संवाददाता:- रितेश गुप्ता
करगीरोड कोटा:– गुजरात चुनाव में भले ही कांग्रेस की सरकार ना बनी हो पर गुजरात में जिस तरह से कांग्रेस ने प्रदर्शन किया है एक प्रकार से कांग्रेस के वर्तमान अध्यक्ष राहुल गांधी सहित कांग्रेस कार्यकर्ताओं के लिए संजीवनी का काम हुआ है पूरे देश के कांग्रेस के कार्यकर्ता मैं ऊर्जा का संचार हुआ है इसी कड़ी में कोटा विधानसभा के ब्लाक अध्यक्ष संदीप शुक्ला द्वारा कोटा नगर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं का एक प्रकार से सम्मेलन किया गया जिसमें कोटा रतनपुर सहित आसपास के कार्यकर्ताओं की उपस्थिति रही साथ में कांग्रेस की महिला कार्यकर्ताओं की भी उपस्थिति रही शुरूआती उद्बोधन में एक दूसरे को गुजरात चुनाव में कांग्रेस पार्टी के बेहतर प्रदर्शन को लेकर शुभकामनाओं के साथ कोटा विधानसभा में आने वाले 2018 चुनाव की तैयारी के साथ कांग्रेस कार्यकर्ताओं में गुटबाजी भी दिखी वर्तमान में कुल सचिव पद से इस्तीफा देकर कांग्रेस प्रवेश करने वाले कांग्रेस नेता शैलेश पांडे सहित उनका पूरा ग्रुप ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष द्वारा बुलाई गई बैठक में अनुपस्थिति के सवाल पर कुछ कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने बताया कि उन्हें सूचना दिया गया था पर उनका पहले से कुछ तयशुदा कार्यक्रम था।
इसलिए वह अनुपस्थित है बाकी लोगों के बारे में पूछा गया जो कोटा नगर के वरिष्ठ कांग्रेसी के श्रेणी में आते हैं,उनकी अनुपस्थिति भी चर्चा का विषय रहा। साथ ही वर्तमान कांग्रेस की विधायिका रेणु जोगी के अनुपस्थिति के बारे में भी पूछने पर पता चला कि उन्हें बैठक की सूचना ही नहीं दिया गई।
बैठक में कांग्रेस कार्यकर्ताओं की नाराजगी भी दिखाई पड़ी वर्तमान कोटा विधानसभा मैं जोगी कांग्रेस का उदय होने के बाद उसके बाद कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का जोगी कांग्रेस में जाना उसके बाद शैलेश पांडे का कांग्रेस प्रवेश करने के बाद कोटा विधानसभा में उनकी सक्रियता से पुराने कांग्रेस के कार्यकर्ता जो की कोटा विधानसभा के दावेदार भी हैं वर्तमान विधायिका के कांग्रेस में बने रहने को लेकर भी पुराने कांग्रेस के कार्यकर्ताओं में संशय की स्थिति है,चूंकि पिछले दिनों छत्तीसगढ़ जोगी कांग्रेस के नेता अजीत जोगी द्वारा धमतरी प्रवास के दौरान रेणु जोगी के,जोगी कांग्रेस में प्रवेश की बात कही गई थी,चुकि अभी कुछ तकनीकी खामियां हैं जाने में इसलिए वर्तमान विधायिका द्वारा अपना कार्यकाल पूरा करने के बाद हो सकता है,प्रवेश करें,इसके जवाब में कोटा विधायिका रेणु जोगी द्वारा कहा गया कि अजीत जोगी जी के ये व्यक्तिगत विचार हैं क्योंकि मैं वर्तमान में कांग्रेस की विधायिका हूं ,भविष्य का मुझे पता नहीं कि आगे में चुनाव लड़ूंगी या नहीं लड़ूंगी पर फिलहाल मैं अभी कांग्रेस की सिपाही हूं।
