बिलासपुर !! डबल लेंन सड़क के निर्माण से लोगो को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा !!img-20180610-wa0177

 

 

*विनोद चड्ढा कुठेड़ा*

 

घुमारवीं में डबल लेंन सड़क के निर्माण से लोगो को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इस सड़क के निर्माण से गाँव के लिए जाने वाला संपर्क मार्ग पूरी तरह से तहस-नहस हो गए है। जिस तरफ न तो विभाग और न ही सड़क निर्माण कर रही कंपनी ध्यान दे रही है।

नगर परिषद के वार्ड ने एक के अंतर्गत आने वाले गांव के सुनील कुमार, सत्या देवी, संजीव कुमार, अशोक कुमार, रत्न लाल, जमना देवी,

 

रेशमा देवी, संतोष कुमार, पप्पी आदि ने आरोप लगाते हुए कहा कि एनएच के अधिकारियों व कंपनी के लोगों की आपस में सांठगांठ हो गई है, जोकि स्थानीय लोगो पर भारी पड़ रही है। उन्होंने  बताया कि घुमारवी लोक निर्माण विभाग के विश्राम गृह के थोड़ा नीचे एनएच 103 से शासन गांव को रास्ता व संपर्क मार्ग जाता है।

 

डबल लेन सड़क के निर्माण के बाद रास्ता सड़क से लगभग पांच फुट नीचे चला गया है। जिस पर गांववासियों ने जब डबल लेन सड़क का कार्य चला हुआ था तो एनएच के अधिकारियों व कंपनी के नुमाइंदो से गुहार लगाई थी कि इस रास्ता व संपर्क मार्ग पर पाईप डाल दी जाए। बारिश का पानी न रूके क्योंकि पहले भी इस जगह पर पाईपे पड़ी थी। जिनके द्धारा गांव का पानी निकल जाता था।  लोगो का कहना है कि बरसात की पहली बारिश से इस संपर्क मार्ग पर पानी का ठहराव हो जाने के कारण इस मार्ग पर अब चलना भी मुश्किल हो गया है। जबकि कई बार इस समस्या को लेकर विभागीय अधिकारी एवम नगर परिषद की अध्यक्षा गीता महाजन को भी अवगत करवा कर मौका भी दिखाया था।

 

स्थानीय लोगों ने फिर से विभाग व नगर परिषद की अध्यक्षा से आग्रह किया है कि इस संपर्क मार्ग पर पाईपे डाली जाए। जो पानी ठहरा हुआ है उससे निजात मिल सके। नगर परिषद की अध्यक्षा गीता महाजन ने कहा कि शीघ्र एनएच के अधिकारियों को मौके पर बुलाकर स्थिति का जायजा लिया जाएगा। सख्त निर्देश दिए जाएंगे कि सड़क के निर्माण से पहले जैसी सुविधाएं लोगों को मिलती थी उसे यथावत रखा जाए। समस्याओं का समाधान करे जिससे लोगों को परेशानी न उठानी पड़े।

 

एनएच के एसडीओ धर्म चंद वर्मा ने कहा कि जहाँ भी डबल लेन सड़क बनने से लोगो के रास्ते व संपर्क मार्ग प्रभावित हुए है उन जगहों का निरीक्षण किया जाएगा। जिससे जहाँ जरूरत होगी वहाँ दोबारा कार्य किया जाएगा।

LEAVE A REPLY