लोकसभा आमचुनाव नज़दीक आने पर ’’पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे’’ की आधारशिला
रखना जनता के साथ छलावा जबकि इस पुरानी परियोजना को अगर प्रधानमंत्री
श्री नरेन्द्र मोदी सरकार सन् 2014 में अपनी सरकार बनने के कुछ समय बाद
इसको लागू कर देती तो अब शिलान्यास करने के बजाय इसका उद्घाटन हो
सकता था और लोगों को इसका लाभ मिलता, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।
 इसके साथ-साथ अब गोरखपुर व बुन्देलखण्ड एक्सपे्रस-वे की भी बनाने की मात्र
खोखली बात करना यह सब भी जनता के साथ छलावा नहीं है, तो और क्या है?
(2) ’’पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे’’, ’’जेवर अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा’’ व ग्रेटर नोएडा से
बलिया तक 8-लेन वाली ’’गंगा एक्सप्रेस-वे’’ आदि की रूपरेखा बी.एस.पी. की
सरकार में ही काफी पहले तैयार करके इस पर आधारभूत काम भी शुरू करवा
दिया था तथा ’’ताज एक्सप्रेस-वे’’ को पूरा कराया था।
 हालांकि बाकी इन सब कार्यों को भी काफी हद तक बी.एस.पी. की सरकार में ही
पूरा किया जा सकता था, यदि उस समय की केन्द्र की कांग्रेसी सरकार इन सब
कार्यों को करने के लिये हमें एन.ओ.सी. दे देती, लेकिन ऐसा नहीं किया गया।
यह सभी जानते हैं।
(3) साथ ही बी.एस.पी सरकार द्वारा ’’पूर्वांचल’’ के विकास के लिये आधारभूत फैसले
लेकर मिर्जापुर व बस्ती को अलग मण्डल व चन्दौली को अलग ज़िला बनाया
गया तथा अनेकों नई तहसीलें भी बनाई गई। इसके साथ-साथ ’’पूर्वांचल’’ को
अलग राज्य बनाने का भी ठोस बुनियादी काम किया गया।
(4) केन्द्र सरकार उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल व बुन्देलखण्ड क्षेत्र के विकास के लिये
तत्काल ’विशेष सहायता’ प्रदान (स्वीकृत) करे, बी.एस.पी. की मांग।
(5) बीजेपी सरकार अपराध-नियंत्रण व क़ानून-व्यवस्था के साथ-साथ जनहित,
जनकल्याण व विकास आदि के मामलों को संकीर्ण व छलावे वाली चुनावी राजनीति
से ऊपर उठकर व्यापक जनहित में काम करे, तो बेहतर होगा:
लखनऊ, 14 जुलाई 2018: अब जबकि लोकसभा का आमचुनाव नज़दीक आ गया ह ै
तो केन्द्र व उत्तर प्रदेश में बीजेपी सरकार को विभिन्न योजनाओं को शीन्यास की स ूझी ह ै
हालाँकि इस प ्रकार के चुनावी फ ैसलों को आमजनता इन्हें छलावा के रूप म ें ही देखती ह ै और
इसी क्रम में प ्रधानम ंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा आज आज़मगढ ़ में ’’पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे’’ की
आधारशिला रखी गयी है, जबकि ’’जेवर अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा’’ सहित ग्रेटर नोएडा स े
बलिया तक 8-लेन वाली ’’गंगा एक्सप्रेस-वे’’ आदि की रूपरेखा बी.एस.पी. की सरकार म ें ही
तैयार करके इस पर आधारभूत काम भी शुरू कराया गया था, यह सभी जानते हैं। इसी क्रम म ें
’’ताज एक्सप्रेस-व े’’ का प ूरा काम बी.एस.पी. सरकार म ें ही प ूरा किया गया था। हालांकि बाकी
इन सब कार्यों को भी काफी हद तक बी.एस.पी. की सरकार में ही प ूरा किया जा सकता था,
यदि उस समय की केन्द्र की कांग ्रेसी सरकार इन सब कार्यों को करने के लिय े हम ें एन.ओ.सी.
