sunami-logo-24x7उत्तर प्रदेश में काफी दिनों से चल रही राजनैतिक उठापठक में आज एक नया अध्याय जुड़ गया जब प्रतापगढ़ के पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष प्रमोद मौर्य जो वर्तमान भाजपा सरकार में कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य के भतीजे भी है।
क्यों उपजी है समस्या में अगर ध्यान दिया जायेतो
उत्तर प्रदेश में स्वामी प्रसाद को एक मामूली मंत्रालय दिया गया है जिससे स्वामी कुछ नाराज़ जरूर रहे है वह अलग बात है कि उन्होंने कभी खुलकर इसपर बात नही की
सूत्रों की माने तो स्वामी चाहते है कि उनके सुपुत्र को इलाहबाद से टिकट मिले लेकिन इसकी सम्भवना भी कम है।
साथ ही आज भी केशव प्रसाद मौर्य और स्वामी प्रसाद मौर्य की तुलना की जाये तो स्वामी आज भी अपने समाज के बड़े नेता है।
गौरतलब है कि फ़िलहाल स्वामी तो पार्टी नही छोड़ेंगे लेकिन जिस प्रकार उनके भतीजे ने कहा है कि चाचा भी आएंगे क्योकि उनको तव्वजों नही दी जा रही है।
देखना दिलचस्प है कि केशव मौर्य और योगी आदित्यनाथ के बीच में शीत युद्ध बागी चल रहा है। जो बहुत बड़ा रोल उत्तर प्रदेश और भाजपा की राजनीती में भूचाल ला सकता है।

LEAVE A REPLY