नवीन कुमार /नई दिल्ली :-उत्तरी दिल्ली की महापौर, सुश्री प्रीति अग्रवाल ने आज एक एंड्रॉइड एप व आन लाईन   शिकायत  हेतु वेबसाईट नागरिकों को समर्पित की जिसके माध्यम से पार्किंग के ठेकेदारों के द्वारा नियमों को तोड़ने की अवस्था में यदि कोई शिकायत  हो तो नागरिक अपने फोन के माध्यम से अथवा वेबसाईट के माध्यम से कर सकते है। एप को नागरिक उत्तरी दिल्ली नगर निगम के वेबसाइट  पर जाकरhttp://www.northmcd.com/parking. डाउनलोड कर सकते है । जल्द  ही यह एप गूगल स्टोर पर भी उपलब्ध होगी । इसके पश्चात्  पार्किंग के नियमों को तोड़ने की शिकायत  फोटोग्राफ के साथ सबूत के तौर पर दर्ज कर सकते है। महापौर ने बताया कि नागरिकों को एप की सूची में दिए गए किसी भी नियम, कानून के उल्लंघन को सिर्फ बाक्स में टिक कर के प्रदर्शित करना है तथा उसके बाद क्लिक करते ही पार्किंग साइट के स्थानों की सूची आ जाएगी, यदि किसी फोन में जीपीएस की सुविधा नहीं है तो फोटो इसमें अपलोड कर क्लिक करना है जिससे यह स्वतः आर.पी. सेल को मिल जाएगी, जो नियमों के उल्लंघन में दोशी के खिलाफ कार्यवाही करेगा। उन्होंने बताया कि जिस फोन में जीपीएस प्रणाली चालू है वह स्वतः ही पार्किंग के स्थान को चुन लेगी।उन्होंने आगे बताया कि इस एप को यूजर फ्रैंडली बनाया गया है, इस एप के जरिये नागरिकों को अवैध पार्किंगों की सूची, पार्किंग की क्षमता, साइट प्लान, पार्किंग षुुल्क, नियमों के उल्लंघन के प्रकार, पार्किंग ठेकेदार का नाम व ठेके की अवधि, आर.पी. सेल के अधिकारियों से संपर्क करने के लिए पते व दूरभाश का विवरण उपलब्ध होगा। उत्तरी दिल्ली नगर निगम नागरिकों द्वारा की गई  शिकायत और सबूत के तौर पर अपलोड किए गए फोटों को संज्ञान में लेते हुए नियम का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ जुर्माना अथवा पार्किंग के ठेकों को रद्द करने तक की कार्यवाही जैसा भी उचित हो करेगा। शिकायतकर्ता  को भी षिकायत की प्राप्ति दी जाएगी और कार्यवाही के पश्चात्  भी षिकायकर्ता को की गई कार्यवाही से अवगत किया जाएगा।
महापौर, सुश्री अग्रवाल ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि यह एप व वेबसाईट पार्किंग के उचित क्रियांवयन के लिए सहायक सिद्व होगी साथ ही साथ इस एप के द्वारा पार्किंग से जुड़े सभी कार्यकलापों में  पारदर्शिता  आएगी। नागरिकों को सभी पार्किंग संबंधी सुविधाएं तो मिलेंगी ही साथ ही उन्हें  पार्किंग संबंधी किसी भी नियम व उनके उल्लंघन होने पर उन्हें रोकने के लिए मौजूद प्रावधानों की भी जानकारी होगी।उन्होनें  कहा कि इस एप का उदेश्य  नागरिकों को पार्किंग के नियमों के संबंध में जानकारी देना है । इस एप के माध्यम से पार्किंग में अनियमिताओं जैसे पार्किंग दरों से अधिक शुल्क  वसूली, पार्किंग में डिस्पले बोर्ड न होना, पार्किंग ठेकेदार का नाम, पार्किंग के लिए निर्धारित क्षेत्र का विवरण, शिकायत  के लिए फोन नंबर, हैंड हेल्ड डिवाइस का उपयोग न करने के विशय में जानकारी से पारदर्शिता  को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा कि यह एप नागरिकों को पार्किंग के कॉट्रेंक्ट, नियम व सुविधाओं की जानकारी देने का मार्ग सशक्त  करेगी।महापौर ने कहा कि यह एप पारदर्शी  तरीके से जहां नागरिकों को पार्किंग की सुविधा प्रदान करने तथा उनके इस विषय  में अधिकार की जानकारी देने में मुख्य भूमिका निभाएगा, वहीं निगम को भी उचित रूप में पार्किंग सेवा न देने वाले ठेकेदारों के विरूद्ध कार्यवाही करने में निगम को सहायक होगा। उन्होंने कहा कि नागरिक इस एप के माध्यम से पार्किंग में सुधार हेतु सुझाव भी प्रदान कर सकते है।इस अवसर पर अतिरिक्त आयुक्त (राजस्व), सुश्री रेनु जगदेव एवं अति उपायुक्त (लाभकारी परियोजना कक्ष), श्री अजय कादयान भी उपस्थित थे ।

LEAVE A REPLY