????????????????????????????????????

नवीन कुमार /नई दिल्ली :-आदतों और व्यवाहर में परिवर्तन के प्रयास के अतंर्गत केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय ने द.दि.न.नि के साथ मिलकर कर आज स्वच्छ शौचालय अभियान की शुरूआत की। इसका उद्देश्य सार्वजनिक शौचालयों के समुचित इस्तेमाल के बारे में नागरिकों विशेष तौर पर शौचालयों का प्रयोग करने वालों की आदतों और व्यवहार में परिवर्तन लाकर उनमे जिम्मेदारी और अपनेपन की भावना विकसित करते हुए यह सुनिश्चित करना है कि सार्वजनिक शौचालयों को भीअपने घर जैसे शौचालय मानकर स्वच्छ रखना है जोकि समाज के प्रत्येक व्यक्ति के हित में होगा। इस जिम्मेदारी में यह भी शामिल है कि शौचालयों में हर प्रकार की फिटिंग कार्यरत और मौजूद हो। ज्ञान भारती पब्लिक स्कूल में आयोजित समारोह में श्री रैना समेत सभी उपस्थित अतिथियों ने अभियान की शुरूआत की। जाने माने क्रिकेट खिलाड़ी श्री सुरेश रैना ने कई टी.वी कमर्शिल और रेडियों स्पाॅट जारी किये जिनमें सभी सार्वजनिक शौचालयों को इस्तेमाल लायक बनाए रखने का संदेश दिया गया है। इस अवसर पर दिल्ली प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष और सांसद मनोज तिवारी, केेंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय के सचिव डी.एस. मिश्रा, स्वच्छ भारत मिशन के मिशन डायरेक्टर प्रवीण प्रकाश, सदन की नेता शिखा राय, स्थायी समिति के सदस्य भूपेंद्र गुप्ता, आयुक्त डाॅ. पुनीत कुमार गोयल, ज्ञान भारती स्कूल के निदेशक श्री आर.सी शेखर और अन्य वरिष्ठ  अधिकारी उपस्थित थे। इस अवसर पर श्री तिवारी ने कहा कि आज के अभियान को नई सकारात्मक सोच के साथ शुरू किया गया है। उन्होंने इस बात की सराहना की कि सार्वजनिक शौचालयों के स्वच्छ बनाए रखने का संदेश स्कूल के छात्र दे रहे हैं, जब ऐसा संदेश बच्चे देते हैं तो इससे अनुकूल परिवर्तन आता है। उन्होंने कहा कि इससे दिल्ली बदलेगी और दिल्ली स्वच्छ बनेगी। उन्होंने यह भी कहा कि हमारे सामने चुनौती है कि द.दि.न.नि की स्वच्छता सर्वेक्षण की पिछली रैंकिग 202 में सुधार लाकर इसे पहले 50 में लाया जाए।श्री डी.एस. मिश्रा ने कहा कि आज के अभियान की शुरूआत सुरेश रैना ने की है जो 2 अक्टूबर 2014 को स्वच्छ भारत अभियान शुरू किये जाने के बाद प्रधानमंत्री द्वारा घोषित स्वच्छता के ब्रांड एम्बेस्डरों में से एक हंै। हमारे मंत्रालय स्वच्छता और स्वच्छ सार्वजनिक शौचालयों के लिए व्यवहार और आदतों में परिवर्तन लाने का काम कर रहा है। इसके अलावा खुले में शौच समाप्त करने और कूड़े को स्रोत पर भी अलग अलग करने पर जोर दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यह देखा जा रहा है कि अधिक से अधिक शौचालय बनाने से अधिक जरूरी है कि उनका कुशल रख रखाव किया जाए। सही रख रखाव न होने से शौचालयों के सतत और निरंतर उपयोग करने में बाधा उत्पन्न हो रही है। शौचालयों के इस्तेमाल के बाद फल्श नहीं करने, शौचालयों को गंदा छोड़ देने और बार बार बल्ब, नल, कूड़ेदान, दरवाजे आदि की चोरी होने जैसे कारणों से समुचित रख रखाव नहीं हो पा रहा। सार्वजनिक शौचालय का इस्तेमाल करने वाले व्यक्ति को यह सुनिश्चित करना होगा कि शौचालय स्वच्छ रहे ताकि अगला व्यक्ति पूरे विश्वास के साथ उसका इस्तेमाल कर सके। श्री मिश्रा ने कहा कि सार्वजनिक शौचालय के गंदा रहने और रख रखाव न होने से हमारी बनाई गई सम्पतिया  बेकार हो जाती है। श्री रैना ने कहा कि हमें यह समझना होगा कि सार्वजनिक शौचालयों का रख रखाव उसी तरह अत्यंत महत्वपूर्ण है जैसे कि अपने घर के शौचालयों का। उन्होंने कहा कि बच्चों को आम तौर पर परिवर्तन का दूत माना जाता हैै और मुझे विश्वास है कि वे समाज में संदेश पहुंचा सकेंगे। श्री रैना ने बच्चों को पोस्ट कार्ड वितरित किये जिन्हें बच्चे काॅलोनियों  में और सार्वजनिक शौचालयों के आस पास लोगों को देंगे। इसका उद्देश्य लोगोें को सार्वजनिक शौचालयों का रख रखाव करने का स्मरण कराना है। श्री रैना ने बच्चों के प्रश्नों का उत्तर  भी दिया। महापौर कमलजीत सहरावत ने कहा कि बच्चे सुरेश रैना के प्रवक्ता बन रहे हैं। महापौर ने कहा कि इस अभियान के अनुकूल परिणाम निकलेगे क्योंकि इसकी शुरूआत मशहूर क्रिकेट खिलाड़ी ने की है। क्रिकेट भारत में सबसे पसंददीदा खेल है इसलिए अभियान में श्री रैना को शामिल किया गया है जोकि अपने श्रेष्ठ खेल के कारण लोकप्रिय है। इस अभियान के जरिए हम प्रतिबद्ध है कि सार्वजनिक शौचालयों का समुचित इस्तेमाल सुनिश्चित करने से हम लोगों में जिम्मेदारी और अपनेपन की भावना विकसित कर सकेंगे।आयुक्त डाॅ. गोयल ने कहा कि द.दि.न.नि अपने क्षेत्रों में सफाई और स्वच्छता का स्तर नई दिल्ली पालिका परिषद जैसा बनाने में कामयाब रहेगा। उन्होंने यह भी कहा कि जो भी सार्वजनिक शौचालय का इस्तेमाल करता हैै उसमें यह भावना होनी चाहिए कि यह उसका अपना है। सार्वजनिक शौचालयों का रख रखाव और सफाई न होने से लोग खुले में स्वयं को ईज करते हैं। इससे खुले में शौच से मुक्ति का लक्ष्य हासिल करने में बाधा उत्पन्न होती है। डाॅ. गोयल ने सफाई और स्वच्छता से संबंधित हर एक काम मेें बेहतर परिणाम सुनिश्चित करने के लिए द.दि.न.नि को अवसर प्रदान करने के वास्ते केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय के योगदान की सराहना की।

LEAVE A REPLY