वर्तमान स्थिति को देखते हुए कोटा विधानसभा के कांग्रेस मैं दावेदार भी भरे पड़े हैं साथ ही कांग्रेस कार्यकर्ताओं में गुटबाजी भी दिखाई दे रही है ,एक तरफ पुराने कांग्रेसी कार्यकर्ताओं का कहना है कि वर्तमान में कांग्रेस पार्टी को कोटा विधानसभा में समानांतर चलाने की कोशिश की जा रही है,व्यक्ति विशेष द्वारा कांग्रेस पार्टी के कोटा विधानसभा में होने वाले कार्यक्रमों की जानकारी बाकी कार्यकर्ताओं को नहीं दी जाती है जिससे कांग्रेस कार्यकर्ताओं में भारी नाराजगी है, वहीं पर कुछ वरिष्ठ कांग्रेस जनों का कहना था कि कोटा विधानसभा को इस बार चारागाह नहीं बनने दिया जाएगा वर्तमान में जिस हिसाब से कोटा विधानसभा में व्यक्ति विशेष द्वारा पूरा अभियान चलाया जा रहा है एक प्रकार से गुटबाजी को बढ़ावा दिया जा रहा है, कांग्रेस के पुराने कार्यकर्ताओं को महत्व नहीं दिया जा रहा है जिससे आने वाले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी को भारी नुकसान हो सकता है,और आगे भी यही रवैया अगर रहा तो कार्यकर्ताओं की नाराजगी भी उठानी पड़ सकती है,और वर्षों का जो इतिहास रहा है ,कोटा विधानसभा का जो कि कांग्रेस का गढ़ रहा है कहीं ऐसा ना हो आपसी लड़ाई और गुटबाजी के चक्कर में कहीं गढ़ टूट ना जाए, इसलिए समानांतर ना चलाते हुए सबको साथ लेकर चलने की बात कही गई कोटा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष की नई नियुक्ति को लेकर वर्तमान ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष संदीप शुक्ला से पूछा गया कि कांग्रेस में कोई नई गाइडलाइन आई है,क्या की 1 विधानसभा में दो-दो ब्लॉक अध्यक्ष की नियुक्ति हो रही है, इस बारे में कोटा विधान सभा ब्लाक अध्यक्ष संदीप शुक्ला द्वारा अनभिज्ञता जाहिर की गई उन्होंने कहा कि वर्तमान में वही कोटा विधानसभा ब्लाक अध्यक्ष है। और जिनके बारे में बात की जा रही है वह सरासर गलत है यह अफवाह कौन फैला रहा है यह जांच का विषय है अगर वर्तमान में किसी की नियुक्ति हुई है उसकी जानकारी कार्यकर्ताओं को देनी चाहिए कुल मिलाकर 2018 का कोटा विधानसभा चुनाव काफी दिलचस्प होने वाला है कांग्रेस में इस तरह से चलने वाली गुटबाजी का फायदा भारतीय जनता पार्टी उठाना चाहेगी पर वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी में भी कोटा विधानसभा के टिकट को लेकर भी बहुत सारे दावेदार सामने आ रहे हैं जो कि स्थानीय हैं ,अगर इस बार भारतीय जनता पार्टी से कोई बाहर का प्रत्याशी लडाया जाएगा तो हो सकता है भारतीय जनता पार्टी में भी उहापोह की स्थिति बने,वहीं पर तीसरे विकल्प के रूप में कोटा विधानसभा में आम आदमी पार्टी चुनाव लड़ने जा रही है हो सकता है कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी में होने वाली गुटबाजी की स्थिति में आम आदमी पार्टी को तीसरे विकल्प के रुप में कोटा विधानसभा की जनता स्वीकार करती है,कि नहीं यह तो 2018 में पता चल ही जाएगा।
बैठक में ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष संदीप शुक्ला,सहित अरुण चौहान, कुलवंत सिंह,वादिर खान,नीरज जायसवाल,आनंद अग्रवाल ,देवेंद्र कश्यप, रज्जब खान,माया मिश्रा, रिंकू ठाकुर जनपद सदस्य,सहित 60 कांग्रेस के कोटा विधानसभा के कार्यकर्ताओं की मौजूदगी रही।

LEAVE A REPLY