इराक (मोसुल ) में आतंकी संगठन आईएसआईएस द्वारा मारे गए पार्थिव अवशेष सोमवार दोपहर बाद पंजाब के अमृतसर हवाई अड्डे पर पहुंचेंगे

इराक (मोसुल ) में आतंकी संगठन आईएसआईएस द्वारा मारे गए 39 भारतीयों में से 38  के पार्थिव अवशेष चार साल बाद वतन पहुंचेंगे।

इसमें चार हिमाचली हैं। विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह विशेष विमान से पार्थिव अवशेष लेकर सोमवार दोपहर बाद पंजाब के अमृतसर हवाई अड्डे पर पहुंचेंगे।

कांगड़ा जिले के धमेटा के संदीप राणा (38), धर्मशाला के पास्सू के अमन कुमार (31), देहरा के कदरेटी के इंद्रजीत (32) और मंडी के सुदंरनगर के बायला निवासी हेमराज (32) के पार्थिव अवशेष लेने के लिए खाद्य आपूर्ति मंत्री किशन कपूर, उपायुक्त कांगड़ा संदीप कुमार और एसडीएम फतेहपुर अमृतसर रवाना हो गए हैं।

अमृतसर से सड़क मार्ग से चारों शवों को कांगड़ा लाया जाएगा। इसके बाद इन्हें पैतृक गांवों की ओर रवाना किया जाएगा। उपायुक्त कांगड़ा ने बताया कि परिजनों को पार्थिव अवशेष मंगलवार को ही सौंपे जाएंगे। उसी दिन उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।

बता दें कि प्रदेश के चार युवक वर्ष 2013 में परिवार को गरीबी से उबारने के लिए इराक के मोसुल शहर गए थे।

सभी तारिक नूर अलहुदा कंस्ट्रक्शन कंपनी में कार्यरत थे। वर्ष 2014 में आईएसआईएस आतंकियों ने 39 भारतीयों समेत इन चार युवकों के अपहरण के बाद हत्या कर दी थी। 20 मार्च 2018 को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने राज्यसभा में इनकी हत्या की जानकारी दी। पिछले 12 दिनों से पीडि़त परिवार अपने लाडलों के पार्थिव अवशेषों का इंतजार कर रहे थे।

LEAVE A REPLY