विद्यार्थियों के अनुपात में शिक्षकों की पदस्थापना करें- कलेक्टर
1 से 22 अप्रैल तक शाला प्रवेशोत्सव, प्रथम शनिवार को बाल सभा एवं चतुर्थ शनिवार को पालक दिवस मनाया जाएगा
बलौदा बाजार। कलेक्टर डाॅ.बसवराजु एस. ने नवीन शिक्षा सत्र 2017-18 सफल संचालन हेतु विकासखंड शिक्षा अधिकारी, विकासखंड स्त्रोत समन्वयक, संकुल शैक्षणिक समन्वयक को निर्देशित किया कि 1 अप्रैल से 22 अप्रैल 2017 तक शाला प्रवेशोत्सव मनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि शाला प्रवेशोत्सव मनाने का उद्देश्य पालकों को शिक्षा के प्रति जागरूक कर शत-प्रतिशत बच्चों को शालाओं में प्रवेश दिलाना है। जिन शाला संकुलों में गणवेश एवं पाठ्यपुस्तक प्राप्त हो गए है उन्हें तत्काल वितरित किया जाये। प्रथम शनिवार को बाल सभा, चतुर्थ शनिवार को पालक दिवस का आयोजन कर स्थानीय जनप्रतिनिधी की उपस्थिति में कार्यक्रम का आयोजन किया जाये। विद्यार्थियों के अनुपात में शिक्षकों की पदस्थापना करते हुए जिन शालाओं में अधिक शिक्षक है उन्हें अन्य शालाओं में पदस्थापना किया जायेगा। प्राथमिक एवं माध्यमिक शालाओं में पदस्थ विज्ञान विषय में स्नातकोत्तर शिक्षकों को हाई स्कूलों में पदस्थापना किया जायेगा।
कलेक्टर ने शिक्षा सत्र प्रारंभ होते ही बीईओ, बीआरसी को कार्ययोजना तैयार कर शालाओं का निरीक्षण करने, शालाओं की मूलभूत सुविधाओं को पूर्ण करने, संकुल समन्वयक को शिक्षकों की नियमित उपस्थिति का अवलोकन करने, प्राचार्य एवं प्रधान पाठक को एडुकेड एप के माध्यम से शिक्षकों की उपस्थिति एवं शालाओं की व्यवस्था के संबंध में जानकारी वरिष्ठ अधिकारी को प्रेषित करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि शिक्षकों की नियमित उपस्थिति से ही विद्यार्थियों को अच्छा ज्ञान प्राप्त होगा। शालाओं की मूलभूत सुविधाओं को सुरक्षित रखने में शिक्षकों की अहम् भूमिका है। शिक्षक स्वप्रेरित होकर शालाओं के साफ-सफाई पर ध्यान देंगे तभी विद्यार्थी प्रेरित होकर शाला को स्वच्छ रखने का प्रयास करेंगे। कलेक्टर डाॅ.बसवराजु एस. ने बैठक में उपस्थित संकुल समन्वयकों से सेक्टरवार शालाओं की व्यवस्था के संबंध में जानकारी ली। लोक निर्माण विभाग द्वारा जिले में अधिकांश स्कूल पूर्ण होने की जानकारी देते हुए शिक्षा विभाग तत्काल अधिग्रहण कर नए सत्र से शालाएं प्रारंभ करने के लिये कहा। प्राचार्य एवं प्रधान पाठक को विद्युत विभाग से संपर्क कर बाह्य विद्युत को पूर्ण करने, छात्रवृत्ति, आय एवं जाति प्रमाण-पत्र शत-प्रतिशत कार्य पूर्ण करने, संकुल समन्वयक शालाओं में सात दिवस के अंदर पाठ्य पुस्तक का वितरण करने के निर्देश दिए। जिला शिक्षा अधिकारी श्री जी.आर.चन्द्राकर ने बताया कि बैठक में दिए गए निर्देशानुसार विद्यार्थियों के अनुपात में शिक्षकों की पदस्थापना की जायेगी। ताकि नए सत्र से ही शालाओं में शिक्षकों की कमी दूर हो जाये। 1 अप्रैल से 30 अप्रैल 2017 तक समस्त कक्षाओं का दो यूनिट का पाठन लेखन का कार्य पूर्ण करने के पश्चात् मूल्यांकन किया जाएगा। ग्रीष्मकालीन अवकाश में विद्यार्थियों को प्रोजेक्ट के रूप में होम वर्क दिया जाएगा। शालाओं में पीने की पानी की व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी। फाउण्डेशन कोर्स के तहत गणित एवं अंग्रेजी कीट के माध्यम से प्राथमिक शालाओं में अध्यापन का कार्य कराया जाएगा ताकि विद्यार्थियों की गुणवत्ता में बढ़ोत्तरी होगी। बैठक में समस्त विकासखंड शिक्षा अधिकारी, विकासखंड स्त्रोत समन्वयक, संकुल समन्वयक उपस्थित थे।

