युवराज यादव ,बलौदाबाजार
    कलेक्टर ने किया अप्रेल  से वर्षा नहीं होने तक जलाभाव ग्रस्त घोषित
———–     ————/——————-    ————
बिना अनुमति के नलकूप खनन पर होगी सख्त कार्यवाही  
————-  ————–     ——– —   ———– –   —
बलौदाबाजार।  डाॅ बसवराजु एस ने जानकारी दी है कि ग्रीष्म ऋतु को ध्यान में रखते हुए जिला के विकासखंड बलौदा बाजार, भाटापारा, सिमगा, पलारी, कसडोल एवं बिलाईगढ़ को अपै्रल माह से वर्षा नहीं होने तक जलाभाव ग्रस्त घोषित किया गया है। जिला के सभी विकासखंडों के अन्तर्गत इस अवधि में सक्षम अधिकारी अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) की अनुमति के बिना पेयजल एवं अन्य किसी प्रयोजन हेतु कोई नया नलकूप खनन पर प्रतिबंध लगाया है।
कलेक्टर ने जानकारी दी कि शासकीय एजेंसी लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग को सम्पूर्ण जिले में तथा नगर पालिका एवं नगर पंचायत क्षेत्र में केवल पेयजल हेतु नलकूप खनन करने की अनुमति है। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा अपै्रल माह से वर्षा होने तक किये गये नलकूप खनन की जानकारी प्राधिकृत अधिकारी को भेजना आवश्यक है। आवश्यकता अनुसार खनित नलकूप का शासन द्वारा निःशर्त अधिग्रहण किया जा सकेगा व खनित नलकूप से भू-जल दोहन पर निःशर्त प्रतिबंध लगाया जा सकेगा। नल सुविधा को ध्यान में रखते हुए अधिनियम की धारा -06 के अंतर्गत नलकूप खनन हेतु अनुमति प्रदान करने के लिये प्राधिकृत अधिकारी नियुक्त किया गया है। विकासखंड बलौदाबाजार, पलारी के अन्तर्गत आने वाले क्षेत्र के लिये अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) बलौदा बाजार, विकासखंड कसडोल के अन्तर्गत आने वाले क्षेत्र के लिये अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) कसडोल, विकासखंड बिलाईगढ़ के अन्तर्गत आने वाले क्षेत्र के लिये अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) बिलाईगढ़, विकासखंड भाटापारा के अन्तर्गत आने वाले क्षेत्र के लिये अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) भाटापारा, विकासखंड सिमगा के अन्तर्गत आने वाले क्षेत्र के लिये अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) सिमगा से अनुमति प्राप्त की जा सकती है। उक्त प्राधिकृत अधिकारी अपने-अपने क्षेत्र के छत्तीसगढ़ पेयजल परिरक्षण अधिनियम में उल्लेखित प्रावधानों के अनुसार नलकूप खनन आवश्यक होने पर अनुमति प्रदान करने की कार्यवाही करेंगे। यदि किसी व्यक्ति या एजेंसी द्वारा द्वारा उक्त अधिनियम के उल्लंघन में नलकूप खनन करते पाये जाने पर नियमानुसार कड़ी कार्यवाही की जायेगी। यह आदेश तत्काल प्रभावशील होगा।

LEAVE A REPLY