प्रदेश मे मिली करारी शिकस्त के बाद। गाज गिरने का सिलसिला शुरू हुआ तो सबसे पहले बहन जी के सिपहसलाहकार राष्ट्रीय महासचिव नसीमुददीन का कद छोटा कर उन्हें अब मध्य प्रदेश की कमान दी गई है।
गौरतलब है कि 2017 मे नसीमुददीन की खूब चली और उनकी बेवजह की बयानबाजी के चलते बसपा की यह हालत हुई है
बहन जी ने फिलहाल राज्य सभा सदस्य मुनकाद अली को नसीमुददीन की कुर्सी सौंपी है
इसके चलते अब नसीमुददीन के बेटे का भविष्य भी संकट मे है ।