सामाजिक सौहार्द को बढ़ाने में मेलों की अहम् भूमिका: परमार
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा..आधुनिक स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध करवाना मेरा ध्येय

धर्मशाला, 15 फरवरी,निशा कटोच img-20180215-wa0022: स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री विपिन सिंह परमार ने सभी को शिवरात्रि पर्व की शुभकामनायें देते हुये कहा कि शिवरात्रि का यह पर्व लोगांे की भगवान शिव में अटूट आस्था एवं अपार श्रद्धा का पर्व है। यह पर्व व्यक्तिगत बुराइयों एवं समाज में व्याप्त कुरीतियों को त्याग कर लोगों में प्रेम, विश्वास एवं सहिष्णुता की भावना को बल देता है। वे आज सुलह विधानसभा क्षेत्र के ननाओं में अक्षेैणा महादेव मंदिर में महाशिवरात्रि पर्व के उपलक्ष्य पर आयोजित तीन दिवसीय जिला स्तरीय मेले के समापन समारोह की अध्यक्षता करते हुए बोल रहे थे।
 
अक्षैणा महादेव मंदिर के सौंदर्यकरण को दिए 10 लाख 
विपिन परमार ने अक्षैणा महादेव मंदिर के सौंदर्यकरण के लिए 10 लाख रुपए देने की घोषणा करते हुए कहा कि हिमाचल सरकार मंदिरों के सौन्दर्यकरण और उनमें विभिन्न सुविधाएं विकसित करने पर बल दे रही है। इस मौके उन्होंने स्थानीय मेला कमेटी को 11 हजार रुपए देने की घोषणा भी की। उन्होंने कहा कि प्रदेश में वर्ष भर विभिन्न अवसरों पर मेलों का आयोजन किया जाता है जो समाज में समरसता और मेलजोल की संस्कृति को बढ़ावा देते हैं साथ ही हमारी समृद्व संस्कृति एवं परम्पराओं का संरक्षण एवं संवर्धन भी करते हैं। 
 उन्होंने कहा कि हिमाचल सरकार प्रदेश की समृद्ध संस्कृति के संरक्षण एवं बढ़ावा देने के लिये प्रतिबद्ध है तथा प्रदेश भर में विभिन्न स्थानों पर अलग-अलग अवसरों पर आयोजित होने वाले मेलों के आयोजनों के लिए पर्याप्त धनराशि उपलब्ध करवाई जा रही है।
इस दौरान स्वास्थ्य मंत्री ने वालीबॉल, कब्बडी इत्यादि खेल प्रतियोगिताओं प्रतियोगिताओं में विजेता रहे खिलाडियों को पुरस्कार वितरित कियेे। मेले के दौरान लोगों के मनोरंजन के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये। उन्होंने मेले के दौरान विभिन्न विभागों द्वारा लगाई गई प्रदर्शनियांे का अवलोकन किया तथा उनकी सराहना की।
इससे पूर्व, स्वास्थ्य मंत्री ने अक्षैणा महादेव मंदिर में पूजा अर्चना की।
इस अवसर पर मन्दिर मेला कमेटी के अध्यक्ष पदम सिंह परमार ने स्वास्थ्य मंत्री का स्वागत किया तथा मेले के दौरान आयोजित की जा रही विभिन्न गतिविधियों की जानकारी भी दी।
एचआरटीसी बस सेवा को दिखाई हरी झंडी, इलेक्टिक वाहन को भी किया रवाना
विपिन परमार ने इसके उपरांत क्षेत्र में बेहतर परिवहन व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए एचआरटीसी की 4 नई बस सेवाओं को हरी झंडी दिखाई। ये बस सेवाएं ननाओं से धर्मशाला, काहनपट्ट से धर्मशाला, पालमपुर से शिमला और पालमपुर से परवाणु वाया सुलह,धीरा,ककड़ैं रूट पर चलेंगी। उन्होंने इसके अलावा सुलह क्षेत्र के लिए इलेक्टिक वैन सेवा का शुभारंभ किया और इस मौके एक इलेक्टिक वैन को हरी झंडी दिखा कर रवाना किया। उहोंने कहा कि शीघ्र ही क्षेत्र में 4 और इलेक्ट्रिक वाहन सेवाएं देंगे। इससे लोगों को तो सहुलियत होगी ही, पर्यावरण को नुकसान से बचाया जा सकेगा।
 
आधुनिक स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध करवाना ही मेरा ध्येय
   अपने सम्बोधन में स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि लोगों को उनके घरद्वार के समीप बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं सुनिश्चित बनाने के हर सम्भव प्रयास किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग ऐसा विभाग है, जो प्रदेश के हर व्यक्ति से जुड़ा है और प्रदेश के हर आदमी को बेहतर, गुणात्मक तथा आधुनिक स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध करवाना ही मेरा ध्येय है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने जीवनरक्षक दवाइयां सस्ती दरों पर लोगों को उपलब्ध हों, इसके लिए निर्देश दिये हैं। उन्होने कहा कि प्रदेश सरकार यूनिवर्सल हैल्थ स्कीम के तहत हर दिन एक रुपये के नाममात्र प्रीमियम पर आम परिवारों को स्वास्थ्य बीमा कवर दे रही है। इस योजना के तहत बीमित परिवार साधारण रोगों में 30 हजार रुपये व गंभीर रोगों में पौने दो लाख रुपये तक का इलाज निःशुल्क करवा सकते हैं।
परमार ने सुनी जन समस्याएं
इसके उपरांत स्वास्थ्य मंत्री ने ननाओं में लोगों की समस्याओं को सुना। उन्होंने अधिकतर समस्याओं का मौके पर ही निपटारा कर दिया और शेष समस्याओं के निपटारे के लिए सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये।  उन्होंने कहा कि अधिकारी समयबद्ध लोगों की समस्याओं का निपटारा करें ताकि उन्हें किसी भी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पडे़।
इस अवसर पर तहसील धीरा के पटवार एवं कानूनगो संघ ने मुख्यमंत्री राहत कोष के लिये स्वास्थ्य मंत्री को 3100 रूपये का ड्रॉफ्ट भेंट किया। 
इस अवसर पर जयसिंहपुर के विधायक रविन्द्र धीमान, बैजनाथ के विधायक मुलख राज प्रेमी, भाजपा जिलाध्यक्ष विनय शर्मा, मण्डलाध्यक्ष देशराज शर्मा, महामंत्री एवं खादी बोर्ड के सदस्य चन्दरवीर पॉल, एसडीएम पालमपुर पंकज शर्मा, कुलविंदर परमार, केवल कृष्ण परमार, ओम परमार, सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी तथा अधिक संख्या में स्थानीय लोग मौजूद थे।
 

LEAVE A REPLY