Email:-sunamihindinews@gmail.com|Friday, September 22, 2017
You are here: Home » 18+ » द.दि.न.नि ने स्कूली बच्चों में मधुमेह के बारे में जागरूकता लाने के लिए स्नोफी इंडिया से हाथ मिलाया

द.दि.न.नि ने स्कूली बच्चों में मधुमेह के बारे में जागरूकता लाने के लिए स्नोफी इंडिया से हाथ मिलाया 




????????????????????????????????????

नवीन कुमार /नई दिल्ली :– द.दि.न.नि ने स्कूली बच्चों, प्रधानाचार्याें, स्कूल निरीक्षकों, अध्यापकों और बच्चों के अभिभावकों में मधुमेह के बारे में जागरूकता विकसित करने के लिए स्नोफी इंडिया लिमिटेड के साथ आज एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये। इससे बच्चों में मधुमेह का जल्द पता लगाया जा सकेगा और इसका प्रबंधन किया जा सकेगा। दोनों पक्ष द.दि.न.नि के 16 स्कूलों मेें ऐसी पायलेट परियोजना की सफलता के बाद आपस पर भागीदारी करने में सहमत हुए हैं। द.दि.न.नि की ओर से समझौता ज्ञापन पर अपर आयुक्त और शिक्षा निदेशक मीता सिंह और स्नोफी इंडिया लिमिटेड के प्रबंध निदेशक एन. राजा राम ने हस्ताक्षर किये। इस भागीदारी के अंतर्गत स्नोफी इंडिया लिमिटेड, निगम के सभी 581 स्कूलों में मधुमेह के बारे में जागरूकता फैलाएगा, इसके प्रबंधन में मदद देगा, जांच के उपकरण देगा और अध्यापकों को मधुमेह के लिए रक्त की जांच के लिए प्रशिक्षण देगा तथा बीमारी के प्रभाव पर नियंत्रण के लिए तत्काल कार्रवाई की जानकारी देगा। इन स्कूलों में ढ़ाई लाख बच्चे पढ़ते हैं। इस अवसर पर महापौर कमलजीत सहरावत ने समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये जाने को लेकर संतोष व्यक्त करते हुए कहा कि इससे बीमारी के लक्षण और संबंधित सूचना की जानकारी अध्यापकों और बच्चों को दी जा सकेगी। उन्होंने कहा कि ऐसी भागीदारी पहली बार किसी स्थानीय निकाय में शुरू की गई है। श्रीमती सहरावत ने कहा कि मधुमेह जीवन भर की बीमारी समझी जाती है और इस पर नियंत्रण के लिए दवा पर्याप्त नहीं होती लेकिन जीवन शैली में परिवर्तन की जरूरत होती है। 15 वर्ष की तक जनसंख्या में से 25 प्रतिशत बच्चे मधुमेह से प्रभावित पाये जाते हैं। बच्चों में ये बीमारी तेजी से फैल रही है। ये बीमारी दीमक की तरह है जो बच्चों को खोखला बना देती है। श्रीमती सहरावत ने बच्चों का पूरा रिकाॅर्ड रखने की जरूरत बताई। उन्होंने बताया कि इसी तरह का प्रबंध चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियोें के लिए भी किया जाना चाहिए। चिकित्सा, सहायता और जन स्वास्थ्य समिति के अध्यक्ष भगत सिंह टोकस ने भी अपने विचार व्यक्त किये।अपर आयुक्त मीता सिंह ने पाॅयलेट परियोजना के तहत 16 स्कूलों में स्नोफी इंडिया लिमिटेड की सेवाओं की प्रशंसा की। उन्होेंने विश्वास व्यक्त किया कि समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर के बाद बच्चों को इस बीमारी के बारे में अधिक से अधिक जागरूक किया जाएगा। उन्होंने कहा कि मधुमेह, बच्चों को प्रभावित करने वाली गैर संचारी बीमारियों में से एक है इसलिए इस बीमारी का जल्द पता लगाने और बच्चों में जागरूकता से सही समय में बीमारी को सीमित करने में मदद मिल सकेगी। उन्होंने यह भी कहा कि स्नोफी इंडिया लिमिटेड द्वारा प्रशिक्षित अध्यापकों को बीमारी से प्रभावित बच्चों पर ध्यान रखना होगा।स्नोफी इंडिया लिमिटेड के प्रबंध निदेशक एन. राजाराम ने मधुमेह से प्रभावित बच्चों पर नजर रखने का अवसर देने के लिए द.दि.न.नि का धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि हमारी कंपनी अध्यापकों, अभिभावकों, मधुमेह से पीड़ित बच्चों और अन्य बच्चों के लिए 4 अलग अलग माडयूल देगी। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि हमारी भागीदारी आने वाले वर्षाें में भी जारी रहेगी।

Add a Comment

You Are visitor Number

विज्ञापन :- (1) किसी भी तरह की वेबसाइट बनवाने के लिए संपर्क करे Mehta Associate से मो0 न 0 :- +91-9534742205 , (2) अब टेलीविज़न के बाद वेबसाइट पर भी बुक करे स्क्रॉलिंग टेक्स्ट विज्ञापन , संपर्क करे :- +91-9431277374