मांगे न मानी तो होगा आंदोलन -सीयू

शाहपुर में केंद्रीय विश्वविद्यालय को लेकर मांग ने जोर पकड़ना शुरू कर दिया है। संघर्ष समिति द्वारा  दो अगस्त को प्रस्तावित धरणा प्रदर्शन के समर्थन में कई सामाजिक संस्थाए व छात्र संगठन भी कूद पड़े है।शाहपुर करतार मार्किट व केंद्रीय विश्वविद्यालय के आस पास के सभी व्यापारिक संस्थानों ने संघर्ष समिति का समर्थन करते हुए दो अगस्त को दो घन्टे बंद का ऐलान किया है। दूसरी ओर शाहपुर स्टूडेंट्स एसोसिएशन ने भी संघर्ष समिति का समर्थन करते हुए दो अगस्त को धरणा प्रदर्शन में भाग लेने की घोषणा की है। युवक मंडल दरिणी, युवा क्लब कैरी ने भी संघर्ष समिति का समर्थन करते हुए सड़कों पर उतरने का ऐलान कर दिया है।करतार मार्किट शाहपुर के प्रधान हंसराज,इंद्रमोहन,कुलजीत सिंह,संदीप,अभिनाश पटियाल,मोंटी,बाबा,सुधीर, केंद्रीय विश्वविद्यालय आसपास छतडी स्थित व्यापर संगठन के सदस्य राहुल सोंधी,राहुल शर्मा ने संघर्ष समिति को अपना समर्थन देते हुए दो अगस्त को दो घँटे के लिए अपने व्यापारिक संस्थान बंद रखने का एलान किया है।उन्होंने कहा कि केंद्रीय विश्वविद्यालय पर शाहपुर का हक है और इसे किसी भी सूरत पर बाहर नही जाने दियाजाएगा। उन्होंने कहा वे संघर्ष समिति के साथ है तथा वे हर आंदोलन के लिए तैयार है।शाहपुर स्टूडेंट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष सचिन चौधरी,शबनम,अभिलाष,अभिषेक,रिश्व,सोनाली,विशाली,चन्द्रशेखर,शीतल व आशीष ठाकुर ने कहा कि दो अगस्त को प्रस्तावित धरणा प्रदर्शन में शाहपुर कालेज के सैंकड़ो छात्र छात्राएं भाग लेंगी,उधर युवा क्लब कैरी के प्रधान अमन ठाकुर,रमन,दिव्यांश,मुनीष दरिणी युवक मण्डल के प्रधान हंस राज,करनैल, उज्बल ने भी संघर्ष समिति का समर्थन करते हुए दो अगस्त को प्रस्तावित धरणा प्रदर्शन में भाग लेने का एलान किया है। संघर्ष समिति के चेयरमैन सुरेश ठाकुर व  संयोजक आशीष पटियाल ने कहा कि संघर्ष समिति को भारी समर्थन मिल रहा है। उन्होंने कहा कि दो अगस्त को तहसील परिसर में विशाल धरणा दिया जाएगा

बता दें कि, केंद्रीय विश्विद्यालय की स्थापना को लेकर शाहपुर की जनता ने संघर्ष का ऐलान कर दिया है।सीयू  शाहपुर निर्माण संघर्ष समिति दो जुलाई से अपना आंदोलन शुरू कर देगी। बुधवार को इस बारे संघर्ष समिति ने एसडीएम शाहपुर के माध्यम से प्रधान मंत्री,एचआरडी मंत्री व प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को ज्ञापन भेज कर जल्द से जल्द शाहपुर कालेज भवन व जमीन को केंद्रीय विश्वविद्यालय के नाम करने व इसका एक भाग शाहपुर में स्थापित करने की मांग की है। संघर्ष समिति ने यह चैतावनी भी दी है कि उनकी मांगों पर अगर गौर नही किया गया तो 2 जुलाई से आंदोलन शुरू कर दिया जाएगा। संघर्ष समिति के चेयरमैन सुरेश ठाकुर,प्रधान देव राज मन्हास,संयोजक आशीष पटियाल ,कार्णिक पाधा ,राजेश राणा व परस राम अत्री ने कहा कि संघर्ष समिति 2 जुलाई को शाहपुर तहसील परिसर में धरणा देगी तथा 3 जुलाई से क्रम वार भूख हड़ताल शुरू कर दी जाएगी। उन्होंने बताया कि अगर सरकार फिर भी नही मानी तो चक्का जाम व मुख्यमंत्री का घेराव भी किया जाएगा तथा उन्हें शाहपुर से आगे नही जाने दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि केंद्रीय विश्वविद्यालय शुरुआत से शाहपुर में चल रहा है तथा शाहपुर के छात्र छात्राओं ने इसके लिए कई कुर्बानिया दी है और यही बजह है कि शाहपुर का पहला हक बनता है। उन्होंने कहा कि वे धर्मशाला या देहरा का विरोध नही कर रहे उन्हें सिर्फ शाहपुर का हक चाहिए। उन्होंने कहा वे पूरे विश्वविद्यालय की मांग नही कर रहे शाहपुर की जनता केवल यही चाहती है कि एक या दो कैम्पस शाहपुर में रहने दिए जाएं ताकि यहां के लोगों का रोजगार चला रहे। उन्होंने कहा कि सरकार ने उनकी मांग नही मानी तो वे अपना आंदोलन तेज कर देंगे और विश्विद्यालय को किसी भी सूरत में बाहर नही जाने दिया जाएगा। इस मौके पर पंचायत समिति रेत के पूर्व अध्यक्ष परस राम अत्री, महासचीव लाल सिंह राणा,सुभाष चौधरी, ठारु के उपप्रधान रशपाल पठानिया, विजय गुलेरिया,नरेंद्र सिंह,प्रवीण चौधरी,राजिंदर चौधरी,रमेश,राहुल शर्मा,राहुल सौंधी, राहुल,कमल,धर्म सिंह,प्रेम मेहरा सहित कई पदाधिकारी व सदस्य मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY