• बिलासपुर शहर ‘खुले में शौच मुक्त (ODF)’, शहरी विकास मंत्रालय भारत सरकार ने की घोषणा
  • शहरी विकास मंत्रालय, भारत सरकार ने आज बड़ी घोषणा करते हुए बिलासपुर शहर को खुले में शौच मुक्त (ODF) घोषित किया।

thइस उपलब्धि पर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने बिलासपुर शहर वासियों को बधाई देते हुए खुले में शौच जाने की इस कुप्रथा से सफलतापूर्वक निजात पाने पर हर्ष जताया और आगे भी इसी प्रकार स्वच्छता के संकल्प को चरितार्थ करने का आग्रह किया।

नगरीय प्रशासन विभाग, छत्तीसगढ़ सरकर के मंत्री श्री अमर अग्रवाल द्वारा ‘हमर बिलासपुर’ स्मार्ट सिटी के सभी नागरिकों की ओर से प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी को ज्ञापित करते हुए कि यह उनकी दूरदृष्टि का ही नतीजा है की आज़ादी के बाद पहली बार स्वच्छ भारत की परिकल्पना की गयी और इस हेतु राज्यों को अस्वच्छ्ता से लड़ने के असीमित अधिकार केंद्र सरकार द्वारा राज्य सरकारों को दिए गए। उन्होंने बिलासपुर वासियों को बधाई देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री जी ने उन्हें 2 अक्टूबर, 2019 तक इस लक्ष्य को प्राप्त करने का आग्रह किया था जिसके पालन में बिलासपुर ने इस लक्ष्य को दो वर्ष पूर्व ही हासिल कर लिया।

केंद्रीय शहरी विकास सचिव श्री दुर्गा शंकर मिश्रा ने इस उपलब्धि के लिए राज्य सरकार एवं नगर पालिक निगम बिलासपुर को प्रेषित अपने बधाई संदेश में कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार देश में ऐसी एकमात्र सरकार है जो शहरी क्षेत्रों में निजी शौचालय निर्माण हेतु 13,300 रु का अंशदान प्रदान करती है। उन्होंने बताया कि बिलासपुर शहर में केंद्र सरकार के विशेष जाँच दल द्वारा 2 दिन तक आकस्मिक एवं 1 दिन तक घोषित जाँच की गयी। जाँच में यह पाया गया कि नगर निगम द्वारा खुले में शौच की कुप्रथा को रोकने के लिए लगभग 4300 निजी शौचालय, 67 सार्वजनिक शौचालय बनाए गये और उनका रखरखाव अच्छा होना पाया गया। इसके साथ ही जाँच दल द्वारा शहर के हर वर्ग के कुल 623 लोगों का गुप्त फ़ीडबैक लिया गया जिसमें यह बात सामने आयी की बिलासपुर शहर खुले में शौच की कुप्रथा से मुक्त घोषित होने योग्य है। जाँच दल द्वारा गोपनीय रूप से शहर के 37 vulnerable locations और घोषित रूप से 20 स्थानों की जाँच में भी परिणाम संतोषजनक पाए गये।

logo1महापौर श्री किशोर राय ने शहरवासियों और निगमकर्मियों को बधाई देते हुए इस उपलब्धि को स्वच्छता की दिशा में बिलासपुर नगर निगम का एक ठोस क़दम बताया। उन्होंने विशेष रूप से उन परिवारों को धन्यवाद दिया जिन्होंने अपने झुग्गी में जगह का अभाव होते हुए भी शौचालय का निर्माण करवाया और अपने व्यवहार में परिवर्तन लाकर शहर को यह उपलब्धि दी।

LEAVE A REPLY