आयु निर्धारण हेतु गठित विशेषज्ञ समिति ने किया उपजेल का निरीक्षण
बलौदा बाजार। कलेक्टर डाॅ. बसवराजु एस. के मार्गदर्शन में जेल में निरूद्ध बंदियों की आयु सत्यापन के लिए विशेषज्ञ समिति का गठन किया गया। आयु संबंधित दस्तावेजों के अभावों में जेल में निरूद्ध किशोरों को किशोर न्याय अधिनियम 2015 के प्रावधानों के अनुरूप सेवाएं सुनिश्चित करने के लिए राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग एवं संचालनालय महिला एवं बाल विकास द्वारा प्रत्येक त्रैमास में जिले की जेलों का निरीक्षण करने के लिए निर्देश दिए गए थे। विशेषज्ञ समिति द्वारा 30 मार्च 2017 को जेल में निरूद्ध बंदियों के आयु सत्यापन के लिए उपजेल बलौदा बाजार का निरीक्षण किया गया। समिति के सदस्यों द्वारा प्रत्येक बैरक में जाकर प्रथम दृष्ट्या 18 वर्ष से कम आयु के दिख रहे बंदियों से उनकी आयु के संबंध में पूछताछ की गई। साथ ही जेल प्रबंधन से न्यायालय से आयु से संबंधित मिलने वाले प्रमाण पत्रों तथा किसी निरूद्ध द्वारा स्वयं की आयु 18 वर्ष से कम बताए जाने पर जेल प्रबंधन द्वारा आयु प्रमाणन के लिए अपनायी जाने वाली प्रक्रिया के बारे में जानकारी ली गई। विशेषज्ञ समिति ने जेल परिसर, बैरक, पाकशाला, स्वास्थ्य परीक्षण तथा बंदियों के लिए शुरू किए जा रहे रोजगार मूलक प्रशिक्षण हेतु क्रय किए गए सामग्रियों तथा प्रस्तावित प्रशिक्षण स्थल का अवलोकन कर बेहतर व्यवस्था के लिए जेल प्रबंधन की सराहना की। विशेषज्ञ समिति के सदस्य जिला बाल संरक्षण अधिकारी श्री प्रकाश दास, गृहिणी संस्थान प्रमुख श्रीमती रूपा श्रीवास्तव, विधिक सेवा प्राधिकरण बलौदा बाजार पैनल अधिवक्ता श्री रमेश पटेल एवं श्री संजय कुमार सोनी द्वारा जेल का निरीक्षण किया गया। जेल प्रबंधन से मुख्य प्रहरी श्री उमेंद सिंह पैकरा, श्री किशोर कुमार तिवारी तथा प्रहरी श्री शंकर प्रसाद मिश्रा ने सहयोग प्रदान किया।

सहायिका पद के लिए दावा-आपत्ति हेतु 8 अप्रैल 2017 तक
बलौदा बाजार। परियोजना अधिकारी एकीकृत बाल विकास परियोजना लवन ने जानकारी दी है कि एकीकृत बाल विकास परियोजना लवन अंतर्गत आंगनबाड़ी केन्द्र बिटकुली एवं सुनसुनिया में सहायिका हेतु आवेदन पत्र आमंत्रित किये गये थे। मूल्यांकन समिति के अनुमोदन पश्चात् दावा-आपत्ति 8 अप्रैल 2017 तक आमंत्रित की गई है। अभ्यर्थी कार्यालयीन समय में एकीकृत बाल विकास परियोजना लवन कार्यालय में अभ्यावेदन जमा कर सकते हैं। अवधि समाप्त होने के पश्चात् प्राप्त दावा-आपत्ति पर विचार नहीं किया जाएगा।

LEAVE A REPLY