जिले में 01 अप्रैल से वाहनों में

प्रदूषण की सघन जांच

प्रमाण पत्र नहीं पाये जाने पर होगा जुर्माना

बिलासपुर जिला  में 01 अप्रैल indiatv_paisa_truck_polluti12017 से वाहनों में प्रदूषण की सघन जांच होगी और प्रदूषण जांच प्रमाण पत्र नहीं पाये जाने पर वाहनों पर जुर्माना किया जायेगा।  संभागायुक्त श्रीमती निहारिका बारिक सिंह की अध्यक्षता में इस संबंध में आयोजित बैठक में उक्ताशय का निर्देश दिया गया। बैठक में आईजी श्री विवेकानंद सिन्हा और पुलिस अधीक्षक श्री मयंक श्रीवास्तव भी उपस्थित थे।

संभागायुक्त ने निर्देशित किया कि सभी प्रकार के वाहनों में प्रदूषण की सघन जांच की जाये। प्रदूषण जांच प्रमाण पत्र नहीं पाये जाने पर पहली बार में टू व्हीलर को 200 रूपये, थ्री व्हीलर को 400 रूपये, फोर व्हीलर को 600 रूपये और भारी वाहनों को 1500 रूपये का जुर्माना होगा। बिलासपुर जिले में वर्तमान में 14 प्रदूषण केन्द्र संचालित हैं, 5 जांच केन्द्र मोबाईल है और 5 डीलर पाईंट में है। साथ ही चार अलग-अलग स्थानों पर भी जांच केन्द्र संचालित हैं। पेट्रोल पंप में भी प्रदूषण जांच केन्द्र बनाया जायेगा। उल्लेखनीय है कि जिले में 40 जांच केन्द्र खोले जाने है। इन जांच केन्द्रों मंे प्रदूषण जांच हेतु टू व्हीलर के लिए 40 रूपये, थ्री व्हीलर के लिए 60 रूपये, फोर व्हीलर के लिए 80 रूपये, भारी वाहन के लिए 100 रूपये और सबसे भारी वाहन के लिए डेढ़ सौ रूपये फीस निर्धारित है। प्रदूषण जांच प्रमाण पत्र की वैधता 6 माह तक होती है। नये वाहन एक साल तक प्रदूषण जांच से मुक्त रखे गये हैं। इसके पश्चात् हर 6 माह में जांच कराना आवश्यक है। आरटीओ श्री देवेन्द्र केशरवानी ने बताया कि भारी वाहनों में प्रदूषण जांच का कार्य प्रारंभ है तथा 01 अप्रैल से सभी प्रकार के वाहनों में प्रदूषण की सघन जांच की जायेगी और यह अभियान निरंतर चलता रहेगा। इसके पूर्व सभी शासकीय वाहनों में प्रदूषण की जांच की गई थी। जिला कोर्ट में भी मोबाईल केन्द्र के माध्यम से वाहनों की जांच का कार्य किया गया था।

LEAVE A REPLY