों, बसों व बस अडडों में लावारिस बच्चा दिखने पर कोई भी चाइल्डलाइन हेल्पलाइन 1098 पर संपर्क करके इस बारे में जानकारी दे सकता है। इसके अतिरिक्त स्कूल बसों में बढ़ रही ओवरलोडिंग की शिकायत भी हेल्पलाइन नंबर पर की जा सकेगी। चाइल्डलाइन संस्था के समन्वयक मनमोहन चौधरी ने बताया कि चाइल्डलाइन एक निशुल्क राष्ट्रीय चाइल्ड हेल्पलाइन है, जो कि 0 से 18 वर्ष आयु वर्ग के बच्चों को शोषण से बचाने व उनकी शिक्षा, स्वास्थ्य, संरक्षण के लिए समर्पित है। उन्होंने बताया कि हेल्पलाइन नंबर के माध्यम से कोई भी व्यक्ति बाल मजदूरी, बाल विवाह, भिक्षावृत्ति, अनाथ बच्चों या यौन शोषण के मामलों की शिकायत की जा सकती है।
बाक्स
चाइल्डलाइन की ओर से संस्था का निशुल्क 1098 हेल्पलाइन नंबर सरकारी, निजी व स्कूल बसों में अंकित करने का आग्रह किया गया था। जिस पर एमबीआई को निर्देश जारी कर दिए गए हैं कि कोई भी गाड़ी पासिंग के लिए आती है तो उसमें 1098 नंबर अंकित करना सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने बताया कि इसके लिए सर्कुलर जारी किया गया है। विभाग द्वारा चाइल्डलाइन को पूरा सहयोग किया जाएगा।
संदीप सूद, आरटीओ, धर्मशाला

LEAVE A REPLY