कौशाम्बी
जनपद मुख्यालय की नगर पंचायत इन दिनों काफी चर्चा में है।
लगातार चल रहे अधिशासी अधिकारी और नगर पंचायत विवाद के साथ सरकारी भूमि की बिक्री और खरीद के मामले ने भी नगर पंचायत कार्यालय के कामकाज के तरीकों पर सवाल उठाए है।
नगर पंचायत की ग्राम सभा पाता कि भूमि संख्या -377 जिसका रकबा- 0.662 है जो कि अभिलेखो में नवीन परती दर्ज है जो पूर्णतः नगर पंचायत के प्रबंध व नियंत्रण में हैं के img-20180618-wa0023 भू भाग में चायल तहसील निवासी एक व्यक्ति द्वारा मकान निर्माण दिसम्बर2017 में कराया जा रहा था
उस निर्माण को लेकर कार्यालय ने कार्यवाही के लिए प्रयास किया और प्राथमिकी भी दर्ज कराई गई लेकिन मकान का निर्माण नही रुका
चायल निवासी कब्जाधारी ने बताया कि उसने जमीन स्थानीय एक भूमाफिया से खरीदी है
आज तहसीलदार सदर ने पुलिस व राजस्व विभाग की स्थानीय टीम को हो रहे निर्माण को रोकने के लिए आदेशित भी किया
उधर नवनिर्वाचित नगर पंचायत अध्यक्ष की माने तो पूर्व के शासनकाल में हुए इस कारनामे में नगर पंचायत कार्यालय की भूमिका संदिग्ध है
उनके अनुसार यदि सही तरीके से जांच हो तो तमाम सरकारी भूमि में तमाम भूमाफियाओ ने कब्जा कर बेचा और खरीदा है।

LEAVE A REPLY