बलौदाबाजार। पुराने शिलालेख के पीछे भाग में नए शिलालेख के लोकार्पण लिखा देख विधानसभा अध्यक्ष भड़क img-20170622-wa0088 img-20170622-wa0086 img-20170622-wa00872गए और कभी किसी भ्रष्टाचारी की शिकायत नही सुनने वाले कसडोल विधायक एवं विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल ने न पं सी एम ओ एवं अध्यक्ष को सबके सामने जमकर लताड़ लगाई और कहा कि इस तरह की भ्रष्टाचार करना किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

             कसडोल विधायक एवं विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल कभी भी किसी अधिकारी कर्मचारी या जनप्रतिनिधियों के भ्रष्टाचार या घोटाले की शिकायत नहीं सुनते हैं और उल्टे शिकायत करने वाले को सबको सामने झिड़क देते थे जिससे कोई भी पार्टी कार्यकर्त्ता या आम नागरिक उनसे कभी किसी की शिकायत करने की हिम्मत नहीं जुटा पाते थे और आम लोगों से उनकी दूरी बढ़ते गई।वे जब से विधान -सभा अध्यक्ष बने हैं तब से कसडोल क्षेत्र के किसी भी निर्माण कार्य या विकास कार्य को प्राथमिकता के साथ शासन से स्वीकृति दिलाने में अहम भूमिका निभाई है।21 जून अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर न पं कसडोल द्वारा विभिन्न निर्माण कार्यों एवं लोकार्पण समारोह में बतौर मुख्यातिथि उपस्थित विधानसभा अध्यक्ष को जब उनके ही एक प्रबल समर्थक ने यह बताया कि जिस शिलालेख पत्थर पर आज के लोकार्पण समारोह को लिखवाया गया है उस पत्थर में पहले से ही पीछे की तरफ शिलालेख लिखवाया गया था।हुआ यूं कि कसडोल न पं के विभिन्न निर्माण कार्य के लोकार्पण एवं शिलान्यास कार्यक्रम में शामिल होने के क्रम में क्षेत्रीय विधायक एवं विधानसभा अध्यक्ष सर्व प्रथम गुरु घांसीदास उ मा वि के प्रशिक्षण कक्ष एवं प्रयोग शाला का लोकार्पण करने पहुंचे थे, तभी उनको अपने खास समर्थके कहे जाने वाले एक भाजपा नेता ने जब उन्हें इस बात की जानकारी दी कि जिस शिलालेख पर आज की तिथि लिखवाई गई है उसमें पिछले कार्यक्रम का शिलालेख हो चुका है।विधानसभा अध्यक्ष ने अपने समर्थक को पहले लताड़ लगाई जब उनसे रहा नहीं गया तो उन्होंने लोकार्पण करने से पहले शिलालेख पत्थर को उलटने को कहा जिसमें पहले के शिलान्यास की गाथा लिखी हुई थी।इस माजरा को देख विधानसभा अध्यक्ष ने न पं अध्यक्ष एवं सी एम ओ को जमकर लताड़ लगाई और न पं अध्यक्ष को साफ साफ कहा कि अब तक जितने भी शिकायत आई उसको इसलिए नजर अंदाज किया जा रहा था कि आप अच्छे से काम कर रहे हो इसलिए लोग आपकी शिकायत कर रहे हैं ,परन्तु आज का यह घटना क्रम बता रहा है कि कसडोल नगर के वासियों की शिकायत सही थी।आज के बाद किसी भी तरह की भ्र्ष्टाचार की शिकायत बर्दाश्त नही की जाएगी।विधानसभा अध्यक्ष के द्वारा चोरी पकड़े जाने से न पं अध्यक्ष सी एम ओ  को काटो तो खूंन नहीं की स्थिति बन गई थी।उसके बाद विधानसभा अध्यक्ष नगर के विभिन्न कार्यक्रमों में भी हिस्सा लेने पहुंचे और हर जगह न पं अध्यक्ष एवं सी एम ओ की मनमानी की शिकायत आम नागरिकों ने की ।उल्लेखनीय हो कि विधानसभा चुनाव के समय अजीत जोगी के इशारे पर योगेश बंजारे सहित कांग्रेस के कुछ स्वार्थ लोलुप तत्वों ने अप्रत्यक्ष रूप से गौरीशंकर अग्रवाल  को वर्ष 2013 के चुनाव में सहयोग किया था और इसी बात को ध्यान में रखते हुए विधानसभा अध्यक्ष ने नगर पंचायत कसडोल को मुहमांगी मुरादे पूरी कर रहे हैं।नगर पंचायत कसडोल में रोज रोज हो रहे भ्रष्टाचार की शिकायतों को नजरअंदाज करते हुए अप्रत्यक्ष रूप से नगर पंचायत अध्यक्ष एवं सी एम ओ को अभयदान देने में भी विधानसभा अध्यक्ष ने कोई कसर बाकी नहीं रखा परन्तु 21 जून को स्कूल भवन के लोकार्पण करते समय पुराने शिलालेख को देखकर उनका भड़कना स्वाभाविक था।

LEAVE A REPLY