दे देती, लेकिन ए ेसा नहीं किया गया। यह सभी जानते हैं।
बी.एस.पी. की राष्ट्रीय अध्यक्ष, उत्तर प्रदेश की पूर्व म ुख्यमंत्री व पूर्व सांसद सुश्री मायावती
जी ने कहा कि च ुनावी आश्वासनों व कोरी राजनीतिक बयानबाज़ियों स े उत्तर प ्रदेश का
पिछड़ापन व यहाँ के लोगों की जबर्दस्त ग़रीबी, कुण्ठा प ैदा करने वाली ब ेरा ेज़गारी व महंर्गाइ
की मार कम होने वाली नहीं है, बल्कि इसके लिय े योजनाबद्ध तरीके स े लगातार प ूरी लगन व र्
इ मानदारी के साथ काम करने की जरूरत है, जो इच्छाशक्ति बीजेपी की केन्द्र व राज्य
सरकारों म ें जनता को कर्तइ भी दिर्खाइ नहीं पड़ रही है।

जबकि उत्तर प ्रदेश के प ूर्वांचल क्षेत्र के सम ुचित विकास के लिय े बी.एस.पी. की सरकार
ने सबस े पहल े वहाँ की प ्रशासनिक इकाइयों का प ुनर्गठन किया आ ैर इस क्रम म ें मिर्ज़ाप ुर व
बस्ती को सन् 1997 में अपने द ूसरे शासनकाल में ही नया मण्डल बनाया व चन्दौली को नया
ज़िला बनाया तथा दर्जनों नय े तहसील भी बनाय े। इतना ही नहीं बल्कि पूर्वांचल का विकास
स ुचारू रूप स े करने क े लिए केन्द्र सरकार स े लगभग 36 हजार करोड़ रूपय े की योजना
बनाकर ’विशेष आर्थिक पैकेज’ की माँग की तथा इस पिछड़े हुय े क्षेत्र म ें अबाध विकास का े
स ुनिश्चित करने ह ेतु अलग स े ’’पूर्वांचल’’ राज्य बनाने का भी प ्रस्ताव विधानसभा से पारित
करके केन्द्र सरकार क े पास भेजा जो अभी भी केन्द्र सरकार के पास लम्बित पड़ा है।
स ुश्री मायावती जी ने कहा कि अब केन्द्र व उत्तर प ्रदेश म ें भी बीजेपी की सरकार ह ै ता े
ख़ासकर उत्तर प ्रदेश के प ूर्वांचल व ब ुन्देलखण्ड क्षेत्र के विकास के लिय े उस े ’विशेष
सहायता’ अवश्य म ंजूर करनी चाहिय े, ताकि बीजेपी का यह ख़ास चुनावी वायदा पूरा हो सक े
कि केन्द्र व राज्य म ें बीजेपी की सरकार बन जाने पर यहाँ के लोगों की ग़रीबी व विकास की
समस्या पूरी तरह स े हल कर दी जाय ेगी। व ैस े इस मामल े म ें अब तक का अनुभव तो काफी
कड़वा ही नहीं बल्कि एक छलावा ही लोगों को लगता है।
इसके अलावा बीजेपी की सरकार म ें सरकारी अ ंशदान के बजाय ज़्यादातर धन कर्ज क े
रूप म ें ल ेकर कराय े जा रहे हैं, जिसस े हर स्तर पर आमजनता पर बोझ बढ ़ेगा। ’’गंगा
एक्सप ्रेस-व े’’ के लिये बी.एस.पी. सरकार ने 25,000 करोड़ रूपय े का प्रावधान रखा था जबकि
पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे हेतु बीजेपी की प ्रदेश सरकार द्वारा 12,000 करोड़ रूपया ब ैंकों स े कर्ज
ल ेकर किया जायेगा। क्या इस सम्ब ंध म ें राज्य सरकार वित्तीय अनुशासन दिखाकर बजटीय
प ्रावधान नहीं कर सकती थी? इतना ही नहीं बल्कि इस बारे म ें केन्द्र की श्री नरेन्द्र मोदी
सरकार की भूमिका नगण्य क्यों है?
साथ ही ’’पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे’’ र्कोइ नया नहीं बल्कि यह एक पुरानी परियोजना ह ै।
प ्रधानम ंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की सरकार सन् 2014 म ें अपनी सरकार बनने के बाद अगर इस
परियोजना को सही समय से लागू कर देती तो अब इस चुनाव के समय इसका शिलान्यास
करने के बजाय इसका उद्घाटन हो सकता था, ल ेकिन ए ेसा नहीं ह ुआ क्योंकि हर काम का े
ठीक चुनाव के समय में ही करके जनता को छलने की प ुरानी परम्परा पर यह बीजेपी सरकार
म ें भी कायम है। इसके साथ-साथ अब गोरखप ुर व ब ुन्देलखण्ड एक्सपे्रस-व े की भी बनाने की
मात्र खोखली बात करना यह सब भी जनता के साथ छलावा नहीं है, तो और क्या है?
इसके साथ-साथ बी.एस.पी. की यह भी माँग है कि बीजेपी की केन्द्र व राज्य सरकारें
अपराध-निय ंत्रण व क़ान ून-व्यवस्था के साथ-साथ जनहित, जनकल्याण व विकास के मामलों
को स ंकीर्ण व छलावे वाली चुनावी राजनीति स े ऊपर उठकर व्यापक जनहित में काम करे, तो
यह ब ेहतर होगा। व ैस े भी देश व प ्रदेश की आमजनता ने इस बारे म ें सोचना शुरू कर दिया ह ै
तथा अब और ज़्यादा इनके बहकाव े में आने वाली नहीं है।

LEAVE A REPLY